"गज़ल"उड़ा अपना तिरंगा है लगा आसमान का तारातिरंगा शान है जिसकी वो हिंदुस्तान का प्यारा

16 अगस्त 2018   |  महातम मिश्रा   (120 बार पढ़ा जा चुका है)

वज़्न- १२२२ १२२२ १२२२ १२२२ काफ़िया-आन रदीफ़- का आरा


"गज़ल"


उड़ा अपना तिरंगा है लगा आसमान का तारा

तिरंगा शान है जिसकी वो हिंदुस्तान का प्यारा

कहीं भी हो किसी भी हाल में फहरा दिया झंडा

जुड़ी है डोर वीरों से चलन इंसान का न्यारा।।


किला है लाल वीरों का जहाँ रौनक सिपाही की

गरजता शेर के मानिंद हिंद उत्थान का नारा।।


दिखा उत्साह बच्चों में इरादों में दिखी चाहत

नज़ारा देखते बनता चढ़ा विज्ञान का पारा।।


सलामी तोप की तलवार की हुक्कार वीरों की

कदम की ताल पर चलता रहा ईमान का दारा।।


सुने जयहिंद का नारा तो दुश्मन हो गए घायल

निगाहों से बहा उनके सरक जल नयन का खारा।।


कहाँ नादान है गौतम मिला उनसे भी जाकर के

अदब से ही मिले वो भी लिए जो दान का चारा।।


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "गज़ल"आदमी भल फरज मापता रह गया



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 अगस्त 2018
"हाइकु"सावन शोरसाजन चित चोरनाचत मोर।।-१कंत न भूलासावन प्रिय झूलाजी प्रतिकूला।।-२सासु जेठानीससुर अभिमानीसावन पानी।।-३क्यों री सखियासावन की बगिया परदेशिया?।।-४बूँद भिगाएभर सावन आएपी बिछलाए।।-५महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी
08 अगस्त 2018
15 अगस्त 2018
राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे की कहानी (विजयी विश्व तिरंगा प्यारा ) डॉ शोभा भारद्वाज 15 अगस्त 1947 पहला स्वाधीनता दिवस ,लाल किले से देश के पहले प्रधान मंत्री श्री जवाहरलाल नेहरू ने तिरंगा फहराया था, लहराता हुआ झंडा शान बान के साथ आजादी का संदेश दे रहा था| आजाद भारत के नागरिक घरों से निकल कर लाल किले क
15 अगस्त 2018
21 अगस्त 2018
मापनी -२१२२ २१२२ २१२२ २१२ सामंत- आ पदांत-दिख रहा“गीतिका”अटल बिन यह देश अपना आज कैसा दिख रहाहर नजर नम हो रही पल बे-खबर सा दिख रहाशब्द जिनके अब कभी सुर गीत गाएंगे नहींखो दिया हमने समय को अब इंसा दिख रहा।।याद आती हैं वे बातें जो सदन में छप गईझुक गए संख्या की खातिर नभ सितारा
21 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
५-८-१८ मित्र दिवस के अनुपम अवसर पर आप सभी मित्रों को इस मुक्तक के माध्यम से स्नेहल मिलन व दिली बधाई"मिलन मुक्तक"भोर आज की अधिक निराली ढूँढ़ मित्र को ले आई।सुबह आँख जब खुली पवाली रैन चित्र वापस पाई।देख रहे थे स्वप्न अनोखा मेरा साथी आया है-ले भागा जो अधर कव्वाली मैना कोयलिया
06 अगस्त 2018
21 अगस्त 2018
काफ़िया- आ स्वर रदीफ़- रह गया वज्न- २१२ २१२ २१२ २१२ फाइलुन फाइलुन फाइलुन फाइलुन"गज़ल"आदमी भल फरज मापता रह गयाले उधारी करज छाँकता रहा गयाखोद गड्ढा बनी भीत उसकी कभीजिंदगी भर उसे पाटता रह गया।।दूर होते गए आ सवालों में सभीहल पजल क्या हुई सोचता रह गया।।उमर भर की जहमद मिली मुफ्त
21 अगस्त 2018
13 अगस्त 2018
शिल्प विधान- कुल मात्रा =३० (१० ८ १२) १० और ८ पर अतिरिक्त तुकान्त “छंद चवपैया " (मात्रिक )जय जय शिवशंकर प्रभु अभ्यांकर नमन करूँ गौरीशा। जय जय बर्फानी बाबा दानी मंशा शिव आशीषा॥प्रतिपल चित लाऊँ तोहीं ध्याऊँ मन लागे कैलाशा। ज्योतिर्लिंग
13 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x