' घन बन बरसने लगती'

11 नवम्बर 2018   |  anita singh

(1 उत्तर)

मैं जाती हूँ जब
तुम्हारे विस्मृत पथों पर
घन बन बरसने लगती स्मृति
भीग भीग मैं जाती
हृदय के तार बज उठते
जब तुम गाते थे मेरे साथ
अश्रु बहने लगते
नीरवता छा जाती
तुम गा उठते मेरे हृदय तारों के साथ साथ
कुछ यादें लहरों पर बहतीं
कुछ तट पर रह जातीं
दोनों में भरकर पुष्पों को
एक बार बहा देती
गंगा में, सोच
विदा लेती मैं,
भारी मन से
घन बन बरसने लगती स्मृति
भीग भीग मैं जाती
डूब गया जो दोना
बहाने से लगता है डर
चलकर डिब्बी में
कर लेती हूँ माला बंद
फिर लौटूँगी
तुम्हारे विस्मृत हुये पथों पर
और तुमको लौटाउँगी
तुम्हारे स्मृति चिन्ह
बार बार का वादा मेरा
टूट क्यों जाता है
हर बार का मोह तुम्हारा
छूट क्यों नहीं जाता है
घन बन बरसने लगती स्मृति
भीग भीग मैं जाती।


हन




.

Tushar Thakur
14 दिसम्बर 2018

Thanks For Posting such an amazing article, i really love to read your Post

regulearly on this community of shabd.



Also Visit :<a href="https://bharatstatus.in">bharatstatus</a> &

Read Also: <a href="https://bharatstatus.in/latest-jokes">WhatsApp Funny jokes</a>

Read Also:<a href="https://bharatstatus.in/facebook-status-and-royal-attitude-status">attitude status in hindi</a>

उत्तर दीजिये


शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

अन्य लोकप्रिय प्रश्न
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x