कायस्थः कासाइट कार्थेज काशी और कशमीर तक ...

भारतीय समाज ही नहीं अपितु विश्व के सम्पूर्ण मानव समाजों में संस्कृतियों की भित्तियाँ ( दीवारें) धर्म की आधार-शिलाओं पर प्रतिष्ठित हुईं । भाषा जो परम्परागत रूप से अर्जित सम्पदा है वह भी मानव समाजों के सांस्कृतिक , धार्मिक और व्यावहारिक जीवन के संवादों की संवाहिका रही है । संस्कृतियों 'ने समय के अन्तर


चीन के प्रति सजग रहने की जरूरत।

चीन के प्रति सजग होने की जरूरत।चीन हमेशा से ही विस्तारवादी रहा है।हालाँकि वो ये बात क्यों ही मानेगा लेकिन उसकी नीतियाँ हमेशा ऐसी ही रही हैं।1940 के मैप को वो मानता है।उसके हिसाब से आज का अरुणाचल प्रदेश,ताइवान,दक्षिण चीन सागर,सिक्किम,अक्साई चीन से लेकर शिनजियांग,पाकिस्तान के ग्वादर तक उसके व्यापारिक


भारत भ्रमण - सारनाथ

Friends!In today’s episode of our weekly program – भारत भ्रमण – Tour of India –we will takeyou on a tour of Sarnath with an executive member of WOW India, SunandaSrivastava, who worked as SuperintendingArchaeologist in Archaeological Survey of India, NewDelhi. Sarnath is a famous Holycity equally in



तुलना खुद से ही।

कोई भी व्यक्तिप्रतिभावान हो सकता है चाहे वो किसी भी परिवेश या समाज से संबंध रखता हो। ये बातअलग है कि कहीं कहीं लोग अपने जान- पहचान वालों को ही मौका देना पसंद करते हैलेकिन इसका अर्थ ये नहीं कि आपको दूसरे इंसान को अपने से कमतर आंकने का अधिकार मिलगया है। कुछ इंसानों की बहुत बुरी आदत होती है कि वो हमेशा



सरकारी तसल्ली - दिनेश डॉक्टर

दिनेश शर्मा की सुबह सुबह की राम राम सब दोस्तो , बुजुर्गों बच्चों को । जो लोग वक़्त बेवक़्त हर रोज़ यहाँ वहाँ पूरे देश में जब चाहे मनमर्जी से लॉक डाउन लगाने और बढ़ाने की प्रस्तावना देते हैं वो सब सरकारी अमले के लोग है जिनकी पूरी पूरी तनख्वाहें हर महीने की एक तारीख को उनके खाते में पहुंच जाती है । जिन लोग



शहर रौशन है तो गांवों के लोगो ने क्या जुर्म कर दिया!

शहर रौशन है तो गांवों के लोगो ने क्या जुर्म कर दिया!मनुष्य की मूलभूत आवश्यकताएं हैं- रोटी,क पड़ा,मकान, हवा,पानी,ओैर रौशनी इनमें से एक भी न मिले तो इंसान का जीना दूबर हो जाता है. अगर यह बात देश में आने-जाने वाली हर सरकार पिछले तेहत्तर चौहत्तर सालों में भी समझ जाती तो शायद आज हमारे देश के गांवों की



कोरोना का सच भाग 2

भारत में इतना करोना का जोर नहीं था।लेकिन कुनिका कपूर के टी वी पे आने के बाद यह अचानक से पूरे देश में फेल गया।रही सही कसर तबलिक जमात के टी वी पे आने से पूरी हो गई।फिर तो कोरोना ने जो रफ्तार पकड़ी कि उसे थामना मुश्किल हो गया। जगह जगह धर पकड़चल गई।लोग भ्रम में पड़ गए , स



कोरोना तो करोना, सांप भी पीछे नहीं!

कोरोना तो करोना, सांप भी पीछे नहीं!इस समय कोरोना ही नहीं सर्प भी लोगों का दुश्मन बना हुआ है. देश में इस समय मानसून और कोराना का दौर चल रहा है.कोरोना और सर्प का विष दोनो ही मनुष्य पर हावी है. कोरोना से मौत का सिलसिला हमारे देश में इस साल शुरू हुआ किन्तु पिछले बीस सालों में सांप के काटने से तकरीबन



🌸– •यादव –यादव– यादव– यादव– यादव •–🌸

यादव" भारत में ही नहीं अपितु पश्चिमी एशिया, मध्य अफ्रीका , तथा यूरोप का प्रवेश द्वार समझे जाने वाले यूनान तक अपनी धाक दर्ज कराने वाली आभीर जन-जाति का प्रतिनिधि समुदाय है। पारम्परिक रूप से इन्हें इनके वृत्ति (व्यवसाय) मूलक विशेषण के तौर पर गोप , गोपाल कहा जाता है ।यद्यपि वंशमूलक रूप से भारतीय पुराणों


हत्या या एनकाउंटर

🔴संजय चाणक्य " कलम सत्य की शक्तिपीठ है बोलेगी सच बोलेगी। वर्तमान के अपराधो को समय तुला पर तोलेगी।। पांचाली के चीरहरण पर जो चुप पाये जायेगे। इतिहास के पन्नों पर वो सब कायर कहलायेगे।।"देश के सबसे बडे सूबे मे कानपुर के डिप्टी एसपी सहित आठ पुलिसकर्मियों का हत्यारा व पांच लाख का इनामी गैगेस्टर



वीरान हवेली का राज

रात के 10 बजेथे। 18 साल की रज्जो अपनी साइकिल से खेतसे गुजरने वाले रास्ते से तेज-तेज गति में निकल रही थी। तभी धनिया वहां कुछ काम कररहा था, बोला “ अरे इतनी रात को क्या काम है तुझे ? क्या प्रेमी से मिलने जा रही है जो अंधेरे का वक्त चुना है तुने, कुछ डरहै कि नहीं तुझे, औरत ज



चीन के लिए विश्व एक बाजार है भारत चीन का बाजार बन गया है

चीन के लिए विश्व एक बाजार है भारत चीन का बाजार बन गया है डॉ शोभा भारद्वाज एक अक्टूबर 1949 माओत्से तुंग के नेतृत्व में चीन में साम्यवादी गणराज्य की स्थापना हुई अत :जब कम्यूनिस्ट पार्टी अर्थात माओ ने सत्ता सम्भाली देश बेहद गरीब था



अपनी भूलों से घबराएँ नहीं, उनसे शिक्षा लें

अपनी भूलों से घबराएँ नहीं, उनसे शिक्षालेंहमारे पास किसी समस्या से त्रस्त होकर कंसल्टेशन के लिए जो लोग आते हैं तोकई बार वे प्रश्न कर बैठते हैं कि डॉ पूर्णिमा, हमने तो जीवन में कभी कोईभूल नहीं की – कभी कोई अपराध नहीं किया – फिर हमारे साथ ऐसा क्यों हो रहा है ? कलभी कुछ ऐसा ही हुआ | किन्हीं सज्जन से फोन



एक था बचपन भाग 4(संस्मरण)

मेरी कार धीरे धीरे सुनसगांव में प्रवेश करती है और मंदिर के सामने पत्थर वाले रोड से गुजरती है।सामने बाबू सोन जी मामा का मकान दिखता है हमेशा मुस्कराने वाला मामा और पतली आवाज



वाद को पनपने मत दो।

वाद को पनपने मत दो।गाँव मे जातिवाद, जिले में गैंगेस्टर, प्रदेश में माववादी, प्रदेश बॉर्डर में नक्सलवादी, देश बॉर्डर में आतंकवादी। इन सब से हारे तो वायरस वाद, इन सब का बाप राजनीतिवाद। यह आम जनता को न जीने देते है न मारने देते है। इन सब का झूठ का पुलिंदा बांधने वाला मीडियावाद, आजकल समाजवाद पर हॉबी है।



भारत में बढ़ती आबादी चिंता का विषय है

भारत में बढ़ती आबादी चिंता का विषय है डॉ शोभा भारद्वाजकोरोना महामारी ने विश्व के देशों की अर्थव्यवस्था की ग्रहण लग गया महामारी से बचाने के लिए लाक डाउन मजबूरी थी लेकिन बेरोजगारी बढ़ती जा रही था | भारत सरकार कोरोना से पीड़ित भारतीयों की स्वदेश वापसी करवाई क्या वह वापिस जा सकेंगे यदि नहीं उनके रोजगा



मुंग की खेती से प्रति एकड 25 हजार का शुद्ध घाटा । कौन करेगा इसकी भरपाई ?

एकड़ में मूँग फसल की लागत का पूरा हिसाब किताब -जमीन तैयार करने और बोने में ट्रेक्टर का डीजल 16 लीटर - 1120 रु.बीज का खर्चा (15 से 20 किलोग्राम) - 2000 रु.बीज उपचारित दवाई - 50 रुउर्वरक खाद (DAP)का खर्चा - 600 रु.कीटनाशक दवाई 4 स्प्रे का खर्चा - 3500 से 4000 रु.दवाई छिड़कने, पानी देने की मजदूरी - 15



‘विकसित’’ यूपी में ‘‘विकास‘‘ ‘‘राज‘‘ के साथ ‘‘ अराजकता राज‘‘ भी चल रहा है!

जिस बात की आशंका ‘‘गैंगस्टर’’ विकास दुबे की गिरफ्तारी के समय उत्पन्न हो रही थी व कतिपय क्षेत्रों में व्यक्ति भी की गई थी, वह अंततः चरितार्थ सही सिद्ध हुई। मुठभेड़ की घटना के पूर्व ही माननीय उच्चतम न्यायालय में एक वकील द्वारा दायर याचिका में भी उक्त आंशका व्यक्त की गई थी। यह आशंका भी व्यक्त की जा रही



सीबीएसई का नया पाठ्यक्रम।

आपको पता है सबसे अच्छा तरीका क्या है किसी की आवाज़ दबाने का?।उसकी सोच बनने ही ना दो।उसे पढ़ने ही ना दो।सदियों महिलाओं को शिक्षा से दूर रखा गया।क्योंकि पुरुष प्रधान समाज नहीं चाहता था कि वो पढ़ें,या घर से बाहर निकलें।सावित्री फुले,फातिमा के बारे में पढ़ लीजिएगा।मानव विकास संसाधन मंत्रालय द्वारा सीबीएसई क


Sketches from life: खबरदार

- सुनो नाश्ता लगा दिया.- आया. - अचार लोगे ?- नहीं.- कल की खबर सुनी?- क्या?- वो जो कोने वाला मकान है दो मंजिला?- हाँ गोयल पेट्रोल पंप वाले का?- वही वही. कल बड़ा तमाशा हुआ. कल शाम को एक औरत गाड़ी चला कर एक बच्चे के साथ आई. गोयल के मकान के सामने गाड़ी खड़ी करके अंदर चली गई. जा क





आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x