Ayurvedic Doctor बनने के लिए क्या करे

आयुर्वेदिक डॉक्टर बनकर नाम और शौहरत के साथ लाखों रूपये कमाये। इसकी पूरी जानकारी यहां पाये। Ayurvedic doctor banne ke liye kya kareहमारे देश मे Ayurvedic Doctor का प्राचीन काल से महत्व रहा है। पहले के समय मे इनको वैद्य कहा जाता था। आज के इस बदलते युग मे आयुर्वेदिक डॉक्टर कह



लिखूँगा

उठाया है क़लम तो इतिहास लिखूँगामाँ के दिए हर शब्द का ऐहशास लिखूँगाकृष्ण जन्म लिए एक से पाला है दूसरे ने उसका भी आज राज लिखूँगापिता की आश माँ का ऊल्हाश लिखूँगा जो बहनो ने किए है त्पय मेरे लिए वो हर साँस लिखूँगाक़लम की निशानी बन जाए वो अन्दाज़ लिखूँगाकाव्य कविता रचना कर



आत्मतत्त्व से ही समस्त चराचर की सत्ता

आत्मतत्व से ही समस्त चराचर की सत्ताप्रायःसभी दर्शनों की मान्यता है कि जितना भी चराचर जगत है, जितना भी दृश्यमान जगत है – पञ्चभूतात्मिका प्रकृति है –उस समस्त का आधार जीवात्मा – आत्मतत्त्व ही है | वही परम तत्त्व है और उसी कीप्राप्ति मानव जीवन का चरम लक्ष्य है | किन्तु यहाँ प्रश्नउत्पन्न होता है कि आत्म



हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ५३

🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *तिरपवनवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*बावनवें भाग* में आपने पढ़ा :--*राम रसायन तुम्हरे



हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ५२

🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *बावनवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*इक्यावनवें भाग* में आपने पढ़ा :--*अष्ट सिद्धि नव



जन्म सफल

जन्म सफलपरिवर्तन शील है यह संसार असार। इस संसार को मरणधर्मा भी कहते हैं। इसका अर्थ है कि जिस जीव का जन्म हुआ है, उसकी मृत्यु निश्चित होती है। कोई भी यहाँ सदा के लिए नहीं आता। अपने कर्मानुसार प्राप्त जीवन को भोगकर उसे इस संसार से विदा लेनी पड़ती है। इसका यह अर्थ कदापि नहीं है कि जीव का यहाँ पुनर्जन्म


What is Consultation fee of Astrologer in Delhi

Astrological consultation with leading a astrologer in Delhi, could be alife-changing experience for anyone. Yet with affordable and pocket friendlyastrologer consultation fee, one could be the most satisfied individual who canexperienc



नवी सदी में तुर्कों और पठानों का ख़िताब था ”ठाकुर” ‘ताक्वुर’ (Tekvur) और भारत में राजपूतो साथ ठाकुर शब्द का सम्बन्ध ...

नवी सदी में तुर्कों और पठानों का ख़िताब था ”ठाकुर” ‘ताक्वुर’ (Tekvur)_______________________________________तुर्कों और पठानों का खिताब था तक्वुर हिन्दुस्तानी भाषाओं मे विशेषत: व्रज भाषा में आने पर यह ठक्कुर हो गया यद्यपि संस्कृत पुट देने के लिए इसे ठक्कुर रूप में प्रतिष्ठित किया गया  ठाकुर  शब्द नवी


सेवक की सजा मालिक को नहीं

सेवक की सजा मालिक को नहींमनुष्य को उसके किए गए दोषपूर्ण कार्य की सजा अवश्य मिलती है। ऐसा कदापि नहीं हो सकता कि दोष कोई और व्यक्ति करे, परन्तु उसकी सजा किसी अन्य को मिल जाए। इस प्रकार का चलन यदि हो जाए, तब सर्वत्र अराजकता का माहौल बन जाएगा। गलत काम करने वाला यदि बच जाए और उसके स्थान पर किसी निर्दोष क


शारदीय नवरात्र २०२० की तिथियाँ (कैलेण्डर)

शारदीय नवरात्र 2020 की तिथियाँ (कैलेण्डर)आश्विन शुक्ल प्रतिपदा यानी 17 अक्तूबर शनिवार से शारदीय नवरात्र आरम्भ होने जा रहेहैं | यों पितृविसर्जनी अमावस्या यानी महालया के दूसरे दिन से शारदीय नवरात्रों काआरम्भ हो जाता है | महालया अर्थात पितृविसर्जनी अमावस्या को श्राद्ध पक्ष का समापन होजाता है | महालया क



हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ५१

🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *इक्यावनवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*पचासवें भाग* में आपने पढ़ा :--*साधु सन्त के तुम र



Sketches from life: केबिन में क्रांति

बड़े बड़े बैंकों में छोटी छोटी बातें होती रहती हैं. अब देखिये झुमरी तलैय्या की सबसे बड़ी ब्रांच के सबसे बड़े केबिन में सबसे बड़े साब गोयल जी बिराजमन थे. बड़ी सी टेबल पूरी तरह से ग्लास से ढकी हुई थी. एक तरफ कुछ फाइलें थी, अखबार थी, पेन स्टैंड था और फोन था. सामने तीन कुर्सियां थी



चुगलखोर आँसू

चुगलखोर आँसूखुशी का समय हो अथवा दुख से परेशानी हो, ये आँसू बिना कहे मनुष्य की आँखों से अनायास ही बहने लगते हैं। हर मनुष्य के जीवन में कुछ उत्तेजित करने वाली चीजें या घटनाएँ होती है, जो उसे यदा कदा रुला देती हैं। मनुष्य को किस कारण से रोना आता है, इसके उत्तर बहुत अलग-अलग हो सकते हैं। रोने के उदगम के


मानसिक

#मानसिक_खतना....👇👇👇अरे मूर्खो जो अतीक अहमद मुख्तार अंसारी जैसे अपराधियों और उनके काले साम्राज्य को बुलडोजर से कुचल रहा होजिस अतीक अहमद के डर से #दस_जजों ने केस सुनने से मना किया था जिस मुख्तार अंसारी अतीक अहमद के घर बड़े बड़े अधिकारी जाने से डरते थे जो आजम खां जिलाधिकारी को नौकर समझता थाऐसे लोगो को


ज्ञानवर्धक

*✍️ज्ञानवर्धक लेख देशहित में**✍️एक बात समझ में कभी नहीं आई कि ये फिल्म अभिनेता ( या अभिनेत्री ) ऐसा क्या करते हैं कि इनको एक फिल्म के लिए 50 करोड़ या 100 करोड़ रुपये मिलते हैं ।**✍️सुशांत सिंह की मृत्यु के बाद भी यह चर्चा चली थी कि जब वह इंजीनियरिंग का टाॅपर था , तो फिर उसने फिल्म का क्षेत्र क्यों च


उत्तर प्रदेश

उत्तरप्रदेश किसके निशाने पर है..??योगीजी मुख्यमंत्री रहे या न रहे, कांग्रेस कभी उत्तरप्रदेश में नही आ सकती.. लेकिन कांग्रेसी राहुल, प्रियंका लगातार गोदी मीडिया को लेकर उत्तरप्रदेश पहुँच जाते है (पालघर नही जा पाते, राजस्थान, बंगाल नही जा पाते).. क्यों??क्योंकि.. उत्तरप्रदेश के वोट से ही दिल्ली की कें


सनातन

#नानक से पहले कोई #सिक्ख नहीं था ।#जीसस से पहले कोई #ईसाई नहीं था ।#मुहम्मद से पहले कोई #मुसलमान नहीं था । ऋषभदेवसे पहले कोई #जैनी नहीं था। #बुद्घ से पहले कोई #बुद्धिस्ट नहीं था । कार्ल मार्क्स से पहले कोई #वामपंथी नहीं था ।लेकिन :--#कृष्ण से पहले ।#राम से पहले ।जमद्गनि से पहले ।अत्री से पहले ।अगस्त


सनातन

#नानक से पहले कोई #सिक्ख नहीं था ।#जीसस से पहले कोई #ईसाई नहीं था ।#मुहम्मद से पहले कोई #मुसलमान नहीं था । ऋषभदेवसे पहले कोई #जैनी नहीं था। #बुद्घ से पहले कोई #बुद्धिस्ट नहीं था । कार्ल मार्क्स से पहले कोई #वामपंथी नहीं था ।लेकिन :--#कृष्ण से पहले ।#राम से पहले ।जमद्गनि से पहले ।अत्री से पहले ।अगस्त


पहली बार

आज मैं पहली बार एक ऐसी पोस्ट कर रहा हूं जिससे हो सकता है कि कुछ भ्रमित लोग मुझे जातिवादी समझें, लेकिन जो तर्कशील व्यक्ति होगा वह मेरी बात को समझेगा और मेरी इस पोस्ट का मर्म दूसरों तक पहुंचाने का प्रयास करेगा....भाइयों एवं बहनों, हमारे समाज के दो महत्वपूर्ण घटक, ब्राह्मण और क्षत्रिय एक दूसरे के कभी व


लव जेहाद

लव जिहाद पर चर्चा केरल की मशहूर लेखिका कमला दास उर्फ़ कमला सुरैया की चर्चा किये बिना अधूरी है ...हलांकि अब ये कमला दास उर्फ़ कमला सुरैया 72 मुस्टंडो के पास जन्नत में है ...कमला दास केरल की जानी मानी लेखिका थी ... जो माधवी कुट्टी के नाम से लिखती थी ...केरल के रायल परिवार से थी और नायर थी ... पति के निध




आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x