कलम का सिपाही ( लेख )

12 अगस्त 2018   |  pradeep   (123 बार पढ़ा जा चुका है)

कलम के सिपाही की विरासत को यूँ बदनाम ना करो,

सिपाही हो कलम के तुम यूँ किसी के प्यादे ना बनो.

ये दो लाइने कलम के सिपाही मुंशी प्रेमचंद को समर्पित है, और उन पत्रकारों , लेखकों, कवियों और शायरों को उनका धर्म याद दिलाने के लिए जो आज चाटुकारिता के लिए सच से आँखे चुरा रहे है. मुंशी प्रेमचंद जिन्होंने अंग्रेजी हुकूमत के सामने कभी सिर नहीं झुकाया. गरीबी में रहे और सच के लिए पूरी ज़िंदगी लड़ते रहे. देश के पहले सच्चे पत्रकार जिन्होंने सत्य की मशाल को अंग्रेज़ो, साहूकारों, स्वर्णो, राजा-महाराजाओं के अत्याचार के सामने बुझने नहीं दिया. ना ही कभी माफ़ी मांगी, ना ही अपनी आवाज़ को दबने दिया. (आलिम)

अगला लेख: कर्म और त्याग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 अगस्त 2018
सूर्य का सिंह में गोचरकल श्रावण शुक्ल सप्तमी यानी 17 अगस्तको 06:50 के लगभग सूर्यदेव अपने मित्र ग्रह चन्द्र की कर्क राशि से निकल कर अपनीस्वयं की राशि सिंह और मघा नक्षत्र में प्रस्थान कर जाएँगे, जहाँ तीन सितम्बर को बुध का प्रस्थान भी हो जाएगा |सिंह सूर्य की मूल त्रिकोण राशि भी
16 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
पू
पूजा, उपासना जो बिना स्वार्थ के किया जाए, बिना किसी फल की इच्छा से किया जाए, जो सच्चे मन से सिर्फ ईश्वर के लिए किया जाए वो पूजा सात्विक है , सात्विक लोग करते है. जो पूजा किसी फल की प्राप्ति के लिए की जाये, अपने शरीर को कष्ट द
06 अगस्त 2018
08 अगस्त 2018
मे
अपनी बर्बादियों का हमने यूँ जश्न मनाया है, सितमगर को ही खुद का राज़दार बनाया है. गम नहीं है मुझे खुद अपनी बर्बादी का,सितमगर ने मुझको अपना दीवाना बनाया है.दीवानगी का आलम कुछ यूँ है मेरे यारो, उनकी दिलज़ारी पे हमको मज़ा आया है. लोग त
08 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
बू
आसमां से धरती तक पदयात्रा करती हरित पर्ण पर मोती सी चमकती बूंद बूंद घट भरे बहती बूंदे सरिता बने काली ने संहार कर एक एक रक्त बूंद चूसा बापू ने रक्त बूंद बहाये बिना नयी क्रांति का आह्वान किया बरसती अमृत बूंदें टेसू पूनम की रोगी काया को निरोगी करे मन को लुभाती ओस की बूंदें क्षणभंगुर सम अस्तित्व का ज
06 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
दि
कहते है कि जब दिल और दिमाग के बीच किसी मुद्दे को लेकर जंग चल रही हो तो दिल की बात सुननी चाहिए ना कि दिमाग की. ऐसी ही सोच लोगो को भक्ति की तरफ ले जाती है जहाँ लोग दिमाग से काम लेना बंद कर देते है. भक्ति योग और कर्म योग दोनों ही रास्ते मुक्ति की
09 अगस्त 2018
11 अगस्त 2018
अर्जुन का महाभारत के युद्ध के समय, युद्ध ना करने का निर्णय अर्जुन का अहंकार था. ज्यादातर लोग उसके इस निर्णय का कारण मोह मानते है, परन्तु भगवान् कृष्ण इसे उसका अहंकार मानते है. जिस युद्ध का निर्णय लिया जा चूका है, उस युद्ध को अब
11 अगस्त 2018
02 अगस्त 2018
गु
क्षण-प्रतिक्षण,जिंदगी सीखने का नाम सबक जरूरी नहीं,गुरु ही सिखाएजिससे शिक्षा मिले वही गुरु कहलाये जीवंत पर्यन्त गुरुओं से रहता सरोकार हमेशा करना चाहिए जिनका आदर-सत्कार प्रथम पाठशाला की गुरु माँ बनी दूजी शाला के शिक्षक गुरु बने सामाजिकता का पाठ माँ ने सिखाया शैक्षणिक स्तर शिक्षक ने उच्च बनाया नैतिक श
02 अगस्त 2018
08 अगस्त 2018
सच बोलने से गर डर लगता है यारो, झूठ ऐसा बोलो कि सच सामने आये. सच को बताने की अक्सर ज़रूरत तो नहीं होती, हाकिम ही गर हो झूठा,तो सच बताना ही पडेगा. (आलिम).
08 अगस्त 2018

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x