दिल या दिमाग (भाग-१)

09 अगस्त 2018   |  pradeep   (104 बार पढ़ा जा चुका है)

कहते है कि जब दिल और दिमाग के बीच किसी मुद्दे को लेकर जंग चल रही हो तो दिल की बात सुननी चाहिए ना कि दिमाग की. ऐसी ही सोच लोगो को भक्ति की तरफ ले जाती है जहाँ लोग दिमाग से काम लेना बंद कर देते है. भक्ति योग और कर्म योग दोनों ही रास्ते मुक्ति की तरफ ले जाते है और अगर हम कहे कि यदि मौत का ही दूसरा नाम मुक्ति है तो वो हर उस को प्राप्त है जिसका जन्म हुआ है या जो पैदा हुआ है. जब मुक्ति हर एक को मिलनी ही है या मौत आनी ही है तो कोई भी योग क्यों किया जाए? पूजा, उपासना, प्रार्थना, इबादत किसी से भी मौत को टाला नहीं जा सकता, तो इसका लाभ क्या है ? जब व्यक्ति की सोच इस तरह हो जाती है तो वो नास्तिक हो जाता है. आज दुनिया की बहुत बड़ी आबादी नास्तिक है, जो किसी धर्म को नहीं मानती. चीन के 90 सदी लोग नास्तिक है, जापान और कोरिया में भले ही मरने पर बुद्धिष्ट तरीका अपनाये या ईसाई, पर आज का जापानी और कोरियन किसी भी धर्म में विश्वास नहीं रखता. अमेरिका, यूरोप कितने लोग है जो चर्च जाते है या प्रार्थना में शामिल होते है? सबसे ज्यादा धार्मिक लोग अरब देशो और भारतीय उपमहाद्वीप के लोग है.यही कारण है कि इन्ही देशो में अमीरी गरीबी की असमानता दूसरे देशो से ज्यादा है. धर्म के नाम पर हत्याएं इन्ही देशो में सबसे ज्यादा है. कोई धर्म युद्ध लड़ रहा है तो कोई जिहाद कर रहा है. सब धार्मिक हत्यारों के अपने तर्क है और वो उससे हटने को तैयार नहीं है. (आलिम)

अगला लेख: कर्म और त्याग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 अगस्त 2018
बीते कई दिनों से दिल्ली और उत्तर भारत के तमाम इलाकों से कांवड़ियों के उत्पात की खबरें आ रही हैं. आम लोगों से लेकर पुलिस तक की गाड़ियां तोड़ी गईं और लोगों से मारपीट की तमाम घटनाएं हुईं. कांवड़ियों के रूट से गुज़रने वाले तमाम लोग जहां इन घटनाओं से डरे हुए हैं, वहीं सोशल मीड
14 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
दिलकशी उनकी मूड और मॉडलिंग कब तलक यूँ जी को मेरे तड़पायेगी.है हज़ारो दीवाने नुमाइशी के उनके, आशिकी हमारी नज़र उनको क्यों आएगी, खामोश है हम भी देख उनकी बेरुखी, बयां करने से पहले जान यूँही जायेगी. (आलिम)
10 अगस्त 2018
11 अगस्त 2018
दि
दिगपाल, मेरे बचपन का साथी था, दोस्त था या यूँ कहे कि वो मेरा मुण्डू(बेबी सिटर) था. दरअसल दिगपाल हमारी मौसी का नौकर था, उसकी उम्र कितनी थी मैं नहीं जानता पर शायद 12 या 14 साल का रहा होगा. पहाड़ी था या नेपाली ये भी मुझे नहीं पता
11 अगस्त 2018
04 अगस्त 2018
समय का बोध सिर्फ उनको होता है जिनका जन्म होता है. जिसका जन्म हुआ हो उसकी मृत्यु भी निश्चित है और जन्म और मृत्यु के बीच जो है वो ही समय है. जन्म ना हो तो मृत्यु भी ना हो और समय भी ना हो. समय सिर्फ शरीर धारियों के लिए है , आत्मा के लिए नहीं. आत्मा
04 अगस्त 2018
08 अगस्त 2018
सच बोलने से गर डर लगता है यारो, झूठ ऐसा बोलो कि सच सामने आये. सच को बताने की अक्सर ज़रूरत तो नहीं होती, हाकिम ही गर हो झूठा,तो सच बताना ही पडेगा. (आलिम).
08 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
बब्बू की याद आज इस दौर में इसलिए आ गई कि आज किसी ऐतिहासिक चरित्र के बारे कुछ कह दो , लिख दो या फिल्म ही बना लो तो एक हंगामा हो जाता है. ना तो हम उस दौर में थे और ना ही हमने देखा है , कुछ उस वक्त के इतिहासकारों ने या कवियो
10 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
पू
पूजा, उपासना जो बिना स्वार्थ के किया जाए, बिना किसी फल की इच्छा से किया जाए, जो सच्चे मन से सिर्फ ईश्वर के लिए किया जाए वो पूजा सात्विक है , सात्विक लोग करते है. जो पूजा किसी फल की प्राप्ति के लिए की जाये, अपने शरीर को कष्ट द
06 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
दि
ना खुल जाए राज, हमको हमसफ़र बनाया है, छिपाने बेवफाई अपनी यूँ हमसे दिल लगाया है. खूबसूरत है जो वो क्योंकर न बेवफा न होंगे, हो दुनियां दीवानी जिनकी वो ही तो बेवफा होंगे.होते हम भी खूबसूरत तो शायद बेवफा होते, बदसूरती ने ही हमको वफ़ा
09 अगस्त 2018
01 अगस्त 2018
मै
ना तो धर्म तुमसे है, ना ही देश और जात तुमसे हैं. सिर्फ किसी देश में या किसी धर्म या जात में जन्म लेने में तुम्हारा अपना क्या योगदान है? तुम्हारी क्या महानता है? मेरे देश में महान लोगों ने जन्म लिया कहने भर से तुम महान नहीं हो जाते. स्वयं श्री कृष्ण
01 अगस्त 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x