दिल उनके हवाले

09 अगस्त 2018   |  pradeep   (20 बार पढ़ा जा चुका है)

ना खुल जाए राज, हमको हमसफ़र बनाया है,

छिपाने बेवफाई अपनी यूँ हमसे दिल लगाया है.

खूबसूरत है जो वो क्योंकर न बेवफा न होंगे,

हो दुनियां दीवानी जिनकी वो ही तो बेवफा होंगे.

होते हम भी खूबसूरत तो शायद बेवफा होते,

बदसूरती ने ही हमको वफ़ा करना सीखाया है.

है बिगड़े मिज़ाज़ उनके, और आँखे कातिल है,

देख हमको यूँ मुस्कुराना लगे बुझे तीर जैसा है.

लबों से पिलाया जाम और बेहोश कर दिया,

गर्म सांसों ने उनकी हमें यूँ मज़बूर कर दिया.

जानकार भी कि वो एक बेवफा ही तो है,

फिर भी अपना दिल उनके हवाले कर दिया. (आलिम)

अगला लेख: बब्बू (भाग-१)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 अगस्त 2018
Humne Ghar Chhoda Hai Lyrics from Dil is sung by Sadhana Sargam and Udit Narayan and written by Sameer. Music of Humne Ghar Chhoda Hai is composed by Anand and Milind.दिल (Dil )हमने घर छोड़ा है की लिरिक्स (Lyrics Of Humne Ghar Chhoda Hai )हमने घर छोड़ा हैहमने घर छोड़ा हैतेरे बिना जीना पड़ेदिन वह कभी
02 अगस्त 2018
04 अगस्त 2018
समय का बोध सिर्फ उनको होता है जिनका जन्म होता है. जिसका जन्म हुआ हो उसकी मृत्यु भी निश्चित है और जन्म और मृत्यु के बीच जो है वो ही समय है. जन्म ना हो तो मृत्यु भी ना हो और समय भी ना हो. समय सिर्फ शरीर धारियों के लिए है , आत्मा के लिए नहीं. आत्मा
04 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
पू
पूजा, उपासना जो बिना स्वार्थ के किया जाए, बिना किसी फल की इच्छा से किया जाए, जो सच्चे मन से सिर्फ ईश्वर के लिए किया जाए वो पूजा सात्विक है , सात्विक लोग करते है. जो पूजा किसी फल की प्राप्ति के लिए की जाये, अपने शरीर को कष्ट द
06 अगस्त 2018
02 अगस्त 2018
O Priya Priya Kyun Bhula Diya Lyrics from Dil is sung by Anuradha Paudwal and Suresh Wadkar and written by Sameer. Music of O Priya Priya Kyun Bhula Diya is composed by Anand and Milind.दिल (Dil )ओ प्रिया प्रिया क्यों भुला दिया की लिरिक्स (Lyrics Of O Priya Priya Kyun Bhula Diya )ओ प्रिया प्रिया
02 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
दि
कहते है कि जब दिल और दिमाग के बीच किसी मुद्दे को लेकर जंग चल रही हो तो दिल की बात सुननी चाहिए ना कि दिमाग की. ऐसी ही सोच लोगो को भक्ति की तरफ ले जाती है जहाँ लोग दिमाग से काम लेना बंद कर देते है. भक्ति योग और कर्म योग दोनों ही रास्ते मुक्ति की
09 अगस्त 2018
05 अगस्त 2018
बब्बू एक नाम है जो कभी कभी मेरे ज़हन में उभरता है. बब्बू मेरी सबसे बड़ी मौसी का लड़का था जिसकी दिमागी हालत ठीक नहीं थी, कभी कभी दौरे पड़ते थे तो उसे शायद बाँध दिया जाता था , वैसे ज्यादातर वो खुला रहता था, मुझे बचपन का सिर्फ इतना याद है जब वो कुछ ठीक
05 अगस्त 2018
11 अगस्त 2018
अर्जुन का महाभारत के युद्ध के समय, युद्ध ना करने का निर्णय अर्जुन का अहंकार था. ज्यादातर लोग उसके इस निर्णय का कारण मोह मानते है, परन्तु भगवान् कृष्ण इसे उसका अहंकार मानते है. जिस युद्ध का निर्णय लिया जा चूका है, उस युद्ध को अब
11 अगस्त 2018
03 अगस्त 2018
खोसबुरत (2014) के मा का का फोन गीत: यह सोनम कपूर और फवाद खान की फिल्म खुबसुरत से एक मजेदार गीत है। इसे प्रिया पंचल और माउली डेव द्वारा गाया जाता है और स्नेहा खानवाल्कर द्वारा रचित किया जाता है।खूबसूरत (Khoobsurat )माँ का फ़ोन सांगकी लिरिक्स (Lyrics Of Maa Ka Phone )करती है हर गाने पे माँ मेरीकुचि
03 अगस्त 2018
08 अगस्त 2018
सनातन धर्म में कर्म और धर्म दोनों की ही व्याख्या की गई है , पर तथाकथित हिन्दू इन दोनों ही शब्दों का अर्थ अपनी सुविधा के अनुकूल प्रयोग करते रहे है. सनातन धर्म की सुंदरता इसमें है कि उसमे सभी विचार समा जाते है. यही कारण है कि लोग
08 अगस्त 2018
12 अगस्त 2018
कलम के सिपाही की विरासत को यूँ बदनाम ना करो, सिपाही हो कलम के तुम यूँ किसी के प्यादे ना बनो.ये दो लाइने कलम के सिपाही मुंशी प्रेमचंद को समर्पित है, और उन पत्रकारों , लेखकों, कवियों और शायरों को उनका धर
12 अगस्त 2018
02 अगस्त 2018
Mujhe Neend Na Aaye Lyrics from Dil is sung by Udit Narayan and Anuradha Paudwal and written by Sameer. Music of Mujhe Neend Na Aaye is composed by Anand and Milind.दिल (Dil )मुझे नींद न आये की लिरिक्स (Lyrics Of Mujhe Neend Na Aaye )मुझे नींद न आयेमुझे नींद न आये होमुझे नींद न आयेमुझे चैन न आयेक
02 अगस्त 2018
01 अगस्त 2018
मै
ना तो धर्म तुमसे है, ना ही देश और जात तुमसे हैं. सिर्फ किसी देश में या किसी धर्म या जात में जन्म लेने में तुम्हारा अपना क्या योगदान है? तुम्हारी क्या महानता है? मेरे देश में महान लोगों ने जन्म लिया कहने भर से तुम महान नहीं हो जाते. स्वयं श्री कृष्ण
01 अगस्त 2018
04 अगस्त 2018
भूत जिसे आकाश निगल गया है और भविष्य के बीज अभी आकाश में है, ना तो भूत साथ है और ना ही भविष्य, साथ है तो सिर्फ वर्तमान. भूत और भविष्य पर गर्व वो करते है जिनके पास वर्तमान में गर्व करने को कुछ होता नहीं है. हम क्या थे या हम
04 अगस्त 2018

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x