"गज़ल"आदमी भल फरज मापता रह गया

21 अगस्त 2018   |  महातम मिश्रा   (76 बार पढ़ा जा चुका है)

काफ़िया- आ स्वर रदीफ़- रह गया वज्न- २१२ २१२ २१२ २१२ फाइलुन फाइलुन फाइलुन फाइलुन


"गज़ल"


आदमी भल फरज मापता रह गया

ले उधारी करज छाँकता रहा गया

खोद गड्ढा बनी भीत उसकी कभी

जिंदगी भर उसे पाटता रह गया।।


दूर होते गए आ सवालों में सभी

हल पजल क्या हुई सोचता रह गया।।


उमर भर की जहमद मिली मुफ्त में

ढाँककर फल रखा बाँटता रह गया।।


हर शितम अपने माथे पे मढ़ता गया

थी न स्याही मगर पोछता रह गया।।


वो न कागज लिखा ले कलम हाथ में

जो वसीयत मिली बाँटता रह गया।।


आदमी सा दिखा शख्स गौतम खड़ा

नींद आई कहाँ जागता रह गया।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: “गज़ल” “गज़ल” बहाने मत बनाओ जी धुआँ उठता नहीं यूँ ही



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 अगस्त 2018
पदांत- नहीं, समांत-अहरी,मापनी-2122 2122 2122 12“गीतिका” आप के दरबार में आशांति ठहरी नहीं दिख रहा है ढंग कापल प्रखर प्रहरी नहींझूलती हैं देख कैसेद्वार तेरे मकड़ियाँ रोशनी आने न देतीझिल्लियाँ गहरी नहीं॥ वो रहा फ़ानूष लटकाझूलता बे-बंद का लग रहा शृंगार सेभी रेशमा लहरी नहीं॥गुंबजों का रंगउतरा जा रहा बरसात
28 अगस्त 2018
23 अगस्त 2018
"हाइकु"मेरे आँगनगीत गाती सखियाँ तुलसी व्याह।।-१कार्तिक माहभर मांग सिंदूरतुलसी पूजा।।-२तुलसी दलघर-घर मंगलसु- आमंत्रण।।-३तुलसी चौरा रोग विनाशकदीप प्रकाश।।-४तुलसी पत्तासाधक सुखवंतादिव्य औषधि।।-५महातम मिश्र गौतम गोराखपुरी
23 अगस्त 2018
16 अगस्त 2018
“कुंडलिया” आगे सरका जा रहा समय बहुत ही तेज। पीछे-पीछे भागते होकर हम निस्तेज॥ होकर हम निस्तेज कहाँ थे कहाँ पधारे। मुड़कर देखा गाँव आ गए शहर किनारे॥ कह गौतम कविराय चलो मत भागे-भागेकरो वक्त का मान न जाओ उससे आगे॥महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी
16 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x