सेना ।

20 फरवरी 2016   |  गुरमुख सिंह

(2 उत्तर)

सिविल प्रबंधन हेतू पुलिस बल का गठन हुआ है । लेकिन पुलिस बल संख्या में कम है और उस पर उन पर सिविल सुरक्षा से ज्यादा नेताओं की सुरक्षा का बोझ है । ऐसे में जरुरी है कि नेताओं की सुरक्षा के लिए अलग से एक बल का गठन हो। पुलिस को सेना के बराबर का प्रशिक्षण मिले । तो सेना की सेवाऐं सिर्फ सीमाओं पर ली सकती हैं।

गुरमुख जी, जहाँ आवश्यक होता है हमारी सेनाएं वहां पर अपना दम-ख़म लगाने में कोई कोर कसर बाक़ी नहीं रखती है; लेकिन सिविल प्रबंधन हेतु सेना तैनात करने के बजाए उन्हीं बलों को और अधिक ताक़तवर और मुस्तैद होने की आवश्यकता है जिन पर खास तौर से इसकी ज़िम्मेदारी है.

उत्तर दीजिये


शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
अन्य लोकप्रिय प्रश्न
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x