वक्त

07 नवम्बर 2019   |  pradeep   (2643 बार पढ़ा जा चुका है)

ना वक्त को ज़रूरत तेरी है,

ना ज़रूरत वक्त को मेरी है.

वक्त तो चलता है चाल अपनी,

ज़रूरत वक्त की हम तुम को है.

वक्त के साथ जो भी चल पड़ा,

वक्त उसका, ये ज़माना उसका है.

वक्त की मुश्क से ना कोई बचा,

ना जाने शाह कितने इसमें मिल गए.

था जिन्हे नाज अपनी ताकत का

वक्त की धूल में वो जाने कहाँ खो गए. (आलिम)

अगला लेख: वस्ले-यार



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 नवम्बर 2019
ज़ुर्रत नहीं मेरी कि मैं इश्क करू तुझसे, क्या करू जो गर इश्क हो जाए तुझसे. (आलिम )
16 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
आज़ादी के बाद सफ़र सत्यमेव जयते से शुरू हुआ और साम, दाम, दण्ड, भेद पर पहुँच गया. आज हर कोई साम, दाम, दण्ड, भेद का समर्थक है, क्योकि उससे सत्ता की प्राप्ति होती है. साम, दाम, दंड , भेद नीति के जनक चाणक्य नहीं है, यह तो बहुत पुरानी न
16 नवम्बर 2019
17 नवम्बर 2019
इबादत ख़ुदा कि मैं भी कर तो लू, जो तेरी यादे छोड़ दे मुझको, बाँध कर यादो ने तेरी मुझे खुद से ही नहीं ख़ुदा से भी दूर कर दिया. (आलिम)
17 नवम्बर 2019

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
04 नवम्बर 2019
टू
04 नवम्बर 2019
चा
16 नवम्बर 2019
दा
16 नवम्बर 2019
04 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
04 नवम्बर 2019
04 नवम्बर 2019
मा
04 नवम्बर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x