सोचा न था

23 सितम्बर 2019   |  धर्मेन्द्र कुमार   (452 बार पढ़ा जा चुका है)

सोचा न था

!

एक रोज़ इस मोड़ से गुजरना पड़ेगा,

जिंदगी को मौत से यूँ लड़ना पड़ेगा,

चलते चलते लड़खड़ायेंगे पग राहो में

गिरते गिरते खुद ही सम्भलना पड़ेगा !!

!

डी के निवातिया

अगला लेख: मुक्तक



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
21 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
30 सितम्बर 2019
06 अक्तूबर 2019
खि
03 अक्तूबर 2019
मु
08 सितम्बर 2019
13 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
23 सितम्बर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x