"गीतिका" उग आई ऋतु है चाहत की मत लाना दिल में शामत की

25 अक्तूबर 2018   |  महातम मिश्रा   (81 बार पढ़ा जा चुका है)

मापनी- 22 22 22 22, समान्त- अत, पदांत- की


"गीतिका"


उग आई ऋतु है चाहत की

मत लाना दिल में शामत की

देखो कितनी सुंदर गलियाँ

खुश्बू देती हैं राहत की।।


जब कोई लगता दीवाना

तब मन होता है बसाहत की।।


दो दिल का मिलना खेल नहीं

पढ़ना लिखना है कहावत की।।


माना की दिल तो मजनू है

पर मत चल डगर गुनाहत की।।


देखो कलियाँ चंचल होती

मत करना नजर शिकायत की।।


घूमो नाचो गाओ गौतम

पर मचलन रहन किफायत की।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "गीतिका" याद कर सब पुकार करते हैं जान कर कह दुलार करते है



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 अक्तूबर 2018
"
"दोहावली"हँसते मिलते खेलते, दिल हो जाता खास।प्रेम गली का अटल सच, आपस का विश्वास।।-1राधा को कान्हा मिले, मधुवन खुश्बू वास।थी मीरा की चाहना, मोहन रहते पास।।-2गोकुल की गैया भली, थी कान्हा के पास।ग्वाल-बाल की क्या कहें, हुए कृष्ण के दास।।-3यशुदा के दरबार में, दूध दही अरु छास।मोहन मिश्री ले उड़े, माखन मुख
13 अक्तूबर 2018
06 नवम्बर 2018
, आधार छंद--विधाता, मापनी- 1222 1222 1222 1222 समांत - आस, पदांत - होता है"गीतिका"उड़ा आकाश कैसे तक चमन अहसास होता हैहवावों से बहुत मिलती मदद आभास होता हैजहाँ भी आँधियाँ आती उड़ा जाती ठिकाने कोबता दौलत हुई किसकी फकत विश्वास होता है।।बहुत चिंघाड़ता है चमकता है औ गरजता घनबिना मौसम बरसता है छलक चौमास होता
06 नवम्बर 2018
17 अक्तूबर 2018
जय नव दुर्गा ^^ जय - जय माँ आदि शक्ति -, वज़्न-- 1222 1222 122, अर्कान-- मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन फ़ऊलुन, क़ाफ़िया— आया (आ स्वर की बंदिश) रदीफ़ --- कहाँ से....... ॐ जय माँ शारदा.....! 1 मुहब्बत अब तिजारत बन गई है 2. मै तन्हा था मगर इतना नहीं था "गज़ल"किनारों को भिगा पाता कहाँ सेनजारों को सजा जाता कहाँ सेबंद थ
17 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
"
समान्त- अना, पदांत- नहीं चाहता"गीतिका"छाप कर किताब को बाँधना नहीं चाहताजीत कर खुद आप से हारना नहीं चाहतारोक कर आँसू विकल पलकों के भीतरजानकर गुमनाम को पालना नहीं चाहता।।भाव को लिखता रहा द्वंद से लड़ता रहाछंद के विधिमान को बाँटना नहीं चाहता।।मुक्त हो जाना कहाँ मंजिलों को छोड़ पानालौटकर संताप को छाँटना न
13 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
"
"हाइकु"माता ममताप्रतिपल सुभदाजय माँ अंबे।।-1माता महिमानवरात्रि गरबाकदम ताल।।-2माँ शैलपुत्रीप्रथम नवरात्रिजय सावित्री।।-3पावन पर्वमंगलम सर्वत्रश्रद्धा पवित्र।।-4जग जननीअतिशय पावनीरूप अनूपा।।-5महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
13 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
"
13 अक्तूबर 2018
"
13 अक्तूबर 2018
"
13 अक्तूबर 2018
"
13 अक्तूबर 2018
"
13 अक्तूबर 2018
"
13 अक्तूबर 2018
"
13 अक्तूबर 2018
"
13 अक्तूबर 2018
"
13 अक्तूबर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x