HindiBlogging - हिंदी में वर्डप्रेस ब्लॉग्गिंग के लिए अग्रिम मार्गदर्शक

HindiBlogging - हिंदी में वर्डप्रेस ब्लॉग्गिंग के लिए अग्रिम मार्गदर्शकHindiBlogging का हेतु, ब्लॉगिंग के लिए लोगों को प्रेरित करने, सीखने और कार्यरत होने के लिए प्रोत्साहित करना हे, चाहे वे पैसे या रुचि के लिए ब्लॉगिंग करते हों। यह वेबसाइट उन लोगों के लिए बनाई गई है जो ब्लॉगर हैं, जो वेबसाइट बनाना



‘‘चीन’’ का नाम ‘‘क्यों’’ नहीं लिया ? भारतीय? राष्ट्रीय? कांग्रेस!

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ‘अचानक’ ‘‘लेह’’ (लद्दाख) की 11000 फुट की उंचाई पर स्थित अग्रिम चौकी ‘‘नीमू’’ पंहुचकर सैनिकों के बीच ‘‘दम’’ भर कर सेना की हौसला अफजाई की। यह कहकर कि ‘‘बहादुरी और साहस शांति की जरूरी शर्ते है, दुश्मन ने हमारे जवान की ताकत व गुस्से को देखा है‘‘। उक्त दौरे के बाद कांग्रेस क



कंजूस की इंसानियत hindi and english

आज का प्रेरक प्रसंग            कंजूस की इंसानियतएक नगर के बहुत बड़े सेठ का देहांत हो गया..उसका एक बेटा था, जो सोचने लगा, कौन आयेगा मेरे पिताजी के अंतिम संस्कार में..जीवन भर तो इन्होनें कोई पुण्य, कोई दान धर्म नही किया.. बस पैसे के पीछे भागते रहें..सब लोग कहते है ये तो कंजूसों के भी कंजूस थे, फिर कौन


गुरु वन्दना

मेरे समस्त स्नेही पाठकवृन्द को गुरु पूर्णिमा की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं --- तुम कृपासिन्धु विशाल , गुरुवर ! मैं अज्ञानी , मूढ़ , वाचाल गुरूवर ! पाकर आत्मज्ञान बिसराया .छल गयी मुझको जग की माया ;मिथ्यासक्ति में डूब -डूब हुआ अंतर्मन बेहाल , गुरुवर ! तुम्हारी कृपा का अवलंबन , पाया अ



कुछ अधूरी ज़िन्दगी,जो पूरी हुई

मै जब यह लिखने बैठा तो एक एक कर अतीत के पन्ने खुलते चले गए। मै आखिर एक सरकारी मुलाजिम रहा,मुझे सीमित आय में घर को व्यवस्थित चलाना पड़ता।उसके



गुरु व शिष्य धर्म

*जय श्रीमन्नारायण**श्री यतिराजाय नमः*🥀🌷🥀🌷🥀🌷🥀🌷 *गुरु शिष्य के कर्तव्य*☘️🌿☘️🌿☘️🌿☘️🌿सभी मित्रों को पावन गुरु पूर्णिमा पर्व की व श्री व्यास जन्मोत्सव की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं गुरु और शिष्य का मिलन ठीक उसी प्रकार है जैसे एक छोटा सा जलबिंदु अनंत सागर में जाकर के मिले आज का दिन वही अवसर



गुरु पूर्णिमा ( संस्मरण )

गुरु पूर्णिमा डॉ शोभा भारद्वाज गुरु पूर्णिमा के अवसर पर बचपन की स्मृतियाँ मन पर छाने लगती हैं | जिन्हें भूलना आसान नहीं हैं हमारा बचपन प्रयागराज में बीता हमारे घर के साथ एक गली थी उसके साथ चार मंजिल का मकान था उस समय के हिसाब से बहुत आलिशान घर यहाँ महाजन परिवार रहता था वह आढ़ती थे घर का मालिक गं



वृद्धाश्रम

वृद्धाश्रम.....पहले तो होते नहीं थे क्यूंकि पहले के वृद्ध खुद को वृद्ध समझते थे। आज के वृद्ध पहले जैसे नहीं रहे।पहले वृद्ध अपने नाती पोतों में व्यस्त होते थे।आज के बुजुर्ग फोन टीवी और लैपटॉप में।बदलाव आया है सबमें पहले के बुजुरगों को बच्चो की हर एक्टिविटी से मतलब होता था आज के बुज़ुर्ग को सिर्फ फोन



किसान और चट्टान हिंदी और अंग्रेजी में

!! *किसान और चट्टान* !!------------------------------------------------एक किसान था. वह एक बड़े से खेत में खेती किया करता था. उस खेत के बीचों-बीच पत्थर का एक हिस्सा ज़मीन से ऊपर निकला हुआ था जिससे ठोकर खाकर वह कई बार गिर चुका था और ना जाने कितनी ही बार उससे टकराकर खेती के औजार भी टूट चुके थे. रोजाना


सोमवंशी ययाति पुत्र यदु बनाम सूर्य वंशी हर्यश्व पुत्र यदु ...

महाभारत का सम्पादन बृहद् रूप पुष्यमित्र सुंग के शासन काल में हुआ ।भारत की प्राचीनत्तम ऐैतिहासिक राजधानी मगध थी ।जो आधुनिक विहार है ।मगध से विहार बनने के सन्दर्भ में ये तथ्य विदित हैं कि महात्मा बुद्ध के नवीनत्तम सम्प्रदाय पाषण्ड में जो नव दीक्षित श्रमण थे उनके आश्रमों को विहार कहा गया था ।पाषण्ड श


गुरु पर्व - गुरु पूर्णिमा

अज्ञान्तिमिरान्धस्य ज्ञानांजनशलाकयाचक्षुरुन्मीलितं येन तस्मै श्री गुरवे नमःआजगुरु पूर्णिमा का पावन पर्व है | कल प्रातः 11:35 के लगभग पूर्णिमा तिथि का आगमन हुआथा | जो आज सवा दस बजे तक रहेगी | उदया तिथि होने के कारण गुरु पूजा का पर्व आज हीमनाया जाएगा | पूर्णिमा काव्रत क



गुरु पूर्णिमा पर विशेष

*जय श्रीमन्नारायण**श्रीमद गुरु चरणकमलेभ्यो नमः*🌼🌹🌼🌹🌼🌹🌼🌹🌼 *श्री गुरु पूर्णिमा विशेष* *भाग षष्ठ*🌸🌼🌸🌼🌸🌼🌸🌼आप सभी भगवत भक्तों को पावन गुरु पूर्णिमा महापर्व की हार्दिक बधाई बहुत-बहुत शुभकामनाएं अनेकानेक अमंगल अनुशासनम आज का पावन पर्व वह पर्व है जिस दिन गुरु अपने शिष्य को शक्तिपात दीक्षा



Sketches from life: शूटिंग

खैर समय गुजरा मन्नू जी चीफ मैनेजर बन गए और उन्हें मुम्बई भेज दिया गया. एक साल रह गया था रिटायर होने में और ऐसे में तो दिल्ली ही रखना चाहिए था पर मुम्बई भेज दिया. कमबख्त एच आर डी का दिमाग उलटा ही चलता है. खैर हो सकता है इसी बहाने करीना से मुलाकात हो जाए! मनोहर नरूला जी



आज ही क्यों नहीं - हिंदी और अंग्रेजी में

प्रेरणादायक कहानीआज ही क्यों नहीं ?एक बार की बात है कि एक शिष्य अपने गुरु का बहुत आदर-सम्मान किया करता था |गुरु भी अपने इस शिष्य से बहुत स्नेह करते थे लेकिन वह शिष्य अपने अध्ययन के प्रति आलसी और स्वभाव से दीर्घसूत्री था | सदा स्वाध्याय से दूर भागने की कोशिश करता तथा आज के काम को कल के लिए छोड़ दिया


विजेता मेंढक हिंदी और अंग्रेजी दोनों में

प्रेरणादायक कहानी विजेता मेंढकबहुत समय पहले की बात है एक सरोवर में बहुत सारे मेंढक रहते थे| सरोवर के बीचों -बीच एक बहुत पुराना धातु का खम्भा भी लगा हुआ था| जिसे उस सरोवर को बनवाने वाले राजा ने लगवाया था| खम्भा काफी ऊँचा था और उसकी सतह भी बिलकुल चिकनी थी|एक दिन मेंढकों के दिमाग में आया कि क्यों


ट्रेन की पटरियों के आसपास कंकड़ क्यों डाले जाते/hindi aur english both

आज का विज्ञान _ट्रेन की पटरियों के आसपास कंकड़ क्यों डाले जाते_ ट्रेन बहुत तेजी से चलती है और जब ट्रेन चलती है तो पटरीयों में बहुत तेजी से कंपन होता है इसी कंपन के कारण पटरीयां इधर-उधर न हिलें इसीलिए रेल की पटरीयों के आस पास कंकड डाले जाते हैं ये कंकड पटरीयों पर स्प्रिग का कार्य करते हैं जब पटरीयों


जंक्शन प्लैनेट विशेषांक (6)

इस बार कॉमिक्स जंक्शन टीम ने अपनी पत्रिका जंक्शन प्लैनेट की थीम मेरे ऊपर रखी . उन्होंने मेरी कई पुरानी कहानियों को रोमन हिंदी /हिंगलिश से देवनागरी में लिखा . आभार ! Comics Junction team announced that this edition of Comics Planet magazine is a



जंक्शन प्लैनेट पत्रिका (अंक 5)

जंक्शन प्लैनेट मैगज़ीन के पांचवे अंक में मेरी 2 कहानियां शामिल हैं. टीम को आभार ! 2 stories in April issue of Junction Planet. All Thanks to Comics Junction - CFS TeamMagazine Link (Issue 5)



छत्तीसगढ़ के पत्रकार की कहानी

छत्तीसगढ़ की पत्रकारिता में लगभग 4 दशक से ज्यादा का समय बीता चुके, 23 जून 1948 को जन्मे, एम ए जोसेफ जी मूलत: केरल के कोटयम जिले से आते हैं। 1954 में पिताजी के साथ पूरा परिवार मध्यप्रदेश आ गया। पिताजी की नौकरी के दौरान भोपाल,गंज बासोदा, मुरैना, शाजापुर में रहना हुआ। मुरैना में मिडिल स्कूल की पढ़ाई प


मेरे जनक तुम्हारी स्मृति

मित्रों, आजअपने जन्मदिन के अवसर पर अत्यन्त स्नेहशील और पूरी तरह से केयर करने वाले पति डॉ.दिनेश शर्मा, प्यारी बिटिया स्वस्ति श्री और उसके पति जीत के साथ साथ ढेर सारेमित्रों ने भी हार्दिक शुभकामनाएँ दीं | सभी का बहुत बहुत धन्यवाद | पर इतने लोगोंका प्यार और साथ मिलने के बाद भी न जाने क्यों पिताजी का अभ





आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x