“गज़ल” जुर्म को नजरों से छुपाता रह गया शायद

17 सितम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (52 बार पढ़ा जा चुका है)

काफ़िया- आ स्वर, रदीफ़- रह गया शायद


“गज़ल”


जुर्म को नजरों से छुपाता रह गया शायद

व्यर्थ का आईना दिखाता रह गया शायद

सहलाते रह गया काले तिल को अपने

नगीना है सबको बताता रह गया शायद॥


धीरे-धीरे घिरती गई छाया पसरी उसकी

दर्द बदन सिर खुजाता रह गया शायद॥


छोटी सी दाग जब नासूर बन गई माना

मर्ज गैर मलहम लगाता रह गया शायद॥

लोग कहते हैं जमाने की नजर गुमराह है

था मर्म बेपरवाह जिलाता रह गया शायद॥


झूठ के शृंगार को सतरूप कहाँ देखता

रौनक हवा सी उड़ी देखता रह गया शायद॥


गौतम तेरे विश्वास को विश्वास ने चाहा बहुत

टूटने की चीज को तू जोड़ता रह गया शायद॥


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "गज़ल" रुला कर हँसाते बड़ी सादगी से



महातम मिश्रा
19 सितम्बर 2018

दिल से आभारी हूँ सम्मानित शब्दनगरी मंच का इस गज़ल को विशिष्ट रचना का सम्मान प्रदान करने के लिए, ॐ जय माँ शारदा!

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 सितम्बर 2018
हिन्दी दिवस के सुअवसर पर आप सभी को दिल से बधाई सह शुभकामना, प्रस्तुत है मुक्तक....... ॐ जय माँ शारदा......!“मुक्तक”हिंदी सिर बिंदी सजी, सजा सितंबर माह। अपनी भाषा को मिला, संवैधानिक छाँह।चौदह तारिख खिल गया, दे दर्जा सम्मान- धूम-धाम से मन रहा, प्रिय त्यौहारी चाह॥-1बहुत बधाई आप को, देशज मीठी बोल। सगरी
14 सितम्बर 2018
10 सितम्बर 2018
"
क़ाफ़िया— ई स्वर कीबंदिश, रदीफ़- सादगी से"गज़ल" रुला कर हँसाते बड़ी सादगी सेगुलिस्तां खिलातेअजी सादगी सेहवा में निशानालगाने के माहिरपखेरू उड़ाते दबीसादगी से।।परिंदों के घर मेंनहीं मादगी परहिला डाल देते मिलीसादगी से।।शिकारी कहूँ याअनारी कहूँ तुम सजाते हो महफ़िलदिली सादगी से।।लपक जा रहे थे उड़ेथे फलक कोबिना
10 सितम्बर 2018
18 सितम्बर 2018
गीतिका आधार छंद- शक्ति , मापनी 122 122 122 12, समांत-ओगे, पदांत- नहीं “गीतिका”बनाया सजाया कहोगे नहीं गले से लगाया सुनोगे नहीं सुना यह गली अब पराई नहीं बुलाकर बिठाया हँसोगे नहीं॥बनाकर बिगाड़े घरौंदे बहुत महल यह सजाकर फिरोगे नहीं॥बसाये न जाते शहर में शहर नगर आज फिर से घुमोगे नहीं॥चलो शाम आई सुहानी बहु
18 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x