आज के सतसंग :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

10 अगस्त 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (61 बार पढ़ा जा चुका है)

आज के सतसंग :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म इतना व्यापक एवं वृहद है कि मनुष्य के जीवन की सभी आवश्यक आवश्कताओं की पूर्ति एवं प्रयोग कैसे करें यह सब इसमें प्राप्त हो जाता है | अंत में मनुष्य को मोक्ष कैसे प्राप्त हो यह विधान भी सनातन ग्रंथों में व्यापक स्तर पर दृश्यमान है | यह कहा जा सकता है कि सनातन धर्म अर्थात "जीवन के साथ भी , जीवन के बाद भी" | सनातन धर्म में प्रत्येक मनुष्य के लिए "नवधा भक्ति" का उपदेश किया गया है | इस नवधा भक्ति में प्रथम भक्ति संतो - सज्जनों के संग को बताया गया है | क्योंकि साधुओं के, श्रेष्ठजनों के सत्संग से हमारी जड़ता-मूढ़ परंपरागत मान्यताएँ टूटती हैं एवं हमें होश आता है कि जिन्दगी कुछ अलग ढंग से अपने आपको सुव्यवस्थित बनाकर जी जा सकती है | सत्संग में प्रथम कोटि का सत्संग है, सत्य का, परमात्मा का संग | यह सर्वोच्च कोटि का सत्संग बताया गया है, जो कि समाधि की स्थिति में परमात्मसत्ता से एकात्मता स्थापित करके मिलता है | दूसरी कोटि का सत्संग वह है जो सत् तत्व से आत्मसात् हो चुके महापुरुषों के साथ किया जाता है | ऐसे व्यक्ति वे होते हैं, जिनके पास बैठने पर हमारे अंतःकरण में ईश्वर के प्रति ललक-जिज्ञासा पैदा होने लगे | आज ऐसे व्यक्ति बिरले ही मिलते हैं, अतः तीसरी कोटि का सत्संग उनके विचारों का सामीप्य, महापुरुषों द्वारा लिखे गए अमृतकणों का स्वाध्याय भी उसकी पूर्ति करता है | संतों के सत्संग की जब बात होती है और जब ‘प्रथम भक्ति संतन कर संग’ की व्याख्या करते हैं तो लगता हैं कि संत की परिभाषा भी होनी चाहिए | संत उन्हें कहा जाता है, जो व्यक्ति को परमात्मा का प्रकाश दिखा दें-उसे आत्मा की ओर उन्मुख कर दें, सद्गुरु से परिचय करा दें | यह आवश्यक नहीं है कि ऐसे संतों को ढूँढने जंगल में ही जाया जाय , यह आपको आपके आस पास भी मिल सकते हैं आवश्यकता है उनको पहचानने की |* *आज के युग में किसी को कुछ कहना भी कभी - कभी स्वयं की मूर्खता ही प्रतीत होती है क्योंकि आज मनुष्य ने संत एवं सतसंग दोनों की रूपरेखा ही बदल कर रख दी है | नवधा भक्ति को मानने का दावा करने तथा अपने लेखों के माध्यम से उपदेश करने वाले बड़े - बड़े भक्तशिरोमणि , संतशिरोमणि आदि नवधा भक्ति की प्रथम भक्ति - सतसंग के प्रारूप को ही शायद नहीं जान पाये हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज की सामाजिकता , सामाजिक व्यवस्था एवं मनुष्यों की मानसिकता देखकर यह कहने पर विवश हो रहा हूँ कि लोग आज सज्जनों का संग करना ही नहीं चाहते | यदि उत्सुकतावश किसी समाज में जुड़कर बैठने भी लगे तो भी उनकी तुच्छ मानसिकता सतसंग को विकृत करने का ही प्रयास करती है | छोटी - छोटी बात पर व्यर्थ का वाद - विवाद कर लेने में सिद्धहस्त ऐसे लोग क्या सतसंग करेंगे और कैसे नवधा भक्ति को प्राप्त कर पायेंगे यह विचारणीय के साथ - साथ चिंतनीय भी है | किसी के उपदेश या लेख पर वाह - वाह करने वाले लोग कुछ देर बाद ही उपदेश को भूलकर अपने सहज स्वभाव में वापस आकर विकृतियां उत्पन्न करने को प्रयासरत हो जाते हैं | विचार कीजिए जब हम नवधा भक्ति की प्रथम सीढी सतसंग को स्वयं में समाहित नहीं कर पा रहे हैं तो दूसरी - तीसरी भक्ति कैसे कर पायेंगे यह एक यक्षप्रश्न है | सतसंग का अर्थ शायद लोगों ने कथा व्याख्यान से लगा लिया है जबकि सतसंग का अर्थ हुआ श्रेष्ठजनों के वचनों को सुनकर उसमें अपना विचार भी मिश्रित किया जाय अर्थात आज के युग में विचारों का आदान - प्रदान करके हही यदि कुछ प्राप्त हो जाय तो समझो सतसंग हो गया |* *सर्वप्रथम मनुष्य को प्रथम भक्ति करने का प्रयास करना चाहिए जो कि आज के युग में मनुष्य स्थिरता के साथ नहीं कर पा रहा है | क्योंकि वह अपना अमूल्य समय व्यर्थ की बातों में गंवा रहा है |*

अगला लेख: मित्र एवं मित्रता दिवस ----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 अगस्त 2018
*संसार में मनुष्य के लिए जितना महत्त्व परिवार व सगे - सम्बन्धियों का है उससे कहीं अधिक महत्त्व एक मित्र है | बिना मित्र बनाये न तो कोई रह पाया है और न ही रह पाना सम्भव है | मित्रता का जीवन में एक अलग ही स्थान है | मित्र बना लेना तो बहुत ही आसान है परंतु मित्रता को स्थिर रखना और जीवित रखना, सदा-सदा क
06 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
*पुण्यभूमि भारत की संस्कृति एवं संस्कार सम्पूर्ण विश्व के लिए आदर्श प्रस्तुत करते आये है | ऐसी दिव्य संस्कृति एवं महान संस्कार विश्व के किसी भी देश में देखने को नहीं मिलते | हमारे संस्कार हमें यही शिक्षा देते हैं कि मनुष्य चाहे जितना उच्च पदस्थ हो परंतु उसका भाव सदैव छोटा ही बने रहने का होना चाहिए |
06 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
बीते कई दिनों से दिल्ली और उत्तर भारत के तमाम इलाकों से कांवड़ियों के उत्पात की खबरें आ रही हैं. आम लोगों से लेकर पुलिस तक की गाड़ियां तोड़ी गईं और लोगों से मारपीट की तमाम घटनाएं हुईं. कांवड़ियों के रूट से गुज़रने वाले तमाम लोग जहां इन घटनाओं से डरे हुए हैं, वहीं सोशल मीड
14 अगस्त 2018
28 जुलाई 2018
*सनातन संस्कृति में समय समय पर्वों त्यौहारोंं के माध्यम से अपने आदर्शों को स्मृति में बनाये रखने की अलोकिक परम्परा रही है | इसी क्रम में एक महत्वपूर्ण पर्व है - "गुरू पूर्णिमा" | प्रत्येक मनुष्य के जीवन में गुरु का महत्वपूर्ण योगदान होता है | गुरु की व्याख्या कर पाना सम्भव नहीं है | अंधकार से प्रकाश
28 जुलाई 2018
01 अगस्त 2018
मै
ना तो धर्म तुमसे है, ना ही देश और जात तुमसे हैं. सिर्फ किसी देश में या किसी धर्म या जात में जन्म लेने में तुम्हारा अपना क्या योगदान है? तुम्हारी क्या महानता है? मेरे देश में महान लोगों ने जन्म लिया कहने भर से तुम महान नहीं हो जाते. स्वयं श्री कृष्ण
01 अगस्त 2018
04 अगस्त 2018
भूत जिसे आकाश निगल गया है और भविष्य के बीज अभी आकाश में है, ना तो भूत साथ है और ना ही भविष्य, साथ है तो सिर्फ वर्तमान. भूत और भविष्य पर गर्व वो करते है जिनके पास वर्तमान में गर्व करने को कुछ होता नहीं है. हम क्या थे या हम
04 अगस्त 2018
03 अगस्त 2018
*सनातन साहित्यों में मनुष्यों के लिए चार पुरुषार्थ बताये गये हैं :- धर्म , अर्थ , काम , मोक्ष | इनमें से अन्तिम एवं महत्वपूर्ण है मोक्ष , जिसकी प्राप्ति करना प्रत्येक मनुष्य का लक्ष्य होता है | मोक्ष प्राप्त करने के लिए भगवत्कृपा का होना परमावश्यक है | भगवत्कृपा प्राप्त करने के लिए भक्तिमार्ग का अनु
03 अगस्त 2018
20 अगस्त 2018
“विच दुनिया सेव कमाईए ता दरगह बैसन पाईए”गुरु महाराज के ईसी वाक्य पर चलते हुए गुरु के सिक्ख केरल में आई बाढ़ में लोगों की मदद करने पहुंच भी गए वहीं कुछ लोग मीडिया चैनलों पर बैठ कर डिबेट का मजा ले रहे हैं। बिना किसी भेदभाव के मानवता की सेवा करना यही है सिक्ख धर्म 'मान
20 अगस्त 2018
28 जुलाई 2018
*इस सृष्टि की अद्भुत घटना है ग्रहण | जहाँ वैज्ञानिकों के लिए यह एक खगोलीय घटना के साथ साथ अलोकिक रहस्यों का अध्ययन करने का सुनहरा अवसर है वहीं सनातन धर्मावलम्बियों के लिए यह एक पारम्परिक घटना है | हमारे ग्रंथों में समुद्र मंथन की अद्भुत कथा है जिसका मंथन देव और दैत्यों ने मिलकर किया ! क्यों ?? क्यों
28 जुलाई 2018
22 अगस्त 2018
*इस संसार में जब से मानवी सृष्टि हुई तब से लेकर आज तक मनुष्य के साथ सुख एवं दुख जुड़े हुए हैं | समय समय पर इस विषय पर चर्चायें भी होती रही हैं कि सुखी कौन ? और दुखी कौन है ?? इस पर अनेक विद्वानों ने अपने मत दिये हैं | लोककवि घाघ (भड्डरी) ने भी अपने अनुभव के आधार पर इस विषय पर लिखा :- "बिन व्याही ब
22 अगस्त 2018
03 अगस्त 2018
*सनातन धर्म में प्राय: तीन विषय चर्चा का केन्द्र बनते हैं :- धर्म , दर्शन , अध्यात्म ! इनमें सबका मूल धर्म ही है | धर्म क्या है ? धर्म का रहस्य क्या है ? इस विषय पर प्राय: चर्चायें होती रहती हैं | सनातन धर्म में प्रत्येक मनुष्य के लिए चार पुरुषार्थ बताये गये हैं :- धर्म , अर्थ , काम , मोक्ष | इनमें
03 अगस्त 2018
28 जुलाई 2018
*इस सृष्टि की अद्भुत घटना है ग्रहण | जहाँ वैज्ञानिकों के लिए यह एक खगोलीय घटना के साथ साथ अलोकिक रहस्यों का अध्ययन करने का सुनहरा अवसर है वहीं सनातन धर्मावलम्बियों के लिए यह एक पारम्परिक घटना है | हमारे ग्रंथों में समुद्र मंथन की अद्भुत कथा है जिसका मंथन देव और दैत्यों ने मिलकर किया ! क्यों ?? क्यों
28 जुलाई 2018
03 अगस्त 2018
*सनातन धर्म में प्राय: तीन विषय चर्चा का केन्द्र बनते हैं :- धर्म , दर्शन , अध्यात्म ! इनमें सबका मूल धर्म ही है | धर्म क्या है ? धर्म का रहस्य क्या है ? इस विषय पर प्राय: चर्चायें होती रहती हैं | सनातन धर्म में प्रत्येक मनुष्य के लिए चार पुरुषार्थ बताये गये हैं :- धर्म , अर्थ , काम , मोक्ष | इनमें
03 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x