नक्षत्र - एक विश्लेषण

10 अगस्त 2018   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (110 बार पढ़ा जा चुका है)

नक्षत्र - एक विश्लेषण

27 नक्षत्रों का हिन्दी महीनों में विभाजन तथा हिन्दी माहों के वैदिक नाम

पिछले अध्याय में चर्चा की थी 27 नक्षत्रों की और उनके नामों का उल्लेख किया था | जैसा कि पहले भी लिखा है कि जिस हिन्दी माह की शुक्ल चतुर्दशी-पूर्णिमा को जिस नक्षत्र का उदय होता है उसी के आधार पर उस माह का नाम रखा गया है | इन 12 हिन्दी महीनों के वैदिक नाम भी हैं | तो, अब बात करते हैं कि इन 27 नक्षत्रों का बारह वैदिक महीनों में किस प्रकार से विभाजन हुआ है - अर्थात किस माह में कौन कौन से नक्षत्र आते हैं, तथा उन महीनों के वैदिक और हिन्दी नाम क्या हैं...

हिन्दी महीनों में सबसे प्रथम महीना है चैत्र का - और इसका वैदिक नाम है मधु | इस मधु अर्थात चैत्र माह में चित्रा और स्वाति ये दो नक्षत्र आते हैं | मधु माह की शुक्ल चतुर्दशी-पूर्णिमा को चित्रा नक्षत्र का उदय होता है, अतः इस माह का हिन्दी नाम चैत्र रखा गया |

वैशाख माह का वैदिक नाम है माधव तथा इसमें विशाखा और अनुराधा ये दो नक्षत्र आते हैं | क्योंकि माधव माह की शुक्ल चतुर्दशी-पूर्णिमा को विशाखा नक्षत्र का उदय होता है, इसलिए इस माह का हिन्दी नाम वैशाख हुआ |

ज्येष्ठ का वैदिक नाम है शुक्र और इसके अन्तर्गत ज्येष्ठा और मूल नक्षत्र आते हैं | इसमें भी ज्येष्ठ नक्षत्र का शुक्ल चतुर्दशी-पूर्णिमा को उदय होने के कारण इसका नाम ज्येष्ठा हुआ |

आषाढ़ माह का वैदिक नाम शुचि है तथा इसमें दोनों आषाढ़ – यानी पूर्वाषाढ़ और उत्तराषाढ़ आते हैं | शुचि माह में शुक्ल चतुर्दशी-पूर्णिमा को पूर्वाषाढ़ नक्षत्र का उदय होता है और उसके बाद आता है उत्तराषाढ़ नक्षत्र | यही कारण है कि इस माह का हिन्दी नाम आषाढ़ है |

श्रावण माह का वैदिक नाम नभ है तथा इसमें श्रवण और धनिष्ठा नक्षत्रों का समावेश होता है | नभ नामक वैदिक माह की शुक्ल चतुर्दशी-पूर्णिमा को श्रवण नक्षत्र का उदय होता है अतः इस माह का हिन्दी नाम श्रावण है |

भाद्रपद माह का वैदिक नाम नभस्य है तथा इसमें तीन नक्षत्र आते हैं – शतभिषज और दोनों भाद्रपद – यानी पूर्वा भाद्रपद और उत्तर भाद्रपद | नभस्य माह में शुक्ल चतुर्दशी-पूर्णिमा तिथि को पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र का उदय होता है इसलिए इसका हिन्दी नाम भाद्रपद हुआ |

आश्विन माह का वैदिक नाम है ईश, तथा इसमें भी तीन नक्षत्र आते हैं – रेवती, अश्विनी और भरणी | इस माह की शुक्ल चतुर्दशी-पूर्णिमा को अश्विनी नक्षत्र का उदय होता है अतः इस माह का हिन्दी नाम आश्विन है |

कार्तिक माह का वैदिक नाम ऊर्जा है और इस माह में दो नक्षत्र आते हैं - कृत्तिका और रोहिणी | ऊर्जा नामक वैदिक माह की शुक्ल चतुर्दशी-पूर्णिमा को ऊर्जावान कृत्तिका नक्षत्र का उदय होने के कारण इस माह का हिन्दी नाम कार्तिक हुआ |

मृगशिर माह का वैदिक नाम है सह तथा इसमें जो दो नक्षत्र आते हैं वे हैं मृगशिरा और आर्द्रा | जैसा कि आप समझ ही गए होंगे, इस माह की शुक्ल चतुर्दशी-पूर्णिमा तिथि को मृगशिरा नक्षत्र का उदय होता है इसीलिए इस माह का हिन्दी नाम है मृगशिर |

पौष माह का वैदिक नाम है सहस्य – जो सह के साथ आए - तथा इसके अन्तर्गत पुनर्वसु और पुष्य नक्षत्र आते हैं | इस माह की शुक्ल चतुर्दशी-पूर्णिमा को उदय होता है पुष्य नक्षत्र का, इसीलिए इस माह का हिन्दी नाम पौष हुआ |

माघ माह का वैदिक नाम है तप तथा इसमें दो नक्षत्र – आश्लेषा और मघा होते हैं | निश्चित रूप से इस माह की शुक्ल चतुर्दशी-पूर्णिमा को मघा नक्षत्र का उदय होने के कारण ही इसका हिन्दी नाम मघा हुआ |

फाल्गुन माह का वैदिक नाम है तपस्य तथा इसमें तीन नक्षत्र आते हैं – दोनों फाल्गुन – अर्थात पूर्वा फाल्गुनी और उत्तर फाल्गुनी और साथ में हस्त | इस माह में भी निश्चित रूप से शुक्ल चतुर्दशी-पूर्णिमा तिथि को पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र का उदय होता है और इसीलिए इसका हिन्दी नाम फाल्गुन है |

अगला लेख: हिन्दी पञ्चांग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 जुलाई 2018
आज आषाढ़ शुक्लपूर्णिमा को कुछ ही देर बाद भारत के साथ साथ संसार के कई देश एक ऐसी अद्भुत खगोलीयघटना के साक्षी बनने जा रहे हैं जो खगोल वैज्ञानिकों के अनुसार अब काफ़ी वर्षों तकनहीं दीख पड़ेगी | इस भव्य घटना को नासा के खगोल वैज्ञानिकों ने नाम दिया है Super Blue Blood Moon,अर्थात
27 जुलाई 2018
05 अगस्त 2018
06 से 12 अगस्त तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहो
05 अगस्त 2018
01 अगस्त 2018
गुरुवार, 02 अगस्त2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:43 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:11 पर चन्द्र राशि : मीन चन्द्र नक्षत्र : उत्तर भाद्रपद 13:12 तक, तत्पश्चात रेवती (पंचक) तिथि : श्रावण कृष्ण पञ्चमी 11:32
01 अगस्त 2018
22 अगस्त 2018
नक्षत्रों की व्युत्पत्ति तथा उनके अर्थअभी तक हमने 27 नक्षत्रों के आधार पर बारह हिन्दी महीनों केनाम तथा उनके वैदिक नामों के विषय में चर्चा कर रहे थे | किन्तु जिन नक्षत्रों के नाम पर हिन्दी महीनों के नाम रखे गए उन नक्षत्रों केनाम किस प्रकार बने यह विचारणीय प्रश्न है | तो अब
22 अगस्त 2018
02 अगस्त 2018
शुक्रवार, 03 अगस्त2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:43 पर कर्कमें (09:15 पर आश्लेषा नक्षत्र में प्रवेश)सूर्यास्त : 19:10 पर चन्द्र राशि : मीन 14:24 तक, तत्पश्चात मेष चन्द्र नक्षत्र : रेवती 14:24 तक, तत्पश्चात अश्विनी (पंचक समाप्त 14:
02 अगस्त 2018
03 अगस्त 2018
समस्त बारहवैदिक मासों का आधार नक्षत्र मण्डल ही है | प्रत्येक माह को पूर्ण चन्द्र की रात्रिपूर्णिमा कहलाती है | पूर्णिमा को जो नक्षत्र पड़ता है, वैदिक महीनों का नाम उन्हीं नक्षत्रों के नाम पर होता है | अर्थात प्रत्येक पूर्णिमाका चन्द्र नक्षत्र उस माह के वैदक नाम है | जैसे,
03 अगस्त 2018
02 अगस्त 2018
मोक्ष / नाश है अहं का...अहं क्या है ?मनुष्य के सुखी होने की अनुभूति ?या फिर दर्द का अहसास ?किसी का अपना होने की राहत ?या फिर पराया होने का दर्द ? लेकिन दुःख में भी तो है कष्ट का आनन्द...अपनेपन से ही तो उपजता है परायापन क्योंकि एक ही भाव के दो अनुभाव हैं दोनोंउसी तरह जैसे
02 अगस्त 2018
24 अगस्त 2018
भरणी वैदिक ज्योतिष के आधार पर मुहूर्त, पञ्चांग, प्रश्नइत्यादि के विचार के लिए प्रमुखता से प्रयोग में आने वाले “नक्षत्रों की व्युत्पत्ति और उनके नामों” पर वार्ता केक्रम में अश्विनी नक्षत्र के बाद अब दूसरा नक्षत्र होता है भरणी | भरणी शब्द की व्युत्पत्ति हुई है भरण में ङीप्
24 अगस्त 2018
03 अगस्त 2018
समस्त बारहवैदिक मासों का आधार नक्षत्र मण्डल ही है | प्रत्येक माह को पूर्ण चन्द्र की रात्रिपूर्णिमा कहलाती है | पूर्णिमा को जो नक्षत्र पड़ता है, वैदिक महीनों का नाम उन्हीं नक्षत्रों के नाम पर होता है | अर्थात प्रत्येक पूर्णिमाका चन्द्र नक्षत्र उस माह के वैदक नाम है | जैसे,
03 अगस्त 2018
27 जुलाई 2018
शनिवार, 28 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:40 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:14 पर चन्द्र राशि : मकर चन्द्र नक्षत्र : श्रवण तिथि : श्रावण कृष्ण प्रतिपदा / सूर्योदय से पूर्व 27:55 (03:55) पर पूर्णचन्
27 जुलाई 2018
08 अगस्त 2018
27 नक्षत्रों के वैदिक नाम अब मुहूर्त आदि के लिएप्रमुख रूप से विचारणीय वैदिक ज्योतिष के महत्त्वपूर्ण अंग नक्षत्रों की वार्ता कोआगे बढाते हुए 27 नक्षत्रोंके वैदिक नामों पर प्रकाश डालते हैं | जैसे कि पहले ही बताया है कि किसी भी हिन्दी अथवा वैदिक महीने के नामउस नक्षत्र के ना
08 अगस्त 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x