सच्ची स्वतंत्रता का अर्थ

14 सितम्बर 2019   |  आशीष मिश्रा

(0 उत्तर)

स्वतंत्रता का अर्थ ‘ हर तरह की आजादी ‘ नहीं हो सकती | भोग-लिप्सा के लिए आजादी नहीं होती |
सच्ची स्वतंत्रता बंधन के स्वयं- स्वीकार से जुडी हुई है , क्योकि बिना उक्त बंधन-स्वीकार के विकास नहीं हो सकता है |
नदी यदि दोनों तटों के बंधन को स्वीकार ना करे तो वह कभी भी सागर में नहीं मिल सकती है , उल्टा विनाशकारी ही होगी |
वृक्ष यदि धरती के बंधन को स्वीकार ना करे तो कभी भी विकास और हरीतिमा को प्राप्त नहीं हो सकता |
यहाँ तक सर्व-शक्तिमान सागर भी मर्यादा का त्याग नहीं करता | यदि वह मर्यादा का त्याग कर दे तो इस धरा का अस्तित्व ही नहीं रहेगा |

स्वयं में स्थित सागरत्व को पहचानकर स्व-कल्याणार्थ एवं मानव कल्याणार्थ मर्यादा का स्वीकार करने से ही हम सच्चे स्वतंत्रता की और बढ़ सकते हैं |”

उत्तर दीजिये


शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
अन्य लोकप्रिय प्रश्न
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x