"गज़ल" जिंदगी के दिन बहुत आए हँसा चलते बने थे नैन सूखे कब रहे की तुम रुला चलते बने थे

01 जनवरी 2019   |  महातम मिश्रा   (69 बार पढ़ा जा चुका है)

बह्र- 2122 2122 2122 2122 रदीफ़- चलते बने थे, काफ़िया- आ स्वर


"गज़ल"


जिंदगी के दिन बहुत आए हँसा चलते बने थे

नैन सूखे कब रहे की तुम रुला चलते बने थे

दिन-रात की परछाइयाँ थी घूरती घर को पलटकर

दिन उगा कब रात में किस्सा सुना चलते बने थे।।


मौन रहना ठीक था तो बोलने की जिद किये क्यों

काठ न था आदमी फिर क्यों बना चलते बने थे।।


फिर हरा होगा पिलाया जानकर जल आप ने ही

देख रुख दरिया किधर बंधा मिला चलते बने थे।।


आप जैसे सब नहीं अलमस्त जीते हैं महल में

देख बस्ती भीड़ की चिलमन गिरा चलते बने थे।।


लौट कर आये कहाँ जबसे गए घर छोड़कर जी

दे गए बरसात अनहद छत भिगा चलते बने थे।।


दर्द की दहलीज पर सुख ढूढ़ता है हर सनम क्यों

पूछ लो गौतम कदम क्यों तुम उठा चलते बने थे।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "भोजपुरी गीत" साँझे कोइलरिया बिहाने बोले चिरई जाओ जनि छोड़ी के बखरिया झूले तिरई....... साँझे कोइलरिया बिहाने बोले चिरई



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 दिसम्बर 2018
"
"मुक्तक" देखिए तो कैसे वो हालात बने हैं।क्या पटरियों पै सिर रख आघात बने हैं।रावण का जलाना भी नासूर बन गया-दृश्य आँखों में जख़्म जल प्रपात बने हैं।।-1देखन आए जो रावण सन्निपात बने हैं।कुलदीपक थे घर के अब रात बने हैं।त्योहारों में ये मातम सा क्यूँ हो गया-क्या रावण के मन के सौगात बने हैं।।-2महातम मिश्र,
21 दिसम्बर 2018
27 दिसम्बर 2018
"कुंडलिया"मारे मन बैठी रही, पुतली आँखें मीच।लगा किसी ने खेलकर, फेंक दिया है कीच।।फेंक दिया है कीच, तड़फती है कठपुतली।हुई कहाँ आजाद, सुनहरी चंचल तितली।।कह गौतम कविराय, मोह मन लेते तारे।बचपन में उत्पात, बुढापा आ मन मारे।।महातम मिश्र, गौतम
27 दिसम्बर 2018
08 जनवरी 2019
"
"देशज गीत" सजरिया से रूठ पिया दूर काहें गइलनजरिया के नूर सैंया दूर काहें कइलरचिको न सोचल झुराइ जाइ लौकीकोहड़ा करैला घघाइल छान चौकीबखरिया के हूर राजा दूर काहें गइल..... सजरिया से रूठ पिया दूर काहें गइलकहतानि आजा बिहान होइ कइसेझाँके ला देवरा निदान होइ कइसेनगरिया के झूठ सैंया फूर काहें कइल..... सजरिया स
08 जनवरी 2019
11 जनवरी 2019
"
"मुक्तक"मंदिर रहा सारथी, अर्थ लगाते लोग।क्या लिख्खा है बात में, होगा कोई ढोंग।कौन पढ़े किताब को, सबके अपने रूप-कोई कहता सार है, कोई कहता रोग।।-1मंदिर परम राम का, सब करते सम्मान।पढ़ना लिखना बाँचना, रखना सुंदर ज्ञान।मत पढ़ना मेरे सनम, पहरा स्वारथ गीत-चहरों पर आती नहीं, बे-मौसम मुस्कान।।-2महातम मिश्र, गौत
11 जनवरी 2019
26 दिसम्बर 2018
"
मत्तगयन्द सवैये के अंतर्गत 7 भगण और अंत मे दो गुरु का प्रयोग होता है। 16/16 पर यति भी दे दी जाय तो रचना और निखर जाती है।साधारण शब्दों मे मत्तगयन्द सवैये की मापनी इस तरह.होती है ----- 211/211/211/211/211/211/211/22 मत्तगयन्द सवैया छंद ७ भगण +२ गुरु = २३ वर्ण ] वर्णिक मात्रा प्रभार ३२ ] १२ /११ वर्ण /
26 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
छन्द- सीता (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी - 2122 2122 2122 212 अथवा लगावली- गालगागा गालगागा गालगागा गालगा पारंपरिक सूत्र - राजभा ताराज मातारा यमाता राजभा (अर्थात र त म य र)"गीतिका" छा रही कैसी बलाएँ क्या बताएँ साथियोंद्वंद के बाजार मे
18 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
11 जनवरी 2019
"
28 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x