"हाइकु"सावन शोर

08 अगस्त 2018   |  महातम मिश्रा   (54 बार पढ़ा जा चुका है)

"हाइकु"


सावन शोर

साजन चित चोर

नाचत मोर।।-१


कंत न भूला

सावन प्रिय झूला

जी प्रतिकूला।।-२


सासु जेठानी

ससुर अभिमानी

सावन पानी।।-३


क्यों री सखिया

सावन की बगिया

परदेशिया?।।-४


बूँद भिगाए

भर सावन आए

पी बिछलाए।।-५


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: “मुक्तक” बदला हुआ मौसम बहक बरसात हो जाए।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 अगस्त 2018
कहते हैं मेरा वतन बात-बात में वाण। आतंकी के देश से आया कैसे गैर- मिला मंच खैरात का नृत्य कर रहा भाण॥-१ लेकर आओ हौसला हो जाए दो हाथ। क्यों करते गुमराह तुम सबके मालिक नाथ। बच्चे सभी समान हैं तेरे मेरे लाल- उनसे छल तो मत करों खेलें खाएँ साथ॥-२शौर्य तुम्हारा देखता सीधा सकल ज
10 अगस्त 2018
30 जुलाई 2018
"छंद रोला मुक्तक”पहली-पहली रात निकट बैठे जब साजन।घूँघट था अंजान नैन का कोरा आँजन।वाणी बहकी जाय होठ बेचैन हो गए-मिली पास को आस पलंग बिराजे राजन।।-१खूब हुई बरसात छमा छम बूँदा बाँदीछलक गए तालाब लहर बिछा गई चाँदी। सावन झूला मोर झुलाने आए सैंया-
30 जुलाई 2018
06 अगस्त 2018
“कुंडलिया”पकड़ो साथी हाथ यह हाथ-हाथ का साथ। उम्मीदों की है प्रभा निकले सूरज नाथ।।निकले सूरज नाथ कट गई घोर निराशा। हुई गुफा आबाद जिलाए थी मन आशा॥ कह गौतम कविराय कुदरती महिमा जकड़ो। प्रभु के हाथ हजार मुरारी के पग पकड़ो॥-१बारिश में छाता लिए डगर सुंदरी एक। रिमझिम पवन फुहार नभ पथ
06 अगस्त 2018
01 अगस्त 2018
“पिरामिड”रे हवा बदरी आसमान साँझ विहान पावस रुझान घटता तापमान॥-१ रीबाढ़ निगोरी भीगी ओरीरूप अघोरीपागल बदरी गिरा गई बखरी॥-२ महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
01 अगस्त 2018
02 अगस्त 2018
“कुंडलिया”इनका यह संसार सुख भीग रहा फल-फूल। क्या खरीद सकता कभी पैसा इनकी धूल॥ पैसा इनकी धूल फूल खिल रिमझिम पानी। हँसता हुआ गरीब हुआ है कितना दानी॥ कह गौतम कविराय प्याज औ लहसुन भिनका। ऐ परवर सम्मान करो मुँह तड़का इनका॥महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी
02 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x