रविवार की लकिरें

15 सितम्बर 2019   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (416 बार पढ़ा जा चुका है)

💐💐 "एतवार पर एतबार" 💐💐

समेट पलकों को रखूँ कहाँ?

पलकों को कैद तुमने जो कर रखा है।

खुला है सदा- दरवाज़ा दिल का,

दिल में एक कोना महफूज़ तेरा रखा है।।

💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐

काश हमें बाजू से--

हर गुज़रने वालों की--

अनसुनी धड़कनों का--

जरा भी अहसास होता।

दुजों के लबों पे--

आए मुस्कान बस--

ये हमारा मुक़ाम होता॥

💐💐💐💐💐💐💐

"एतवार" का है आज दिन।

कैसे रहूँ ? बता - तुम बिन।।

रहा हूँ काट लम्हें, ये दिन बीत जाए।

बीत जाए खोटी रात, भोर हो जाए।।

बंद पिंजड़े का पँक्षि उड़ न जाए।

प्यार के करीब जा गीत गुनगुनाए।।

💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐

नाहक गलतफ़हमी पाल रखी है ये जिंदगी।

नेह में भर जाए बस "नेकी" खातीर बंदगी।।

प्यार को बना दिया बंदों ने महज़ दिलग्गी।

मज़ार में नफ़रत धुस करने चली खुदखुशी।।

💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐

न जाने क्यूँ, मुहब्बत को हादसों से अक्सर जोड़ते हैं?

अश्कों की जुवॉ में, एकहीं सुर में सब क्यूँ बोलते हैं??

मुक़ाम सामने हो, राह छोड़ वियावान में सर फोड़ते हैं!

बागवान समझते खुद कोे, चिलमन की ओर धूरते हैं!!

अफ़रात हुश्न है पास मगर, फकीरी का चोला पहने डोलते हैं!

इश्क का तजुर्बा लिए, श्याही भरी दवात में कलम बोरते हैं!!

आशिक़ आजके जालिम, अफ़साने में बस दर्द हीं धोलते हैं!!!

💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐

माना कई राह से भटक, अँधेरों में अटक गुम होते हैं।

माना 'बेवफ़ा' बन कई मुहब्बत की किताब बेचते हैं।।

हुश्न में छुपी हुई ज़न्नत को महज़ सामान लोग समझते हैं।

सिद्दतों का असर, इल्तिज़ाओं का इनाम नहीं समझते हैं।।

"मर मिट जाएँगे" कहते मगर, बाजू से चपचाप गुजर जाते हैं।

एक दुजे में मालिक का अक्स न देख, तलाक़ कबूल करते हैं।।

💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐

आधी रात हुई पार, सबेरा भी आएगा!

चकोर उड़ान भर, छत पर उतर आगोश में में पायेगा!!

💐💐💐💐💐डॉ• के• के• निर्मल💐💐💐💐💐

अगला लेख: विश्व शांति दिवस पर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 सितम्बर 2019
कल मिलुँगा मैं तुझे,किस हाल में (?)कोई कहीं लिखा पढ़-कह नहीं सकता।नसीब के संग जुटा हूँ-ओ' मेरे अहबाब,अहल-ए-तदबीर में मगर,कोताही कर नहीं सकता।।के. के.
23 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
"हमारा संबंध", को प्रतिलिपि पर पढ़ें :https://hindi.pratilipi.com/story/srpcyca7uvmf?utm_source=android&utm_campaign=content_shareभारतीय भाषाओमें अनगिनत रचनाएं पढ़ें, लिखें और सुनें, बिलकुल निःशुल्क!
17 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
जय हो- अमर सृजन होदग्ध मानवता- रक्षित होअष्टपाश- सट् ऋपु मुर्छित हों''नवचक्र'' आह्वाहन जागृत होंकीर्तित्व उजागर - बर्धित होंशंखनाद् प्रचण्ड, कुण्डल शोभित होंकवि का हृदयांचल अजर - अमर होजय हो! 'वीणा वादनी' की जय हो!! 🙏 डॉ. कवि कुमार निर्मल 🙏
17 सितम्बर 2019
23 सितम्बर 2019
कल मिलुँगा मैं तुझे,किस हाल में (?)कोई कहीं लिखा पढ़-कह नहीं सकता।नसीब के संग जुटा हूँ-ओ' मेरे अहबाब,अहल-ए-तदबीर में मगर,कोताही कर नहीं सकता।।के. के.
23 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
22 सितम्बर 2019
अँ
DOGMA NO MORE MOREपरंपरा अंधविश्वास का पुष्ट कारण भी हो सकता है।मेरे पुर्वजों ने चुंकि ऐसा किया,अतयेव मुझे भी करना चाहिए---गलत है।उस समय की अवस्था क्या 【?】 थी,यह उनके सामयिक सिस्टम के अनुकूलऐसा कुछ हो रहा होगा, परन्तु आज वहगलत भी हो सकता है, गलत है सरासर- समय के प्रतिकूल।"सती प्रथा" कभी धर्मिक मान्य
22 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
13 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
प्
05 सितम्बर 2019
28 सितम्बर 2019
02 सितम्बर 2019
19 सितम्बर 2019
21 सितम्बर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x