“गीतिका” प्यार खोना मीत पाना

11 सितम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (94 बार पढ़ा जा चुका है)

मापनी- 2122 2122 , पदांत- पाना, समांत- जीत, ईत स्वर


“गीतिका”


प्यार खोना मीत पाना

युद्ध को हर जीत पाना

हो सका संभव नहीं जग

पार कर हद हीत पाना॥


दिल कभी भी छल करे क्या

प्रीत पावन चीत पाना॥ (चित्त)


जिंदगी कड़वी दवा है

स्वाद मिर्चा तीत पाना॥ (तीखा)


राग वीणा की मधुर है

तार जुड़ संगीत पाना॥


दो किनारों की नदी बन

क्यों भला जल भीत पाना॥


आज गौतम दिल दुखा मत

लग गले प्रति रीत पाना॥


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "पद" मोहन मुरली फिर न बजाना



महातम मिश्रा
19 सितम्बर 2018

दिल से आभारी हूँ बहन, सदैव खुश रहो , शुभाशीष

महातम मिश्रा
19 सितम्बर 2018

दिल से आभारी हूँ सम्मानित शब्दनगरी मंच का इस गज़ल को विशिष्ट रचना का सम्मान प्रदान करने के लिए, ॐ जय माँ शारदा!

रेणु
16 सितम्बर 2018

वाह आदरणीय भैया -- प्रीत की सुंदर अभ्यर्थना !!!!!!!!!! एकदम आपकी शैली वाली !!!!!! हार्दिक आभार |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 अगस्त 2018
“मुक्तक” फिंगरटच ने कर दिया, दिन जीवन आसान। मोबाइल के स्क्रीनपर, दिखता सकल जहान। बिना रुकावट मान लो, खुल जाते हैं द्वार- चाहा अनचाहा सुलभ, लिखो नाम अंजान॥-1 बिकता है सब कुछयहाँ, पर न मिले ईमान। हीरा पन्ना अरु कनक, खूब बिके इंसान। बिन बाधा बाजार में, बे-शर्ती उपहार- हरि प्रणाम मुस्कानसुख, सबसे बिन पह
31 अगस्त 2018
25 सितम्बर 2018
Aaj aap bas ek baar haa kar hi do,Apne dil mai thodi si jagah de do.Jis pyar ko dil mai chhupa rakha hai,Us pyar ko aaj aap abEk baya kar hi do.Kitna intezar kiya hai is pal ke liye humne,Aaj dil ke sare raaz aap ab khol hi do.Laila-majnu ki kahani jaise mashhoor hai
25 सितम्बर 2018
27 अगस्त 2018
रक्षाबंधन, 26-8-18 भाई-बहन के पवित्ररिश्ते को अपने आँचल में छूपाये हुए इस महान पर्व रक्षाबंधन के अनुपम अवसर पर आपसभी को दिल से बधाई व मंगलमयी शुभकामना,ॐ जय माँ शारदा.....!“चतुष्पदी” राखी का त्यौहारप्रिय, प्रिय बहना का स्नेह। पकड़ कलाई वीर की, बाँध रही शुभ नेह। थाली कंकू से भरी, सूत्र रंग आशीष- रक्षा
27 अगस्त 2018
04 सितम्बर 2018
“भोजपुरी गीत”कइसे जईबू गोरीछलकत गगरिया, डगरिया में शोर हो गइलकहीं बैठल होइहेंछुपि के साँवरिया, नजरिया में चोर हो गइल...... बरसी गजरा तुहार, भीगी अँचरा लिलार मति कर मन शृंगार, रार कजरा के धारपायल खनकी तेहोइहें गुलजार गोरिया मनन कर घर बार, जनि कर तूँ विहार,कइसे विसरी धनापलखत पहरिया, शहरिया अंजोर हो गइ
04 सितम्बर 2018
22 सितम्बर 2018
कब ,कहां ,क्यों और कैसे होता है प्यार ? इन सभी शब्दो से अलग ,अजब है प्यार. एक दरिया है भावनाओ का, दुआओ का,ढूंढती आँखों सी नाव, पानी की है पतवार.सागर से गहरा, नामुकिन जिस पर पहरा ,आजाद बेख़ौफ़ जांबाज हवा पर है सवार .ये कोई खेल नहीं, किसी का भी मेल नहीं, इसका अपना समय, लाडली भी है बहार .रुकता नहीं रोकन
22 सितम्बर 2018
10 सितम्बर 2018
"
क़ाफ़िया— ई स्वर कीबंदिश, रदीफ़- सादगी से"गज़ल" रुला कर हँसाते बड़ी सादगी सेगुलिस्तां खिलातेअजी सादगी सेहवा में निशानालगाने के माहिरपखेरू उड़ाते दबीसादगी से।।परिंदों के घर मेंनहीं मादगी परहिला डाल देते मिलीसादगी से।।शिकारी कहूँ याअनारी कहूँ तुम सजाते हो महफ़िलदिली सादगी से।।लपक जा रहे थे उड़ेथे फलक कोबिना
10 सितम्बर 2018
06 सितम्बर 2018
“कुंडलिया”आती पेन्सल हाथ जब, बनते चित्र अनेक। रंग-विरंगी छवि लिए, बच्चे दिल के नेक॥ बच्चे दिल के नेक, प्रत्येक रेखा कुछ कहती। हर रंगों से प्यार, जताकर गंगा बहती॥ कह गौतम हरसाय, सत्य कवि रचना गाती। गुरु शिक्षक अनमोल, भाव शिक्षा ले आती॥ महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
06 सितम्बर 2018
04 सितम्बर 2018
छंद - हरिगीतिका(मात्रिक) मुक्तक, मापनी- 2212 2212 2212 2212“मुक्तक” (छंद -हरिगीतिका)फैले हुए आकाश मेंछाई हुई है बादरी। कुछ भी नजर आतानहीं गाती अनारी साँवरी। क्यों छुप गई है ओटलेकर आज तू अपने महल- अब क्या हुआ का-जलबिना किसकी चली है नाव री॥-1क्यों उठ रही हैरूप लेकर आज मन में भाँवरी। क्यों डूबने कोहरघड़
04 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x