आज़ादी से पहले नहीं था भारत का ख़ुद का झंडा, उस दौर में कुछ इस तरह बदलता रहा भारत का झंडा

10 अगस्त 2018   |  रवि मेहता   (50 बार पढ़ा जा चुका है)

आज़ादी से पहले नहीं था भारत का ख़ुद का झंडा, उस दौर में कुछ इस तरह बदलता रहा भारत का झंडा - शब्द (shabd.in)

आज़ादी से पहले भारत का अपना कोई एक स्थिर झंडा नहीं था. उस दौर में क्रांतिकारी अपने मुताबिक़ समय-समय पर अलग-अलग झंडा फ़हराया करते थे. 15 अगस्त 1947 को पहली बार आज़ाद भारत ने अपना तिरंगा फ़हराया था. 22 जुलाई 1947 को हुई Constituent Assembly की मीटिंग में पहली बार तिरंगे को भारत का झंडा बनाने का प्रस्ताव रखा गया था. देश की आन-बान-शान इस तिरंगे को पिंगली वेंकैया ने डिज़ाइन किया था.



30 दिसंबर, 1943 को नेताजी सुभाषचंद्र बोस ने पोर्ट ब्लेयर के जिमखाना ग्राउंड (अब नेताजी स्टेडियम) में पहली बार भारत का राष्ट्रीय ध्वज फ़हराया था. नेताजी सुभाषचंद्र बोस ही पहले क्रांतिकारी थे, जिन्होंने अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह को अंग्रेजों के शासन से मुक्त कराया था. पहली बार साल 1943 में भारतीय फ़ौज ने आज़ाद हिन्दुस्तान में कदम रखा था.

आज़ादी से पहले समय-समय पर भारत के झंडे कुछ इस तरीके के थे:

1- 1906 में सिस्टर निवेदिता ने भारत का ये झंडा बनाया था

साल 1904 से 1906 तक स्वामी विवेकानंद की शिष्य बहन निवेदिता ने नीले, पीले और लाल रंग का झंडा बनाया था. जिसके मध्य में 'वंदेमातरम' लिखा हुआ था. नीले रंग के ऊपर सफ़ेद रंग के स्टार बनाये गए थे, जबकि लाल रंग से सूरज और चंद्रमा के प्रतीक बनाये गए थे.

2- साल 1906 में बना था ये लोटस फ़्लैग


इस झंडे को सचिन्द्र प्रसाद बोस और सुकुमार मित्रा ने डिज़ाइन किया था. इसे पहली बार 1906 में कलकत्ता (अब कोलकाता) में पारसी बागान में 7 अगस्त को फ़हराया गया था. नारंगी, पीले और हरे रंग की पट्टियों वाले इस झंडे को उस दौर में 'कलकत्ता ध्वज' या 'कमल ध्वज' के रूप में भी जाना जाता था.

3- साल 1907 The Berlin फ़्लैग

इस झंडे को मदम भिकाजी कामा, विनायक दामोदर सावरकर और श्यामजी कृष्ण वर्मा ने डिजाइन किया था. इस झंडे को 22 अगस्त को जर्मनी के स्टुटगार्ट में फ़हराया गया था. तीन रंगों वाले इस झंडे के बीच में 'वंदे मातरम' लिखा हुआ था.

4- साल 1917 The Home Rule फ़्लैग


भारत के सबसे सम्मानित नेताओं में से एक बाल गंगाधर तिलक ने इस झंडे को लेकर अंग्रेजों द्वारा भारत को अपने अधीन बनाने के ख़िलाफ़ Home Rule आंदोलन किया था.

5- साल 1921 में चरखे के साथ पहला झंडा

साल 1916 में लेखक पिंगली वेंकैया ने राष्ट्र को एकजुट करने के लिए इस झंडे को तैयार किया. गांधी ने ही उन्हें भारत की आर्थिक प्रगति के प्रतीक के तौर पर झंडे में 'चरखा' शामिल करने का सुझाव दिया था. गांधी जी ने 1921 में इस ध्वज को फ़हराया था, जिसके शीर्ष में सफ़ेद रंग, बीच में हरा और सबसे नीचे लाल रंग था. चरखे में खींची गयी तीन रेखाएं समुदायों को प्रदर्शित करने के लिए की गई थी.

6- साल 1931 को पहली बार जब तिरंगा दिखा था

पिंगली वेंकैया के पिछले झंडे को लेकर लोगों ने समुदाय-आधारित डिजाइन पर नाराज़गी दिखाई थी. जबकि इस झंडे में उन्होंने केसरिया, सफ़ेद और हरे रंग के बीच में चरखे से समुदाय के प्रतीक को हटा दिया था और लोगों ने इसकी ख़ूब सराहना की. इस झंडे को 1931 में कांग्रेस कमेटी की बैठक में मंजूरी दी गई थी.

7- साल 1858 से 1947 तक ये थे ब्रिटिश-इंडिया का झंडा


ब्रिटिश साम्राज्य ने 1858 में इस ध्वज को जारी किया था. अंग्रेज़ों ने भारत समेत कनाडा और ऑस्ट्रेलिया जैसे अन्य ब्रिटिश उपनिवेशों में भी इसी झंडे को आधिकारिक तौर पर जारी किया था. इस झंडे में एक ओर ब्रिटिश झंडा, जबकि दूसरी तरफ़ स्टार ऑफ़ इंडिया को रखा गया था.

https://hindi.scoopwhoop.com/1900-to-1947-how-the-Indian-flag-evolved/?ref=latest&utm_source=home_latest&utm_medium=desktop#.n8j9nthde

अगला लेख: 10 साल के बच्चे के साथ रेप और हत्या, तीनों आरोपियों को 5-5 गोलियां मारकर क्रेन पर लटकाया गया



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 अगस्त 2018
सर्वोच्च न्यायालय अनुच्छेद 35 ए की संवैधानिक वैधता को चुनौती देने वाली याचिका की सुनावाई कर रहा है , जिसमें राज्य में भूमि खरीदने से जम्मू-कश्मी
08 अगस्त 2018
30 जुलाई 2018
ट्रेनों की लेटलतीफी से लोग परेशान रहते है। भारतीय रेल की ये एक बड़ी समस्या है। रेलमंत्री पीयूष गोयल ने भी इस संबंध में अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे ट्रेनों को समय पर चलाए नहीं तो उनके खिलाफ कार्रवाई होगी। रेल मंत्री का निर्देश रंग ला रहा है।ट्रेनों के लेट परिचालन क
30 जुलाई 2018
31 जुलाई 2018
'तूने मेरे जाना, कभी नहीं जाना. इश्क़ मेरा, दर्द मेरा'... ये गाना याद तो होगा? इस गाने के साथ ये कहानी भी मशहूर हुई थी कि इस गाने को लिखने वाले रोहन राठौड़ को कैंसर था.हालांकि इसमें कोई सच्चाई नहीं थी. इस बेहतरीन गाने को गजेंद्र वर्मा ने गाया था.गजेंद्र वर्मा का ही एक और
31 जुलाई 2018
27 जुलाई 2018
हम अकसर अपने पहले की जेनरेशन को खुद से पीछे मानते हैं, फिर वो पढ़ाई हो या फिर फ़ैशन. लेकिन हम ये भूल जाते हैं कि हम आज जहां भी हैं, इसमें सबसे बड़ा हाथ हमारे पीछे की जेनरेशन का ही है. हम आपको कुछ देशों के ऐसे ही फ़ैशन की तस्वीरें दिखाते हैं. लेकिन ये तस्वीरें आज की नहीं ह
27 जुलाई 2018
15 अगस्त 2018
भारत के 72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पूरा देश आजादी के जश्न में डूबा हुआ है. कश्मीर से लेकर कन्या कुमारी तक देश के हर एक कोने में आजादी के जश्न की तैयारियां की जा रही हैं. स्वतंत्रता दिवस के मौके पर सबसे खास होता है देश की राजधानी लाल किले पर मनाए जाने वाला जश्न और प्
15 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
तस्वीरें इतिहास का आईना होती हैं. इन पर नज़र पड़ते ही यादों का एक ऐसा झरोखा सामने आता है, जो हमें किसी न किसी की यादों में ले ही जाता है. आज़ादी के पहले की भारत की कई तस्वीरें हम सब ने देखी हैं, लेकिन आज हम आपको कुछ ऐसी तस्वीरों से रू-ब-रू करवाते हैं, जो आपने इससे पहले क
10 अगस्त 2018
17 अगस्त 2018
भारत रत्न और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का गुरुवार शाम 5.05 बजे निधन हो गया। वे 93 वर्ष के थे। अटलजी के निधन पर 7 दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा गई की।अटल बिहारी वाजपेयी दो महीने से एम्स में भर्ती थे, लेकिन पिछले 36 घंटों के दौरान उनकी सेहत बिगड़ती चली गई। उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा
17 अगस्त 2018
13 अगस्त 2018
1947 का गदर वो खौफनाक मंजर था, जिसे भूलना भी चाहो तो मुमकिन नहीं। 72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर जानिए उस शख्स के बारे में जो पाकिस्तान से कटी लाशों से भरी ट्रेन लेकर आया था।स्वतंत्रता दिवस के मौके पर बुजुर्ग बाल कृष्ण गुप्ता व सोहन सिंह
13 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
नई दिल्ली : भारत को लंबे संघर्ष के बाद अंग्रेजों की गुलामी से मुक्ति मिलने जा रही थी. स्वतंत्रता की तारीख (Independence Day) मुकर्रर हो गई थी. देश में हर तरफ जश्न का माहौल था, लेकिन जैसे-जैसे यह तारीख (15 अगस्त) नजदीक आती जा रही थी दिल्ली के वायसराय हाउस में माउंटबेटेन क
14 अगस्त 2018
18 अगस्त 2018
पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता, जिसे सिटी ऑफ़ जॉय के रूप में जाना जाता है , भारत का दूसरा सबसे बड़ा महानगर तथा पाँचवाँ सबसे बड़ा बन्दरगाह है | आबादी के हिसाब से कोलकाता भारत का तीसरा सबसे बड़ा शहर है | कोलकाता शहर हुबली नदी के बायें किनारे पर स्थित है | ब्रिटिश शासन के दौरान जब कोलकाता एकीकृत भारत क
18 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
लद्दाख कब जाएंमई के अंतिम हफ्ते से सितंबर तक लद्दाख जा सकते हैं। यहां सड़क या हवाई मार्ग से ही पहुंचा जा सकता है। सड़क से जाना चाहें, तो एक रास्ता मनाली और दूसरा श्रीनगर होते हुए है। दोनों ही रास्तों पर दुनिया के कुछ सबसे ऊंचे दर्रे यानी पास पड़ते हैं। मई से पहले और सितंब
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
'कौन बनेगा करोड़पति' जैसे शोज में अगर आप हॉट सीट पर बैठे हों, तो आप हर सवाल का जवाब काफी सोच-समझकर देना चाहते हैं. लेकिन 'कौन बनेगा करोड़पति' फ्रेंचाइजी के टर्किश वर्जन में हिस्सा लेने आई एक कंटेंस्टेंट ने ऐसा करके अपना मजाक बनवा लिया है. दरअसल बात ही ऐसी है.टर्किश में 'क
14 अगस्त 2018
13 अगस्त 2018
ट्रिपल तलाक (Instant Talaq) लंबे समय से देशभर में एक हॉट टॉपिक बना हुआ है. ट्रिपल तलाक को असंवैधानिक बताने वाला बिल लोकसभा में तो पास हो चुका है लेकिन राज्यसभा में अटका हुआ है. लेकिन सोशल मीडिया पर ट्रिपल तलाक को लेकर खूब मेसेज सर्कुलेट हो रहे हैं. ऐसे ही एक वीडियो में एक
13 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x