गीतिका

12 मार्च 2019   |  महातम मिश्रा   (20 बार पढ़ा जा चुका है)

मापनी -1222 1222 1222 1222, समान्त- आर का स्वर, पदांत- हो जाना


"गीतिका"


अजी है आँधियों की ऋतु रुको बाहार हो जाना

घुमाओ मत हवाओं को सुनो किरदार हो जाना

वहाँ देखों गिरे हैं ढ़ेर पर ले पर कई पंछी

उठाओ तो तनिक उनको नजर खुद्दार हो जाना।।


कवायत से बने है जो महल अब जा उन्हें देखो

भिगाकर कौन रह पाया तनिक इकरार हो जाना।।


बहुत शातिर हुए अपने समय के जो परिंदे उड़

कहीं उनसा न इतराना भरे बाजार हो जाना।।


बहाकर बाढ़ ले जाती नहर मोती तलहटी से

न पानी से कभी लड़ना जिकर अख़बार हो जाना।।


गरज मजबूर करती है इरादों को बदल देती

मगर विश्वास पर चलना पहर परिवार हो जाना।।


न गौतम से छुपाना कुछ उसे अपना बना लेना

विचारे नेक मानव बन जिगर करतार हो जाना।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: छंदमुक्त काव्य



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 फरवरी 2019
"कुंडलिया" मिलती जब प्यारी विजय, खिल जाता है देश।वीरों की अनुगामिनी, श्रद्धा सुमन दिनेश।।श्रद्धा सुमन दिनेश, फूल महकाए माला।धनुष बाण गंभीर, अमर राणा का भाला।।कह गौतम कविराय, विजय की धारा बहती।भारत देश महान, नदी सागर से मिलती।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
28 फरवरी 2019
23 मार्च 2019
मु
आप व आप के पूरे परिवार को मुबारक हो फागुन की होली......."मुक्तकमुरली की बोली और राधा की झोली।गोपी का झुंड और ग्वाला की टोली।कान्हा की अदाएं व नंद जी का द्वार-पनघट का प्यार और लाला की ठिठोली।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
23 मार्च 2019
01 मार्च 2019
मु
स्वागतम अभिनंदन"मुक्तक"साहसी अभिनंदन है, अभिनंदन वर्तमान।वापस आया लाल जब, तबसे हुआ गुमान।युद्ध बिना बंदी हुआ, भारत माँ का वीर-स्वागत आगत शेर का, चौतरफा बहुमान।।-1एक बार तो दिल दुखा, सुनकर बात बिछोह।कैसे यह सब हो गया, अभिनंदन से मोह।डिगा नहीं विश्वास था, आशा थी बलवान-आया माँ की गोद में, लालन निर्भय ओ
01 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x