ख्वाहिशें

10 अगस्त 2019   |  pradeep   (451 बार पढ़ा जा चुका है)

ख्वाहिशें तो बस ख्वाहिशें ही होती है ,

बदल जाए गर हकीकत में तो मर जाती है.

ख़्वाब को ख़्वाब ही रहने दो तो अच्छा है,

हक़ीक़त में बदले ख़्वाब कुछ अच्छे नहीं लगते.

तस्वीर में आफ़ताब भी क्या खूब लगता है,

तपा दे तो ख़ुद की तस्वीर भी जला देता है.

दूर से तो चाँद भी क्या खूब दिखता है,

वगरना चाँद भी बस मिटटी का गोला है. (आलिम)


अगला लेख: महाभारत युद्ध और जीत किसकी ?(भाग 1)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 अगस्त 2019
दी
दीवानगी इश्क की इस कदर छाई ,ख़ुद ही ख़ुद से बेख़बर हो गए. बेख्याली में भी ख्याल उनका रहा, ख़्याल ख़ुद के से बेख़्याल हो गए. ख़ुद की जिंदगी भी उनकी हो गई, जिस्म तो है पर रूह नदारद हो गई. दिल धड़कता तो है मेरे सीने में मगर , दिल की धड़कने उनके नाम हो गई.(आलिम)
06 अगस्त 2019
27 जुलाई 2019
जिंदगी कितना प्यारा सा लफ्ज़ है, कितने गाने लिखे गए, कितनी कविताएं लिखी गई, कितनी शेरो-शायरी हुई, पर जिंदगी कैसी है पहेली ना वो जाने ना हम. ये जिंदगी क्या कभी हमारी अपनी भी होती है? क्या हमारा भी अपनी जिंदगी पर कोई अधिकार है? क्य
27 जुलाई 2019
12 अगस्त 2019
जहाँ हुए बलिदान मुखर्जी वो कश्मीर हमारा है. श्यामा प्रसाद मुखर्जी, जनसंघ के संस्थापक, हिन्दू महासभा के के अध्यक्ष , कलकत्ता यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर, मुस्लिमलीग की सरकार में मंत्री, नेहरू सरकार में मंत्री.
12 अगस्त 2019

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x