शायरी

01 नवम्बर 2019   |  व्यंजना आनंद   (440 बार पढ़ा जा चुका है)

कुछ तो तड़प शांत हो जाएंगी हमारी।

जब तेरे पहलू में कुछ पल सुकून के बिताया हम करें ।।💓💓💓💓💓💓💓

मिथ्या ✍

अगला लेख: प्रेम पावनी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
05 नवम्बर 2019
30 अक्तूबर 2019
प्
मात्रा---15, 12 🌹प्रेम पावनी 🌹 **""**""** टकटकी लगा निहार रहे, एक दूजे में लीन । मन के भीतर चलता रहा, ख्वाबो का एक सीन।।तेरे दर से न जाएंगे मन में जगी है आस। उठ रही दिलों में सैकड़ों दबी हुई मिठी प्यास।।पाकर प्रेम पावनी पिया , पीकर होती निहाल।
30 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
मैं जमाने को हंसाने के काम आता हूँ .किसी का दर्द मिटाने के काम आता हूँ .मुझको अखबार पुराना समझ के फेंको न यूँ .वक़्त पड़ने पे बिछाने के काम आता हूँ .
25 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
मन अक्सर कहता हैईश्वर से कुछ मांग लेआत्मा रोक देती है यह कहकर किप्रभु ने जितना दिया हैक्या मै उसके काबिल भी था
31 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x