गुर्ज्जरः जाट अहीर ! इन जैसा नहीं कोई वीर !!

अहीर ही वास्तविक यादवों का रूप हैं ।जिनकी अन्य शाखाएें गौश्चर: (गुर्जर) तथा जाट हैं।महाभारत आदि ग्रन्थों से उद्धृत प्रमाणों द्वाराप्रथम वार अद्भुत प्रमाणित इतिहास ________________________________________________दशवीं सदी में अल बरुनी ने नन्द को जाट के रूप में वर्णित किया है इस इतिहास कार का पूरा ना


गुर्ज्जरः जाट अहीर ! इन जैसा नहीं कोई वीर !!

अहीर ही वास्तविक यादवों का रूप हैं ।जिनकी अन्य शाखाएें गौश्चर: (गुर्जर) तथा जाट हैं।महाभारत आदि ग्रन्थों से उद्धृत प्रमाणों द्वाराप्रथम वार अद्भुत प्रमाणित इतिहास ________________________________________________दशवीं सदी में अल बरुनी ने नन्द को जाट के रूप में वर्णित किया है इस इतिहास कार का पूरा ना


गंगा दशहरा :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*विशाल देश भारत में सनातन धर्म का उद्भव हुआ | सनातन धर्म भिन्न-भिन्न रूपों में समस्त पृथ्वीमंडल पर फैला हुआ है , इसका मुख्य कारण यह है कि सनातन धर्म के पहले कोई धर्म था ही नहीं | आज इस पृथ्वी मंडल पर जितने भी धर्म विद्यमान हैं वह सभी कहीं न कहीं से सनातन धर्म की शाखाएं हैं | सनातन धर्म इतना व्यापक



महेश नवमी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म का प्रत्येक अंग किसी न किसी मान्यता व परम्परा से जुड़ा हुआ है | चाहे जड़ हो या चेतन , पर्व हो या त्यौहार , यहाँ तक कि समाज का वर्गीकरण भी पौराणिक एवं धार्मिक मान्यताओं से ही सम्बन्धित है | आज ज्येष्ठ शुक्लपक्ष की नवमी को "महेश नवमी" के नाम से जाना जाता है



मनुष्य एवं प्रकृति :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*परमपिता परमात्मा ने सुंदर सृष्टि का सृजन किया | ऊँचे - ऊँचे पहाड़ , पहाड़ों पर जीवनदायिनी औषधियाँ , गहरे समुद्र , समुद्र में अनेकानेक रत्नों की खान उत्पन्न करके धरती को हरित - शस्य श्यामला बनाने के लिए भिन्न - भिन्न प्रजाति के पेड़ पौधों का सृजन किया | प्राकृतिक संतुलन बना रहे इसलिए समयानुकूल ऋतुएं



सड़क पर हुए एक्सीडेंट का वीडियो बनाने और सेल्फ़ी लेने वालों की नोएडा पुलिस पर्ची काटने वाली है

नोएडा पुलिस ने ये तय किया है कि जो व्यक्ति रास्ते पर दुर्घटनाग्रस्त व्यक्ति की मदद करने के बजाए, उसका वीडियो बनाएगा या सेल्फ़ी लेगा उसकी पर्ची काटी जाएगी. ऐसा करने की नौबत इसलिए आई क्योंकि पुलिस ने नोटिस किया कि बीते कुछ महीनों में दुर्घटना स्थल पर वीडियो बनाना और सेल्फ़



भागवत धर्म के प्रणयिता -

वर्तमान में हिन्दुत्व के नाम पर अनेक व्यभिचारपूर्ण और पाखण्ड पूर्ण क्रियाऐं धर्म के रूप में व्याप्त हैं ।केवल हरिवंशपुराण को छोड़ कर सभी पुराणों में कृष्ण को चारित्रिक रूप से पतित वर्णित किया है।नियोग गामी पाखण्डी ब्राह्मणों ने  कृष्ण को एक कामी ,व्यभिचारी ,और रासलीला का नायक बनाकरयादवों की गरिमा को


कर्म का जन्म और सृष्टि का विस्तार- एक आध्यात्मिक विवेचना

एक सतसंग में निरंकारी मिशन के महापुरुष-जब मंच पर खुल कर विचार करने की हम्हें अनुमति देते हैं ।और प्रश्न करते हैं कि कर्म-- क्या है ? और यह किस प्रकार उत्पन्न होता है ?कई विद्वानों से यह प्रश्न किया जाता है ।मुझे भी अनुमति मिलती है ।मुझे भी आश्चर्य होता है !कि जिस प्रश्न को हम पर कोई उत्तर नहीं है ।फ


मनस् सिन्धु की विचार लहरें ! जहाँ ज्ञान के बुद्बुद ठहरें !

१-साहित्य गूँगे इतिहास का वक्ता है । परन्तु इसे नादान कोई नहीं समझता है ।। साहित्य किसी समय विशेष का प्रतिबिम्ब तथा तत्कालिक परिस्थितियों का खाका है । ये पूर्ण चन्द्र की धवल चाँदनी है जैसे अतीत कोई राका है ।। इतिहास है भूत का एक दर्पण।गुजरा हुआ कल गुजरा हुआ क्षण -क्षण ।।२- कोई नहीं किसी का मददगार हो


जन्म जन्मान्तरण के अहंकारों का सञ्चित रूप ही तो नास्तिकता है जो जीवन को निराशाओं के अन्धेरों से आच्छादित कर देती है।

जन्म जन्मान्तरण के अहंकारों का सञ्चित रूप ही तो नास्तिकता है जो जीवन को निराशाओं के अन्धेरों से आच्छादित कर देती है।समझने की आवश्यकता है कि नास्तिकता क्या है ?अपने अस्तित्व को न मानना ही नास्तिकता है ।क्यों कि लोग अहं में जीते है ।परन्तु यदि वे स्वयं में जी कर देखें तो वे परम आस्तिक हैं ।बुद्ध ने भी


शब्दों की अर्थावनति - राँड़ और रड़ुआ --

रडुओं का  क्या हाल होता है भक्तो                     सुनो- क्वार कनागत कुत्ता रोवे।तिरिया रोवे तीज त्यौहार ।                 आधी रात पै रडुआ रोवे सुनके पायल  की झंकार ।।_____________________________________________भावार्थ:- अश्वनी मास अर्थात क्वार के महीने में जब कनागत आते हैं यानी सूर्य कन्या राशि


महाभारत के लेखक गणेश देवता "भाग चतुर्थ" एक समीक्षात्मक लेख .../

महाभारत के लेखक गणेश देवता "भाग चतुर्थ"__________________________________________महाभारत बौद्ध कालीन संस्कृतियों का प्रकाशन करने वाला अधिक है ।-जैसे चाण्यक नीति से प्रभावित निम्न श्लोक देखे:-👇सतां साप्तपदं मैत्रं स सखा मे८सि पण्डित:।सांवास्यकं करिष्यामि नास्ति ते भयमद्य वै।56।( महाभारत शान्ति पर्व


जादौन चारण बंजारों का ऐैतिहासिक विवरण -उद्धृत अंश भारत की बंजारा जाति और जनजाति -3" लेखक S.G.DeoGaonkar शैलजा एस. देवगांवकर पृष्ठ संख्या- (18)चैप्टर द्वितीय...

__________________________________________अभी तक जादौन , राठौर और भाटी आदि राजपूत पुष्य-मित्र सुंग कालीन काल्पनिक स्मृतियों और पुराणों तथा महाभारत आदि के हबाले से अहीरों को शूद्र तथा म्लेच्‍छ और दस्यु के रूप में दिखाते हैं तो इसमें कोई आश्चर्य भी नहीं क्यों कि पुराणों या स्मृतियों ने जिन वेदों को आप


जादौन जन-जाति के आयाम -

__________________________________________अभी तक जादौन , राठौर और भाटी आदि राजपूत पुष्य-मित्र सुंग कालीन काल्पनिक स्मृतियों और पुराणों तथा महाभारत आदि के हबाले से अहीरों को शूद्र तथा म्लेच्‍छ और दस्यु के रूप में दिखाते हैं ।परन्तु उनका तो पौराणिक ग्रन्थों में किसी प्रकार का इतिहास नहीं क्यों कि इनका


आज़ादी देने की नहीं, छीनने की आवश्यकता

अक्सर में लोगों को ये कहते सुनताहूँ कि महिलाओं या लड़कियों को लड़कों के समान आज़ादी मिलनी चाहिए। शायद आप भी इस बात से हामी भरते होंगे, पर मैं नहीं। क्योंकि हम लड़कों के लिए जिस आज़ादी शब्द का प्रयोग करते हैं। असल में वो



साप्ताहिक राशिफल १० जून से १६ जून

10 से 16 जून 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर आध



माँ



समूह या संगठन का महत्त्व :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*जबसे इस धराधाम पर मानव की सृष्टि हुई तबसे ही मनुष्य ने समूह एवं संगठन को महत्त्व दिया है | या यूँ भी कहा जा सकता है कि मनुष्य के विकास में समूह व संगठन का विशेष योगदान रहा है | आदिकाल में जब न तो घर थे और न ही जीवन को सरल बनाने के इतने साधन तब मनुष्य समूह बनाकर रहते हुए एक - दूसरे के सुख - दु:ख में



ढाई साल की ट्विंकल शर्मा के बलात्कार पर बाॅलीवुड तथा अन्य उदारवादी चुप क्यों ?

असल में इस मामले में पहले बलात्कार की बात सामने आयी फिर बाद में पता चला की बच्ची का बलात्कार नहीं हुआ था लेकिन ऐसी बर्बरता से मारा गया था की इंसानियत भी लहू लुहान होकर किसी कोने में दुबक कर सिसकने लगे।हुआ यूँ की अपराधी जाहिद अली ने टिंकल के पिता जी कन्हैया शर्मा जो की पेशे से मजदूर हैं, 10,000 /- रु



सत्तू के 5 बेहतरीन फायदे

सत्तू सामान्य रूप से चने और जौ के आटे का मिश्रण है इसे पानी में घोलकर या अन्य कई तरीकों से लिया जाता है | गर्मी के मौसम में तेज धूप के कारण पसीना आता है। इससे शरीर में पानी की कमी हो जाती है। साथ ही एनर्जी लेवल भी कम हो जाता है। इस स्थिति में सत्तू पीने से सबसे ज्यादा एनर्जी मिलती





आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x