सत्यिका

17 अक्तूबर 2019   |  shivbalak Pandey   (3206 बार पढ़ा जा चुका है)

सत्यिका

घूरती आखोँ में हँसी

तंज की ठिठोली हैं

अमानत थोड़ी हैं जो किसी की हो ली है

उनकी रुह में भी, छोड़ आया हूँ खुद को

अभी लब्ज बोले हैं, मोहब्बत कहाँ बोली हैं

अगला लेख: शहरी कबूतर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
31 अक्तूबर 2019
06 अक्तूबर 2019
खि
03 अक्तूबर 2019
03 अक्तूबर 2019
मि
13 अक्तूबर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x