"गीतिका" उड़ा आकाश कैसे तक चमन अहसास होता है हवावों से बहुत मिलती मदद आभास होता है

06 नवम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (12 बार पढ़ा जा चुका है)

, आधार छंद--विधाता, मापनी- 1222 1222 1222 1222 समांत - आस, पदांत - होता है


"गीतिका"


उड़ा आकाश कैसे तक चमन अहसास होता है

हवावों से बहुत मिलती मदद आभास होता है

जहाँ भी आँधियाँ आती उड़ा जाती ठिकाने को

बता दौलत हुई किसकी फकत विश्वास होता है।।


बहुत चिंघाड़ता है चमकता है औ गरजता घन

बिना मौसम बरसता है छलक चौमास होता है।।


धुँआ उठता कभी नभ से लगे काला कलूटा सा

कभी सत रंग में खिलता चटक इंद्रास होता है।।


धरा से देखते हैं जब तमन्ना की उड़ानों को

मगर चल भीग जाते हैं फलक संत्रास होता है।।


सुहाना खूब लगता है पहाड़ों को तनिक देखो

रगड़ से आग लगती है दहन मधुमास होता है।।


सुनो गौतम कभी अपने रहन पर नाज़ तो खाओ

न जाओ गैर की महफ़िल नयन परिहास होता है।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "गीतिका" याद कर सब पुकार करते हैं जान कर कह दुलार करते है



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 नवम्बर 2018
वज़्न-- 1222 1222 122 अर्कान-- मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन फ़ऊलुन, क़ाफ़िया— वास्ता (आ स्वर की बंदिश) रदीफ़ - है"गज़ल" कहो जी आप से क्या वास्ता हैसुनाओ क्या हुआ कुछ हादसा हैसमझ लेकर बता देना मुझे भीहुआ क्या बंद प्रचलित रास्ता है।।चले जा चुप भली चलती डगर येमना लेना नयन दिग फरिश्ता है
05 नवम्बर 2018
30 अक्तूबर 2018
मापनी, 2122 1212 22/112, समान्त- आर, पदांत- करते हैं"गीतिका" याद कर सब पुकार करते हैंजान कर कह दुलार करते है देखकर याद फ़िकर को आयीदूर रहकर फुहार करते है ।।गैर होकर दरद दिया होगा ख़ास बनकर सवार करते हैं।।मानते भी रहे जिगर अपनाधैर्य निस्बत निहार करते है।।लौट आने लगी हँसी मुँहपरमौन महफ़िल शुमार करते हैं।
30 अक्तूबर 2018
28 अक्तूबर 2018
"
आप का दिन मंगलमय हो,"मुक्तक"चढ़ा लिए तुम बाण धनुर्धर, अभी धरा हरियाली है।इंच इंच पर उगे धुरंधर, किसने की रखवाली है।मुंड लिए माँ काली दौड़ी, शिव की महिमा न्यारी है-नित्य प्रचंड विक्षिप्त समंदर, गुफा गुफा विकराली है।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
28 अक्तूबर 2018
25 अक्तूबर 2018
"
मापनी- 22 22 22 22, समान्त- अत, पदांत- की"गीतिका"उग आई ऋतु है चाहत कीमत लाना दिल में शामत कीदेखो कितनी सुंदर गलियाँ खुश्बू देती हैं राहत की।। जब कोई लगता दीवाना तब मन होता है बसाहत की।।दो दिल का मिलना खेल नहींपढ़ना लिखना है कहावत की।।माना की दिल तो मजनू हैपर मत चल डगर गुनाहत की।।देखो कलियाँ चंचल ह
25 अक्तूबर 2018
03 नवम्बर 2018
"कुंडलिया"पावन गुर्जर भूमि पर, हुआ सत्य सम्मान।भारत ने सरदार का, किया दिली बहुमान।।किया दिली बहुमान, अनेकों राज्य जुड़े थे।बल्लभ भाइ पटेल, हृदय को लिए खड़े थे।।कह गौतम कविराय, धन्य गुजराती सावन।नर्मद तीरे नीर, हीर जल मूर्ति पावन।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
03 नवम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x