"गीतिका" छा रही कितनी बलाएँ क्या बताएँ साथियों द्वंद के बाजार में क्या क्या सुनाएँ साथियों

18 दिसम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (50 बार पढ़ा जा चुका है)

छन्द- सीता (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी - 2122 2122 2122 212 अथवा लगावली- गालगागा गालगागा गालगागा गालगा पारंपरिक सूत्र - राजभा ताराज मातारा यमाता राजभा (अर्थात र त म य र)



"गीतिका"


छा रही कैसी बलाएँ क्या बताएँ साथियों

द्वंद के बाजार में क्या क्या सुनाएँ साथियों

क्यों तराजू को झुकाते बाट हैं बेमाप के

तौलना तो देखना पाला उठाएँ साथियों।।


क्यों गली में शोर है आया कहाँ से आदमी

जान लें आया कहा से औ बुलाएँ साथियों।।


क्या खजाना दे दिया वादे पुराना पूछना

क्या चुराया आप का आओ गिनाएँ साथियों।।


ये रियाया है पुरानी आप की कुर्सी नयी

भाव खाने की कला को क्यों भुनाएँ साथियों।।


देश का उद्धार हो ऐसा जिया में ठान लें

छा तमाशा देखना गाती फिजाएँ साथियों।।


मान ले जी आज भी माया हुई साथी नहीं

एक सी होती नहीं ज्योती जगाएँ साथियों।।


आ गए झाँसे में जो वा से न गौतम रूठना

भूख लागे है सभी को जां लुटाएँ साथियों।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी


अगला लेख: "हाइकु"



महातम मिश्रा
21 दिसम्बर 2018

मंच व मित्रों का हृदय से आभारी हूँ, इस लेख को विशिष्ट रचना का सम्मान देने के लिए व दैनिक पृष्ठ पर प्रकाशित करने के लिए, सादर नमन

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 दिसम्बर 2018
"
विधान- 13-11 की यति, चौपाई की अर्धाली व दोहा का सम चरण, सम चरण का अंतिम शब्द विषम चरण का पहला शब्द हो, यही इस दोहा की विशेषता है"सिंहावलोकनी दोहा" परम मित्र नाराज है, कहो न मेरा दोष।दोष दाग अच्छे नही, मन में भरते रोष।।-1रोष विनाशक चीज है, भरे कलेश विशेष।विशेष मित्र
08 दिसम्बर 2018
10 दिसम्बर 2018
"
वज़्न - 1222 1222 122, अर्कान - मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन फऊलुन, बह्र - बह्रे हज़ज मुसद्दस महज़ूफ़, काफ़िया -ज़माना (आना की बंदिश) रदीफ़ - छोड़ आये"ग़ज़ल" सखा साया पुराना छोड़ आयेवसूलों का ठिकाना छोड़ आयेन जाने कब मिले थे हम पलों सेनजारों को खजाना छोड़ आये।।सुना है गरजता बादल तड़ककरछतों पर धूप खाना छोड़ आये।।बहाना था
10 दिसम्बर 2018
28 दिसम्बर 2018
"
"मुक्तक" नहीं सहन होता अब दिग को दूषित प्यारे वानी। हनुमान को किस आधार पर बाँट रहा रे प्रानी।जना अंजनी से पूछो ममता कोई जाति नहीं-नहीं किसी के बस होता जन्म मरण तीरे पानी।।-1मानव कहते हो अपने को करते दिग नादानी।भक्त और भगवान विधाता हरि नाता वरदानी।गज ऐरावत कामधेनु जहँ पीपल पूजे जाते-लिए जन्म भारत मे
28 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
21 दिसम्बर 2018
"
12 दिसम्बर 2018
06 दिसम्बर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x