“गीतिका” आप के दरबार में आ शांति ठहरी नहीं

28 अगस्त 2018   |  महातम मिश्रा   (109 बार पढ़ा जा चुका है)

पदांत- नहीं, समांत-अहरी, मापनी-2122 2122 2122 12


“गीतिका”


आप के दरबार में आ शांति ठहरी नहीं

दिख रहा है ढंग का पल प्रखर प्रहरी नहीं

झूलती हैं देख कैसे द्वार तेरे मकड़ियाँ

रोशनी आने न देती झिल्लियाँ गहरी नहीं॥


वो रहा फ़ानूष लटका झूलता बे-बंद का

लग रहा शृंगार से भी रेशमा लहरी नहीं॥


गुंबजों का रंग उतरा जा रहा बरसात में

बाढ़ सा जल घिर गया भर शहर नहरी नहीं॥


मंदिरों में बज रही हैं घंटियाँ महराज की

मौन बैठी मूर्तियों सुन कान की बहरी नहीं॥


जिस जगह तेरा सिंगासन उस जगह की बात कर

झुंड गिरगिट का दिखा मनभावन गिलहरी नहीं॥


न्याय खुद करता नहीं अन्याय के पीछे पड़ा

कह रहा गौतम खड़ा बाजार कच्चहरी नहीं॥


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "दोहा"इंसानों के महल में पलती ललक अनेक।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 अगस्त 2018
छन्द- वाचिकप्रमाणिका (मापनीयुक्त मात्रिक) वर्णिक मापनी - 12 12 12 12 अथवा - लगा लगा लगालगा, पारंपरिक सूत्र - जभान राजभा लगा (अर्थात जर ल गा) विशेष : प्रमाणिका 'मापनीयुक्त वर्णिक छंद' है,जिसमें वर्णों की संख्यानिश्चित होती है अर्थात किसी गुरु 2 के स्थान पर दो लघु 11 प्रयोग करने की छूटनहीं होती है। ऐस
27 अगस्त 2018
21 अगस्त 2018
वीर सावरकर --हिंदुत्व के अनुपम व्याख्याकारभूमिका:--हमारा देश जो आर्यों की मूल भूमि हैं जहाँ से मानव जीवन की सभ्यता का आरंभ होता हैं ,ऐसे महान देश के प्रति जब हमारा सर गर्व से ऊँचा उठता है तभी इस देश के लिए न्यौछावर करने वाले देश के विभिन्न क्रांतिकारियो के प्रति हमारा सिर उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित
21 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
मंगलवार को शुरुआती कारोबार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रूपए की कीमत 70 रुपये पहुँच गयी जो अब तक के सबसे निचले स्तर पर है | सोमवार को अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले रुपए में 1.08 रुपये या 1.57 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई, जो अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले 69.9 1 पहुँच गया था |
14 अगस्त 2018
13 अगस्त 2018
शिल्प विधान- कुल मात्रा =३० (१० ८ १२) १० और ८ पर अतिरिक्त तुकान्त “छंद चवपैया " (मात्रिक )जय जय शिवशंकर प्रभु अभ्यांकर नमन करूँ गौरीशा। जय जय बर्फानी बाबा दानी मंशा शिव आशीषा॥प्रतिपल चित लाऊँ तोहीं ध्याऊँ मन लागे कैलाशा। ज्योतिर्लिंग
13 अगस्त 2018
22 अगस्त 2018
भा
सादर नमस्कार , न जाने क्योंमेरे ह्रदय में यह सोचकर पीड़ा होती है कि कि आज कल क्यों हम भारतीय अपनी मात्र भाषा को भूलते जा रहे हैं| क्यों हम केवल और केवल अंग्रेजी पर ध्यान दे रहे हैं हम यह
22 अगस्त 2018
29 अगस्त 2018
“हाइकु” सजी बाजर राखी रक्षा त्यौहार रंग बिरंगी॥-1 रंग अनेक कच्चे पतले धागेराखी वन्धन॥-2 पावनी राखी रिश्ता ऋतु बैसाखी सुंदर पल॥-3 ओस छाई रीवर्षा ऋतु आई रीझूलती नारी॥-4 विहग उड़ेपग सिहर पड़ेडरती नारी॥ -5 आ रे बसंततूँ ही दिग-दिगंतसुंदर नारी॥-6 महतम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
29 अगस्त 2018
31 अगस्त 2018
“मुक्तक” फिंगरटच ने कर दिया, दिन जीवन आसान। मोबाइल के स्क्रीनपर, दिखता सकल जहान। बिना रुकावट मान लो, खुल जाते हैं द्वार- चाहा अनचाहा सुलभ, लिखो नाम अंजान॥-1 बिकता है सब कुछयहाँ, पर न मिले ईमान। हीरा पन्ना अरु कनक, खूब बिके इंसान। बिन बाधा बाजार में, बे-शर्ती उपहार- हरि प्रणाम मुस्कानसुख, सबसे बिन पह
31 अगस्त 2018
21 अगस्त 2018
काफ़िया- आ स्वर रदीफ़- रह गया वज्न- २१२ २१२ २१२ २१२ फाइलुन फाइलुन फाइलुन फाइलुन"गज़ल"आदमी भल फरज मापता रह गयाले उधारी करज छाँकता रहा गयाखोद गड्ढा बनी भीत उसकी कभीजिंदगी भर उसे पाटता रह गया।।दूर होते गए आ सवालों में सभीहल पजल क्या हुई सोचता रह गया।।उमर भर की जहमद मिली मुफ्त
21 अगस्त 2018
28 अगस्त 2018
दो
दोस्ती बचपन की यादों का अटूट बंधन बिना लेनदेन के चलने वाला खूबसूरत रिश्तों का अद्वितीय बंधन एक ढर्रे पर चलने वाली जिंदगी में नई नई सोच से रूबरू करवाया अर्थ हीन जीवन को अर्थपूर्ण बनाया जीने का एक अलग अंदाज सिखाया निराशा में राहत, कठिनाई में पथप्रदर्शक बन सफलता का सच्चा रास्ता दिखाया ऐसे थे और हैं मे
28 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x