भोग मुक्त इश्क

06 जुलाई 2019   |  bhavna Thaker

(0 उत्तर)

#तन की हकीकत नापी है तूने मेरी शब भर,
मन तक पहुँच पाते तो क्या बात थी..!

#तन की आबरू की बिसात अनमोल मेरी
#बस तन से इश्क जोड़ा तूने
मन की खिड़की से झाँकते..!
#मन मंदिर सा पाक ना #दहलीज़ लाँघी तूने
जिस्म का जश्न मनाते रहे..!

#भय मुक्त से तुम मुझमें रहते हो
लहू की रवानी में
फिर भी मेरी रूह #तक का तुम्हारा #सफ़र फासलो में रहा..!

#तन की पूजा से परे मेरी #ओर एक नज़र भर देखना #तुम्हारे लिए बहुत दूर की बात है ना ?
#तन पिपासा त्यज कर
कभी मन में #बसकर देखो जिस मंदिर #के आराध्य तुम हो मुझे #नतमस्तक सी #पूर्णतः समर्पित पाओगे..!

#भोग मुक्त इश्क की परिभाषा... स्पर्श से परे स्पंदनों में #सिमटकर तुम्हारी #आगोश में भी रहूँ मैं अनछुई...
भावु।

  •   ( 0 वोट )
  •   ( 0 वोट )
  •   ( 0 वोट )

उत्तर दीजिये


शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
अन्य लोकप्रिय प्रश्न
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x