आज के सतसंग :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

10 अगस्त 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (50 बार पढ़ा जा चुका है)

आज के सतसंग :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म इतना व्यापक एवं वृहद है कि मनुष्य के जीवन की सभी आवश्यक आवश्कताओं की पूर्ति एवं प्रयोग कैसे करें यह सब इसमें प्राप्त हो जाता है | अंत में मनुष्य को मोक्ष कैसे प्राप्त हो यह विधान भी सनातन ग्रंथों में व्यापक स्तर पर दृश्यमान है | यह कहा जा सकता है कि सनातन धर्म अर्थात "जीवन के साथ भी , जीवन के बाद भी" | सनातन धर्म में प्रत्येक मनुष्य के लिए "नवधा भक्ति" का उपदेश किया गया है | इस नवधा भक्ति में प्रथम भक्ति संतो - सज्जनों के संग को बताया गया है | क्योंकि साधुओं के, श्रेष्ठजनों के सत्संग से हमारी जड़ता-मूढ़ परंपरागत मान्यताएँ टूटती हैं एवं हमें होश आता है कि जिन्दगी कुछ अलग ढंग से अपने आपको सुव्यवस्थित बनाकर जी जा सकती है | सत्संग में प्रथम कोटि का सत्संग है, सत्य का, परमात्मा का संग | यह सर्वोच्च कोटि का सत्संग बताया गया है, जो कि समाधि की स्थिति में परमात्मसत्ता से एकात्मता स्थापित करके मिलता है | दूसरी कोटि का सत्संग वह है जो सत् तत्व से आत्मसात् हो चुके महापुरुषों के साथ किया जाता है | ऐसे व्यक्ति वे होते हैं, जिनके पास बैठने पर हमारे अंतःकरण में ईश्वर के प्रति ललक-जिज्ञासा पैदा होने लगे | आज ऐसे व्यक्ति बिरले ही मिलते हैं, अतः तीसरी कोटि का सत्संग उनके विचारों का सामीप्य, महापुरुषों द्वारा लिखे गए अमृतकणों का स्वाध्याय भी उसकी पूर्ति करता है | संतों के सत्संग की जब बात होती है और जब ‘प्रथम भक्ति संतन कर संग’ की व्याख्या करते हैं तो लगता हैं कि संत की परिभाषा भी होनी चाहिए | संत उन्हें कहा जाता है, जो व्यक्ति को परमात्मा का प्रकाश दिखा दें-उसे आत्मा की ओर उन्मुख कर दें, सद्गुरु से परिचय करा दें | यह आवश्यक नहीं है कि ऐसे संतों को ढूँढने जंगल में ही जाया जाय , यह आपको आपके आस पास भी मिल सकते हैं आवश्यकता है उनको पहचानने की |* *आज के युग में किसी को कुछ कहना भी कभी - कभी स्वयं की मूर्खता ही प्रतीत होती है क्योंकि आज मनुष्य ने संत एवं सतसंग दोनों की रूपरेखा ही बदल कर रख दी है | नवधा भक्ति को मानने का दावा करने तथा अपने लेखों के माध्यम से उपदेश करने वाले बड़े - बड़े भक्तशिरोमणि , संतशिरोमणि आदि नवधा भक्ति की प्रथम भक्ति - सतसंग के प्रारूप को ही शायद नहीं जान पाये हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज की सामाजिकता , सामाजिक व्यवस्था एवं मनुष्यों की मानसिकता देखकर यह कहने पर विवश हो रहा हूँ कि लोग आज सज्जनों का संग करना ही नहीं चाहते | यदि उत्सुकतावश किसी समाज में जुड़कर बैठने भी लगे तो भी उनकी तुच्छ मानसिकता सतसंग को विकृत करने का ही प्रयास करती है | छोटी - छोटी बात पर व्यर्थ का वाद - विवाद कर लेने में सिद्धहस्त ऐसे लोग क्या सतसंग करेंगे और कैसे नवधा भक्ति को प्राप्त कर पायेंगे यह विचारणीय के साथ - साथ चिंतनीय भी है | किसी के उपदेश या लेख पर वाह - वाह करने वाले लोग कुछ देर बाद ही उपदेश को भूलकर अपने सहज स्वभाव में वापस आकर विकृतियां उत्पन्न करने को प्रयासरत हो जाते हैं | विचार कीजिए जब हम नवधा भक्ति की प्रथम सीढी सतसंग को स्वयं में समाहित नहीं कर पा रहे हैं तो दूसरी - तीसरी भक्ति कैसे कर पायेंगे यह एक यक्षप्रश्न है | सतसंग का अर्थ शायद लोगों ने कथा व्याख्यान से लगा लिया है जबकि सतसंग का अर्थ हुआ श्रेष्ठजनों के वचनों को सुनकर उसमें अपना विचार भी मिश्रित किया जाय अर्थात आज के युग में विचारों का आदान - प्रदान करके हही यदि कुछ प्राप्त हो जाय तो समझो सतसंग हो गया |* *सर्वप्रथम मनुष्य को प्रथम भक्ति करने का प्रयास करना चाहिए जो कि आज के युग में मनुष्य स्थिरता के साथ नहीं कर पा रहा है | क्योंकि वह अपना अमूल्य समय व्यर्थ की बातों में गंवा रहा है |*

अगला लेख: मित्र एवं मित्रता दिवस ----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 अगस्त 2018
मै
ना तो धर्म तुमसे है, ना ही देश और जात तुमसे हैं. सिर्फ किसी देश में या किसी धर्म या जात में जन्म लेने में तुम्हारा अपना क्या योगदान है? तुम्हारी क्या महानता है? मेरे देश में महान लोगों ने जन्म लिया कहने भर से तुम महान नहीं हो जाते. स्वयं श्री कृष्ण
01 अगस्त 2018
22 अगस्त 2018
*इस संसार में जिस प्रकार संसार में उपलब्ध लगभग सभी वस्तुओं को अपने योग्य बनाने के लिए उसे परिमार्जित करके अपने योग्य बनाना पड़ता है उसी प्रकार मनुष्य को कुछ भी प्राप्त करने के लिए स्वयं का परिष्कार करना परम आवश्यक है | बिना परिष्कार के मानव जीवन एक बिडंबना बनकर रह जाता है | सामान्य मनुष्य , यों ही अ
22 अगस्त 2018
03 अगस्त 2018
पहले लोग अपनी बात रखने के लिए तर्क करते थे. लेक्चर दिया करते थे. सेमीनार किया करते थे. थीसिस देते थे और प्रैक्टिकल करते थे तब जाकर एक बात को प्रूव कर पाते थे. अब एक नया तरीका आया है जो सबसे बढ़िया है. सोशल मीडिया पर एक फोटो डालो. इस फोटो से मिलता-जुलता अपनी मर्जी का मेसेज
03 अगस्त 2018
20 अगस्त 2018
“विच दुनिया सेव कमाईए ता दरगह बैसन पाईए”गुरु महाराज के ईसी वाक्य पर चलते हुए गुरु के सिक्ख केरल में आई बाढ़ में लोगों की मदद करने पहुंच भी गए वहीं कुछ लोग मीडिया चैनलों पर बैठ कर डिबेट का मजा ले रहे हैं। बिना किसी भेदभाव के मानवता की सेवा करना यही है सिक्ख धर्म 'मान
20 अगस्त 2018
03 अगस्त 2018
*सनातन धर्म में प्राय: तीन विषय चर्चा का केन्द्र बनते हैं :- धर्म , दर्शन , अध्यात्म ! इनमें सबका मूल धर्म ही है | धर्म क्या है ? धर्म का रहस्य क्या है ? इस विषय पर प्राय: चर्चायें होती रहती हैं | सनातन धर्म में प्रत्येक मनुष्य के लिए चार पुरुषार्थ बताये गये हैं :- धर्म , अर्थ , काम , मोक्ष | इनमें
03 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
*संसार में मनुष्य के लिए जितना महत्त्व परिवार व सगे - सम्बन्धियों का है उससे कहीं अधिक महत्त्व एक मित्र है | बिना मित्र बनाये न तो कोई रह पाया है और न ही रह पाना सम्भव है | मित्रता का जीवन में एक अलग ही स्थान है | मित्र बना लेना तो बहुत ही आसान है परंतु मित्रता को स्थिर रखना और जीवित रखना, सदा-सदा क
06 अगस्त 2018
28 जुलाई 2018
*आज तक इस सृष्टि में अनेकानेक ऋषि - महर्षि / विद्वान हुए हैं जिनके मारिगदर्शन में यह सृष्टि गतिमान हुई | आज हमारे पास जो भी संसाधन उपलब्ध हैं इन सबका श्रेय हमारे पूर्व के विद्वानों को ही जाता है | यह उन सभी विद्वानों की विद्वता ही है जो कि हमें जीवन के प्रत्येक विषय का ज्ञान उपलब्ध कराने वाले ग्रंथ
28 जुलाई 2018
19 अगस्त 2018
*इस संसार में मनुष्य को शक्तिशाली बनाने के अनेक साधन हैं परन्तु मुख्यरूप से मनुष्य को तीन प्रकार की शक्तियों के माध्यम से शक्तिशाली माना जाता है ! वह शक्तियां है मानसिक , शारीरिक एवं आध्यात्मिक | इन तीनों में भी सर्वश्रेष्ठ है मानसिक शक्ति | प्रत्येक मनुष्य के तन के साथ - साथ मन का भी स्वस्थ होना पर
19 अगस्त 2018
28 जुलाई 2018
*सनातन संस्कृति में समय समय पर्वों त्यौहारोंं के माध्यम से अपने आदर्शों को स्मृति में बनाये रखने की अलोकिक परम्परा रही है | इसी क्रम में एक महत्वपूर्ण पर्व है - "गुरू पूर्णिमा" | प्रत्येक मनुष्य के जीवन में गुरु का महत्वपूर्ण योगदान होता है | गुरु की व्याख्या कर पाना सम्भव नहीं है | अंधकार से प्रकाश
28 जुलाई 2018
09 अगस्त 2018
दि
कहते है कि जब दिल और दिमाग के बीच किसी मुद्दे को लेकर जंग चल रही हो तो दिल की बात सुननी चाहिए ना कि दिमाग की. ऐसी ही सोच लोगो को भक्ति की तरफ ले जाती है जहाँ लोग दिमाग से काम लेना बंद कर देते है. भक्ति योग और कर्म योग दोनों ही रास्ते मुक्ति की
09 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
*इस पृथ्वी पर जन्मा प्रत्येक जीव को स्वतंत्रता का अधिकार है एवं प्रत्येक जीव स्वतंत्र रहना भी चाहता है | पराधीनता के जीवन से मृत्यु अच्छी है | मानस में गोस्वामी तुलसीदास जी की चौपाई "पराधीन सपनेहुँ सुख नाहीं" यह प्रमाणित करती है कि पराधीनता में रहकर मोहनभोग भी खाने को मिल जाय तो वह तृप्ति नहीं मिल प
14 अगस्त 2018
03 अगस्त 2018
*सनातन साहित्यों में मनुष्यों के लिए चार पुरुषार्थ बताये गये हैं :- धर्म , अर्थ , काम , मोक्ष | इनमें से अन्तिम एवं महत्वपूर्ण है मोक्ष , जिसकी प्राप्ति करना प्रत्येक मनुष्य का लक्ष्य होता है | मोक्ष प्राप्त करने के लिए भगवत्कृपा का होना परमावश्यक है | भगवत्कृपा प्राप्त करने के लिए भक्तिमार्ग का अनु
03 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
शिरोमणि गुरूद्वारा प्रबंधक समिति (एसजीपीसी) ने यहां स्वर्ण मंदिर की सामुदायिक रसोई में कार्बन उत्सर्जन कम करने के लिए बायोगैस संयंत्र लगाने का फैसला किया है. स्वर्ण मंदिर के रोजाना मामलों से निपटने वाली संस्था एसजीपीसी ने आज कहा कि इस धार्मिक स्थल को पर्यावरण अनुकूल बनाने
14 अगस्त 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x