गम का तूफान

28 मार्च 2019   |  Arshad Rasool   (51 बार पढ़ा जा चुका है)

रूबरू जब कोई हुआ ही नहीं
ताक़े दिल पर दिया जला ही नहीं

ज़ुल्मतें यूं न मिट सकीं अब तक
कोई बस्ती में घर जला ही नहीं

बेजमीरों के अज़्म पुख़्ता हैं
ज़र्फ़दारों में हौसला ही नहीं

नक़्श चेहरे के पढ़ लिये उसने
दिल की तहरीर को पढ़ा ही नहीं

उम्र भर वह रहा तसव्वुर में
दिल की ज़ीनत मगर बना ही नहीं

हमने अश्कों पर कर लिया क़ाबू
ग़म का तूफ़ान जब रुका ही नहीं

वह अंधेरों का दर्द क्या जाने ?
जिसका ज़ुल्मत से वास्ता ही नहीं

अगला लेख: इतिहास ज्वलंत हो जाए



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 मार्च 2019
सभी जानते हैं कि बादशाह शाहजहां अपनी बेगम मुमताज़ से बहुत प्यार करते थे। उन्होंने अपनी बेगम की याद में संगमरमर की इमारत तामीर कराई थी, जिसको हम ताजमहल के नाम से जानते हैं। यह ताज दुनिया के सात अजूबों में से एक है। संगमरमर की यह इमारत बेहद खूबसूरत है। इसकी खूबसूरती ने श
26 मार्च 2019
22 मार्च 2019
इंसान की खूबसूरती बालों से ज्यादा होती है और इन बालों को अच्छा बनाने के लिए लोग क्या नहीं करते हैं.बालों से ही हर किसी की सुंदरता है फिर वो महिलाएं हों या फिर पुरुष, हर कोई अपने बालों के लिए बेहतर तरीके का शैंपू और कई तरह के दूसरे प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते हैं. खासकर लड़कियों में बाल काले घने और ज
22 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x