शायरी

01 नवम्बर 2019   |  व्यंजना आनंद   (459 बार पढ़ा जा चुका है)

कुछ तो तड़प शांत हो जाएंगी हमारी।

जब तेरे पहलू में कुछ पल सुकून के बिताया हम करें ।।💓💓💓💓💓💓💓

मिथ्या ✍

अगला लेख: प्रेम पावनी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 नवम्बर 2019
गु
🌷गुरु की महता 🌷*****************गुरु तम मिटाने वाला ,गुरु हैं संजीवनी।उनकी कृपा वृष्टि हो तो,होती सुंदर जीवनी ।। *माँ प्रथम गुरु होती है, पिता मार्ग दर्शक।माँ पीड़ा हर लेती है, पिता बनते रक्षक।। *सच्चा गुरु वही होता है, जो चरित्र बदल दे।शिष्य के हर व्यवहार कर दे वे सरल रे।।
05 नवम्बर 2019
01 नवम्बर 2019
शा
💘तेरी चाहत में बात दिल में बस अब इतनी है सनमतुम हमें देखों हम तुझे यूँ ही निहारा करें ।।🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹व्यंजना आनंद ( मिथ्या)
01 नवम्बर 2019
18 अक्तूबर 2019
बा
आदरणीय सभी सदस्यों को व्यंजन आनंद का नमस्कार विषय- -- बाढ़ ।------------------------ 🌹सेमरा का जलकुण्ड🌹 """"""""""""""""""""""""""""दूरान्त तक, असीमित यह जल की प्रचुरता, मानो एक जलधि ही है।पर----निकट से देखा तो-पाया यह तो स्वयं हीप्रकृति काल बनकर-वर्षा का टाण्डव खेल रही
18 अक्तूबर 2019
02 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
02 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x