"गज़ल" जिंदगी के दिन बहुत आए हँसा चलते बने थे नैन सूखे कब रहे की तुम रुला चलते बने थे

01 जनवरी 2019   |  महातम मिश्रा   (46 बार पढ़ा जा चुका है)

बह्र- 2122 2122 2122 2122 रदीफ़- चलते बने थे, काफ़िया- आ स्वर


"गज़ल"


जिंदगी के दिन बहुत आए हँसा चलते बने थे

नैन सूखे कब रहे की तुम रुला चलते बने थे

दिन-रात की परछाइयाँ थी घूरती घर को पलटकर

दिन उगा कब रात में किस्सा सुना चलते बने थे।।


मौन रहना ठीक था तो बोलने की जिद किये क्यों

काठ न था आदमी फिर क्यों बना चलते बने थे।।


फिर हरा होगा पिलाया जानकर जल आप ने ही

देख रुख दरिया किधर बंधा मिला चलते बने थे।।


आप जैसे सब नहीं अलमस्त जीते हैं महल में

देख बस्ती भीड़ की चिलमन गिरा चलते बने थे।।


लौट कर आये कहाँ जबसे गए घर छोड़कर जी

दे गए बरसात अनहद छत भिगा चलते बने थे।।


दर्द की दहलीज पर सुख ढूढ़ता है हर सनम क्यों

पूछ लो गौतम कदम क्यों तुम उठा चलते बने थे।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "भोजपुरी गीत" साँझे कोइलरिया बिहाने बोले चिरई जाओ जनि छोड़ी के बखरिया झूले तिरई....... साँझे कोइलरिया बिहाने बोले चिरई



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 दिसम्बर 2018
वज़्न--212 212 212 212, अर्कान-- फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन, बह्रे- मुतदारिक मुसम्मन सालिम, क़ाफ़िया— करते, (अते की बंदिश) रदीफ़ --- रहे"गज़ल" पास आती न हसरत बिखरते रहेचाहतों के लिए शोर करते रहेकारवाँ अपनी मंजिल गया की रुकाकुछ सरकते रहे कुछ फिसलते रहे।।चंद लम्हों की खातिर मिले थे कभीकुछ भटकते रहे कु
26 दिसम्बर 2018
26 दिसम्बर 2018
"
मत्तगयन्द सवैये के अंतर्गत 7 भगण और अंत मे दो गुरु का प्रयोग होता है। 16/16 पर यति भी दे दी जाय तो रचना और निखर जाती है।साधारण शब्दों मे मत्तगयन्द सवैये की मापनी इस तरह.होती है ----- 211/211/211/211/211/211/211/22 मत्तगयन्द सवैया छंद ७ भगण +२ गुरु = २३ वर्ण ] वर्णिक मात्रा प्रभार ३२ ] १२ /११ वर्ण /
26 दिसम्बर 2018
19 दिसम्बर 2018
"
"छंदमुक्त काव्य"कूप में धूपमौसम का रूप चिलमिलाती सुबहठिठुरती शाम है सिकुड़ते खेत, भटकती नौकरीकर्ज, कुर्सी, माफ़ी एक नया सरजाम हैसिर चढ़े पानी का यह कैसा पैगाम है।।तलाश है बाली कीझुके धान डाली कीसूखता किसान रोजगुजरती हुई शाम है कुर्सी के इर्द गिर्द छाया किसान हैखेत खाद बीज का भ्रामक अंजाम हैसिर चढ़े पानी
19 दिसम्बर 2018
17 दिसम्बर 2018
वज़्न - 1222 1222 122 , अर्कान - मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन फऊलुन बह्र - बह्रे हज़ज मुसद्दस महज़ूफ़, काफ़िया - डूबता(आ स्वर) रदीफ़- है"गज़ल"अजी यह इस डगर का दायरा है सहज होता नहीं यह रास्ता है कभी खाते कदम बल चल जमीं परहक़ीकत से हुआ जब फासला है।।उठाकर पाँव चलती है गरजबहुत जाना पिछाना फैसला ह
17 दिसम्बर 2018
11 जनवरी 2019
"कुंडलिया"मेला कुंभ प्रयाग का, भक्ति भव्य सैलाबजनमानस की भावना, माँ गंगा पुर आबमाँ गंगा पुर आब, लगे श्रद्धा की डुबकीस्वच्छ सुलभ अभियान, दिखा नगरी में अबकीकह गौतम कविराय, भगीरथ कर्म न खेलाकाशी और प्रयाग, रमाये मन का मेला।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
11 जनवरी 2019
28 दिसम्बर 2018
"
"मुक्तक" नहीं सहन होता अब दिग को दूषित प्यारे वानी। हनुमान को किस आधार पर बाँट रहा रे प्रानी।जना अंजनी से पूछो ममता कोई जाति नहीं-नहीं किसी के बस होता जन्म मरण तीरे पानी।।-1मानव कहते हो अपने को करते दिग नादानी।भक्त और भगवान विधाता हरि नाता वरदानी।गज ऐरावत कामधेनु जहँ पीपल पूजे जाते-लिए जन्म भारत मे
28 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
27 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
"
11 जनवरी 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x