"गज़ल" छोड़कर जा रहे दिल लुभाते रहे झूठ के सामने सच छुपाते रहे

04 दिसम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (99 बार पढ़ा जा चुका है)

वज़्न--212 212 212 212 अर्कान-- फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन, बह्रे- मुतदारिक मुसम्मन सालिम, क़ाफ़िया— लुभाते (आते की बंदिश) रदीफ़ --- रहे

"गज़ल"


छोड़कर जा रहे दिल लुभाते रहे

झूठ के सामने सच छुपाते रहे

जान लेते हक़ीकत अगर वक्त की

सच कहुँ रूठ जाते ऋतु रिझाते रहे।।


ये सहज तो न था खेलना आग से

प्यास को आब जी भर पिलाते रहे।।


भर गई बाढ़ में जब छलककर नदी

बह चली मन मुरादें चह बनाते रहे।।


डूबकर घास फिर से हरी हो गई

तुम खड़े पेड़ माफक सुखाते रहे।।


मान लो बात मेरी न जाओ इतर

घर न बनता मफत प्यार पाते रहे।।


गौर गौतम किया भाँपकर धार को

मीन सी राह उलटे कुलबुलाते रहे।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी


अगला लेख: "पद" कोयल कुहके पिय आजाओ, साजन तुम बिन कारी रैना,डाल पात बन छाओ।।



महातम मिश्रा
06 दिसम्बर 2018

रचना को विशिष्ट श्रेणी का सम्मान प्रदान करने के लिए मंच का हृदय से आभारी हूँ

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 नवम्बर 2018
"
"मुक्तक"युग बीता बीता पहर, लेकर अपना मान।हाथी घोड़ा पालकी, थे सुंदर पहचान।अश्व नश्ल विश्वास की, नाल चाक-चौबंद-राणा सा मालिक कहाँ, कहाँ चेतकी शान।।-1घोड़ा सरपट भागता, हाथी झूमे द्वार।राजमहल के शान थे, धनुष बाण तलवार।चाँवर काँवर पागड़ी, राज चाक- चौबंद-स्मृतियों में अब शेष हैं, प्रिय सुंदर उपहार।।-2महातम
24 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
"
"छंद मुक्त गीतात्मक काव्य"जी करता है जाकर जी लूबोल सखी क्या यह विष पी लूहोठ गुलाबी अपना सी लूताल तलैया झील विहारकिस्मत का है घर परिवारसाजन से रूठा संवादआतंक अत्याचार व्यविचारहंस ढो रहा अपना भारकैसा- कैसा जग व्यवहारजी करता है जाकर जी लूबोल सखी क्या यह विष पी लूहोठ गुलाबी अपना सी लू।।सूखी खेती डूबे बा
22 नवम्बर 2018
29 नवम्बर 2018
"
"हाइकु" कलम चलीसुंदर अलंकार दिव्य सृजन।।-1मन मुग्धताधन्य हुई नगरीकवि कल्पना।।-2सार्थक चित्रकलम में धार हैसुंदर शिल्प।।-3कवि कविताशब्द छंद पावनहिंदी दिवस।।-4लेख आलेखकलम चितचोरमान सम्मान।।-5महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
29 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
"
आधार छंद - सरसी (अर्द्ध सम मात्रिक) शिल्प विधान सरसी छंद- चौपाई + दोहे का सम चरण मिलकर बनता है। मात्रिक भार- 16, 11 = 27 चौपाई के आरम्भ में द्विकल+त्रिकल +त्रिकल वर्जित है। अंत में गुरु /वाचिक अनिवार्य। दोहे के सम चरणान्त में 21 अनिवार्य है"गीत" लहराती फसलें खेतों की, झूमें गाँव किसानबरगद पीपल खलिहा
22 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
"कुंडलिया"अच्छे लगते तुम सनम यथा कागजी फूल।रूप-रंग गुलमुहर सा, डाली भी अनुकूल।।डाली भी अनुकूल, शूल कलियाँ क्यों देते।बना-बनाकर गुच्छ, भेंट क्योंकर कर लेते।।कह गौतम कविराय, हक़ीकत के तुम कच्चे।हो जाते गुमराह, देखकर कागज अच्छे।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
22 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x