अश्क और खुदा

01 नवम्बर 2019   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (444 बार पढ़ा जा चुका है)

अश्क और खुदा

😭😭😭😭😭😭

अश्कों से परेशान न हो

समझ जैसे मेहमान हो

गम गतल करना हो तो

खुदा संग जरा बात हो

🤓🤓🤓🤓🤓🤓

डॉ. कवि कुमार निर्मल

अगला लेख: ब्रह्म



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 अक्तूबर 2019
ब्रह्म पूर्ण है!यह जगत् भी पूर्ण है,पूर्ण जगत् की उत्पत्तिपूर्ण ब्रह्म से हुई है!पूर्ण ब्रह्म सेपूर्ण जगत् कीउत्पत्ति होने पर भीब्रह्म की पूर्णता मेंकोई न्यूनता नहींआती!वह शेष रूप में भीपूर्ण ही रहता है,यही सनातन सत्य है!जो तत्व सदा, सर्वदा,निर्लेप, निरंजन,निर्विकार और सदैवस्वरूप में स्थित रहताहै उस
21 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
सृजनात्मकतासाहित्य श्रिंखला अद्भुत हैअभिव्यक्ति की स्वतंत्रता हैसृजन में संस्कृति कीनैसर्गिक माला पिरोयेंमानववादियों को अतिशिध्रएक मंच पर लायेंडॉ. कवि कुमार निर्मल
17 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
"खोई यादें"अपनों का काफ़िला संग चुपचाप चल रहाअकेला पड़ गया गर्दिशों में जो, वो रो रहाहम अलविदा कह रुख्सत जब हो जाएंगेकिताबों के पन्नों में सिमट सब रह जाएंगेअफसोस कर कहेगा आने वाला जमानादीमक और सीलन से पन्ने बिखर- उड़ रहेयादों में न उलझ, नई डगर पे सब चल रहेडॉ. कवि कुमार निर्मल
28 अक्तूबर 2019
18 अक्तूबर 2019
🌹🌹🌹🌹🌹🌹मन बनाया है आज,तुम्हें जैसे भी हो, मना लूँ।दीपवाली के नावें,सारी रात रौशन कर निकाल दूँ!सुबह की खुमारी पुरजोर,गुस्ताखी कोई है मुमक़िऩचुप रहना जरा आज भर,ग़ुजारिस है- तोहफ़ों को बाँट दूँ!!🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷नज़रों का दोष कहें कि मुकद्दर का सौदागर।हर नज़्म लग रहीं है उनको, उम्दा बहर।।🌴
18 अक्तूबर 2019
05 नवम्बर 2019
जी
ठँडी मीठी छाँवकभी तीखा “सन” है जीवन आपा-धापी“एजिटे-शन” है इश्क़ हुआ तो बसझींगालाल
05 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
01 नवम्बर 2019
24 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
10 नवम्बर 2019
सृ
17 अक्तूबर 2019
20 अक्तूबर 2019
12 नवम्बर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x