आप क्या मानते हैं कि शहरों में ज़मीन कम है ?

01 अप्रैल 2016   |  ओम प्रकाश शर्मा

(2 उत्तर)

उषा यादव
02 अप्रैल 2016

शहरों में ज़मीन की कमी नहीं बल्कि दिल कम और दिमाग ज़्यादा है और अब यही दिमाग गाँवों की ओर चल पड़ा है . हर व्यक्ति अपने हिस्से में ज्यादा से ज़्यादा ज़मीन चाहता है लेकिन जितनी ज़मीन हर किसी को मुहैय्या है उस पर वो करता क्या है ये समझने की बात है I

गांव की ज़मीन तक तो शहरीकरण से कम होती जा रही हैं फिर शहरों के बारे में सहज ही सोचा जा सकता है | हालाँकि शहरों में वाकई में बहुत सारी ऐसी जगहें हैं जिनका प्रयोग सार्थक रूप में किया जा सकता है |

उत्तर दीजिये


शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
अन्य लोकप्रिय प्रश्न
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x