गम का तूफान

28 मार्च 2019   |  Arshad Rasool   (104 बार पढ़ा जा चुका है)

रूबरू जब कोई हुआ ही नहीं
ताक़े दिल पर दिया जला ही नहीं

ज़ुल्मतें यूं न मिट सकीं अब तक
कोई बस्ती में घर जला ही नहीं

बेजमीरों के अज़्म पुख़्ता हैं
ज़र्फ़दारों में हौसला ही नहीं

नक़्श चेहरे के पढ़ लिये उसने
दिल की तहरीर को पढ़ा ही नहीं

उम्र भर वह रहा तसव्वुर में
दिल की ज़ीनत मगर बना ही नहीं

हमने अश्कों पर कर लिया क़ाबू
ग़म का तूफ़ान जब रुका ही नहीं

वह अंधेरों का दर्द क्या जाने ?
जिसका ज़ुल्मत से वास्ता ही नहीं

अगला लेख: इतिहास ज्वलंत हो जाए



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 मार्च 2019
मे
मेरे रस-छंद तुम, अलंकार तुम्हीं होजीवन नय्या के खेवनहार तुम्हीं हो,तुम्हीं गहना हो मेरा श्रृंगार तुम्हीं हो।मेरी तो पायल की झनकार तुम्ही हो,बिंदिया, चूड़ी, कंगना, हार तुम्हीं हो।प्रकृति का अनुपम उपहार तुम्ही हो,जीवन का सार, मेरा संसार तुम्ही हो।पिया तुम्हीं तो हो पावन बसंत मेरे,सावन का गीत और
26 मार्च 2019
26 मार्च 2019
मु
मुस्कुराती बहारों को नींद आ गईआज यूं गम के मारों को नींद आ गई,जैसे जलते शरारों को नींद आ गई।थे ख़ज़ां में यही होशियार-ए-चमन,फूल चमके तो खारों को नींद आ गई।तुमने नज़रें उठाईं सर-ए-बज़्म जब,एक पल में हजारों को नींद आ गई।वो जो गुलशन में आए मचलते हुए,मुस्कुराती बहारों को नींद आ गई।चलती देखी है 'अरश
26 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x