केडीए ही कानपुर में चलाएगा मेट्रो

कानपुर मेट्रो रेल परियोजना के लिए केंद्र सरकार से मदद नहीं लेगी यूपी सरकार। मुख्यमंत्री ने इसे सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल कर लिया है। इसकी डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करने से लेकर सर्वे कराने का खर्च केडीए उठाएगा। डीपीआर तैयार करने के लिए राइट्स से करार हो गया है। लखनऊ मेट्रो रेल कार्पोरेश



25 जनवरी 2015

aaj ki awashyakta

sabse pahle main shabd nagari ke admin ko dhanyabad dena chahata hoon aur shubhashish bhi,


हाइवे पर लूट करने वाले फर्जी सेल टैक्स अधिकारी चढ़े पुलिस के हत्‍थे

कानपुर. कानपुर पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का भंडाफोड़ किया है, जो सेल टैक्स अधिकारी बनकर लोगों के साथ लूट-पाट करते थे। पिछले कई दिनों से सूचना मिल रही थी कि गोविंदनगर थाना क्षेत्र में हाइवे पर यह फर्जी गैंग इस वारदात को अंजाम दे रहे थे। शनिवार को मुखबिर से सूचना मिली कि हाइवे पर कुछ लोग नीली बत्‍ती लगी ए


सच्चा सुख

सच्चा सुख एक युवक जो कि एक विश्वविद्यालय का विद्यार्थी था, एक दिन शाम के समय एक प्रोफ़ेसर साहब के साथ टहलने निकला हुआ था। यह प्रोफ़ेसर साहब सभी विद्यार्थियों के चहेते थे और विद्यार्थी भी उनकी दयालुता के कारण उनका बहुत आदर करते थे। टहलते-टहलते वह विद्यार्थी प्रोफ़ेसर साहब के साथ काफ़ी दूर तक निकल गया



एक पैरलाइज खिलाड़ी की आपबीती

जब जूलियो 10 साल का था तो उसका बस एक ही सपना था , अपने फेवरेट क्लब रियल मेड्रिड की ओर से फुटबाल खेलना ! वह दिन भर खेलता, प्रैक्टिस करता और धीरे-धीरे वह एक बहुत अच्छा गोलकीपर बन गया. 20 का होते-होते उसके बचपन का सपना हकीकत बनने के करीब पहुँच गया; उसे रियल मेड्रिड की तरफ से फुटबाल खेलने के लिए साइन कर



पूर्व महापौर भी धरे गये बिजली चोरी में

शहर में चलाये जा रहे अभियान के तहत शनिवार को नवाबगंज खंड के अधिशासी अभियंता के नेतृत्व में पूर्व महापौर अनिल शर्मा के घर में छापा मारा गया। छापे के दौरान श्री शर्मा के यहां 43 किलोवॉट की बिजली चोरी पकड़ी गयी। इसके एवज में केस्को ने मौके पर 5.28 लाख रुपये का शमन शुल्क वसूल किया गया। शहर की बिजली चोरी


माँ को रोने ना देना,

तब टूटती थी प्लेट, बचपन में तुमसे अब माँ से टूट जाये, तो कुछ भी ना कहना,,, तब मांगते थे गुब्बारा,बचपन में माँ से अब माँ चश्मा मांगे,तो ना मत कहना,,,, तब मांगते थे चॉकलेट,बचपन में माँ से अब माँ मांगे दवाई,तो ना मत कहना,,,, तब डाटती थी माँ,शरारत होती थी तुमसे अब वो सुन ना सके,तो बुरा उसे ना कहना,,,


देश मेरे

अपना खून सडकों पर यूँ बहा दोगे. पड़ेगी देश को खून की जरूरत तो क्या दोगे


छोटी-मोटी चीजें पाने के लिए कुछ बहुत बड़ा खो देते हैं

एक व्यक्ति आफिस में देर रात तक काम करने के बाद थका-हारा घर पहुंचा . दरवाजा खोलते ही उसने देखा कि उसका छोटा सा बेटा सोने की बजाय उसका इंतज़ार कर रहा है . अन्दर घुसते ही बेटे ने पूछा —“ पापा , क्या मैं आपसे एक प्रश्न पूछ सकता हूँ ?” “ हाँ -हाँ पूछो , क्या पूछना है ?” पिता ने कहा . बेटा - “ पापा , आप ए



एक सवाल

बचपन में सबसे अधिक पूछा गया एक सवाल । बड़े होकर क्या बनना है....? अब जाकर जवाब मिला । फिर से बच्चा बनना है ....!!


पार्टटाइम वर्क में आपका स्वागत है

हमारे मेम्बरशिप प्रोग्राम में आपका स्वागत है. आप हमारे साथ जुड़कर अच्छा पैसा कमा सकते है हमारे मेम्बरशिप प्रोग्राम में बेरोजगारों के लिए सुनहरा अवसर है इसमें आप ३००० - १५००० तक आय बढ़ा सकते है इससे जुड़ने के लिए आपको एक फार्म फिल अप करना होगा जिससे हमारी कंपनी में रजिस्ट्रेशन हो जायेगा और आप हमारी कं


शब्दनगरी की विशेषतायें

एक झलक शब्दनगरी की विशेषताओं पे



व्हाट इस गुडनेस?

WHAT IS GOODNESS? If we took a survey, asking people one question, "Are you good?" most people would respond, "Yes!" Ask them, "What makes you good?" Responses will be: • I don't cheat so I'm good. • I don't lie so that makes me good. • I don't steal, so I'm good.


निरंकार तू ही निरंकार

निरंकार तू ही निरंकार , तेरे अंदर कुल संसार निरंकार दे नाल ही उठना, सोना , बैना, खाना है निरंकार है उस दे अंदर , जिसने ओनहू पछना है. तू चाहे तन राजे नु फ़क़ीर, ते फ़क़ीर नु करदे राजा धन दौलत दा मान न कर बन्दे इस दी शरणी तू आजा निरंकार तू ही निरंकार तेरे अंदर


रतीश की पहली रचना

रचना



25 जनवरी 2015

mai bharat se pyaar krta hoon


क्या लिखूं

क्या बात है


गीत कहीं जन्मे

ब्रह्म नाद के मोहक स्वर जब गूंजे मन में आत्म चेतना की घाटी में गीत कहीं जन्मे जानी पहचानी एक सूरत जब दृश्य घाटी से उभरे डूब गया सागर सा मन सुधियों में गहरे -गहरे संदली पवन महक गयी फिर इस तन की धड़कन में मन मोहिनी एक छवि ने इस मन को बाँध लिया निर्झर झरने सा संगीत उठा अंतर में गीतों ने


*संगठन का उद्देश्य*

1-विश्व स्तर पर सभी ब्राह्मण बँधुओं में एकता बना कर एक मंच पर लाना। 2-विश्व स्तर पर सभी वर्गों में परस्पर सहयोग स्थापित कर समाज हित में कार्य करना। 3-विश्व स्तर पर विभिन्न प्रकोष्ठों के द्वारा समाज कल्याण हेतू तत्पर रहना। 4-विश्व स्तर पर अराजनैतिक स्वयं सेवी सगठन तैयार कर मानव कल्याण में सहभागिता दे




आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x