दिगपाल (भाग-१)

11 अगस्त 2018   |  pradeep   (47 बार पढ़ा जा चुका है)

दिगपाल, मेरे बचपन का साथी था, दोस्त था या यूँ कहे कि वो मेरा मुण्डू(बेबी सिटर) था. दरअसल दिगपाल हमारी मौसी का नौकर था, उसकी उम्र कितनी थी मैं नहीं जानता पर शायद 12 या 14 साल का रहा होगा. पहाड़ी था या नेपाली ये भी मुझे नहीं पता पर शायद वो गोरखा था. उस ज़माने में लोग पहाड़ी इलाको या नेपाल से छोटे बच्चे घरों में काम करने के लिए लाया करते थे, जिन्हे पहाड़ी नौकर कहा जाता था. आज के परिवेश में यह अपराध है, और इस तरह किसी का संबोधन करना भी अपराध की ही श्रेणी में आता है, पर सवाल आज भी यही है कि समाज के कमज़ोर वर्गो पर अत्याचार आज भी बरकरार है. भले ही कानून हो पर उसकी परवाह कौन करता है. गरीब क्षेत्रों से आये लोगो की दशा आज भी वैसी ही है. बिहार या उत्तर प्रदेश से काम की खोज में आये लोगो की दशा दिल्ली या मुंबई जैसे बड़े शहरो में आज भी दयनीय हैं. आज भी कितने पहाड़ी या नेपाली घरों में चौकीदारी का काम कर रहे है, आज भी छोटे छोटे बच्चों को ढाब्बे पर काम करता देखा जा सकता है. लेकिन दिगपाल की दशा ऐसी ख़राब नहीं थी वो मौसी के घर में काम ज़रूर करता था पर परिवार के सदस्य की ही तरह रहता था, घर का काम खत्म कर वो मुझे ले जाता और कभी छत पर तो कभी बाहर चबूतरे पर मेरे साथ खेलता. मेरी आदत थी खेलते खेलते सो जाने की, और मैं ऐसी जगह ढूंढता खेलने की जहाँ कोई मुझे ढूंढ ना सके. मौसीजी के कमरे में पलंग के नीचे , घर में कोठे( छोटा सा स्टोर रूम) के अंदर. दिगपाल को मेरे इन जगहों का पता होता था. जब भी घरवाले मुझे ढूंढते तो दिगपाल ही मुझे ढूंढ निकालता. एक रोज़ दिगपाल बाहर सामन खरीदने गया हुआ था और घरवाले मुझे ढूंढ रहे थे, जब मुझे मौसी के घर में या पड़ौस के घरो में नहीं ढूंढ पाए तो पुलिस में मेरे खोने की रपट लिखवा दी. दिगपाल जब घर आया और उसे पता चला कि घरवाले मुझे ढूंढ रहे है तो उसने झट से मुझे ढूंढ निकाला, क्योकि मैं बड़ी मौसी के घर में उनके पलंग के नीचे सो गया था. जब हमने घर बदला तब भी वो सामान खरीदने के बहाने हमारे घर आ जाता और मुझे छत पर ले जाकर मेरे साथ खेलता. मुझे याद है कि जब हमने घर बदला मेरे पैर की हड्डी टूट गई थी और प्लास्टर चढ़ा हुआ था, मैं चल फिर नहीं पाता था, इसलिए मेरे खेलने के लिए कबूतर पाल लिए थे जिन्हे छत पर दड़बे में रखते थे. दिगपाल मुझे गोद में छत पर ले जाता और देर तक कबूतरों और मुझसे खेलता. फिर अचानक उसका आना जाना बंद हो गया. मैं छोटा था इसलिए नहीं जानता था कि उसका आना जाना क्यों छूट गया. जब कुछ बड़ा हुआ तो यही जान पाया कि वो फ़ौज़ में भर्ती हो गया. काफी साल बाद जब वो छुट्टियों में आया तो मौसीजी से मिलने आया, तब हमारे घर भी आया ,तब तक मैं काफी बड़ा हो चूका था स्कूल जाने लगा था और शायद वो भी जवान हो गया था शक्ल पहचान में नहीं आती थी, और उससे बात करने में भी शर्म आती थी. कुछ देर घर में बैठ कर चाय-नाश्ता कर वो चला गया और फिर उसके बाद उसकी कोई खबर नहीं आई.

अगला लेख: कर्म और त्याग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 अगस्त 2018
भूत जिसे आकाश निगल गया है और भविष्य के बीज अभी आकाश में है, ना तो भूत साथ है और ना ही भविष्य, साथ है तो सिर्फ वर्तमान. भूत और भविष्य पर गर्व वो करते है जिनके पास वर्तमान में गर्व करने को कुछ होता नहीं है. हम क्या थे या हम
04 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
पू
पूजा, उपासना जो बिना स्वार्थ के किया जाए, बिना किसी फल की इच्छा से किया जाए, जो सच्चे मन से सिर्फ ईश्वर के लिए किया जाए वो पूजा सात्विक है , सात्विक लोग करते है. जो पूजा किसी फल की प्राप्ति के लिए की जाये, अपने शरीर को कष्ट द
06 अगस्त 2018
12 अगस्त 2018
कलम के सिपाही की विरासत को यूँ बदनाम ना करो, सिपाही हो कलम के तुम यूँ किसी के प्यादे ना बनो.ये दो लाइने कलम के सिपाही मुंशी प्रेमचंद को समर्पित है, और उन पत्रकारों , लेखकों, कवियों और शायरों को उनका धर
12 अगस्त 2018
05 अगस्त 2018
बब्बू एक नाम है जो कभी कभी मेरे ज़हन में उभरता है. बब्बू मेरी सबसे बड़ी मौसी का लड़का था जिसकी दिमागी हालत ठीक नहीं थी, कभी कभी दौरे पड़ते थे तो उसे शायद बाँध दिया जाता था , वैसे ज्यादातर वो खुला रहता था, मुझे बचपन का सिर्फ इतना याद है जब वो कुछ ठीक
05 अगस्त 2018

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x