वख़्त बचता नहीं

20 फरवरी 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (1202 बार पढ़ा जा चुका है)

वख़्त बचता नहीं

वख़्त बचता नहीं


वख़्त बचता हीं नहीं उफ! खुद के लिये,
हदों के पार जा- ख़ुद को कुछ सँवार लूँ!
गुलशन में तुम्हारे मशगूल हुए इस कदर,
कैसे (?) कुछ लम्हें तेरी तवज़्जो में,
'गुफ़्तगू' कर ताजिंदगी गुजार दूँ!!


डॉ. कवि कुमार निर्मल

अगला लेख: शायरी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 फरवरी 2020
कविमनन-चिंतन, पठन-पाठन में अग्रसारिता गह,बुद्धिजीवी कोई बन पाता है। तुकबंदी, कॉपी-एडिट वा कुछेक लकिरें उकेर,कवि कोई बन नहीं सकता है।। जन्मजात संस्कारों की पोटलीगर्भ से हीं कवि साथ लाता है। मानसिकत: परिपक्व हो मचल-उछल कर अभिव्यक्ति करता है।कवित्व स्वत: स्फुरित-स्फुटित हो,'रचनाकार' निखर उभरता है।। आलो
12 फरवरी 2020
10 फरवरी 2020
जिन्दगी की हर घड़ी है वारन्टी मय।कभी जय होती तो कभी होती छय।।आगे ससरती हीं यह जाती है।सुर-ताल सब बदल जाते हैं।।ठोकरो की पुरजोर ताक़त से,तजुर्बा बढ़ता, निखर जाते हैं।खिलखिलाहट से कहकशे की,राह पे सब बढ़ते चले जाते हैं।।मयपन है कि झुर्रियाँ गि
10 फरवरी 2020
06 फरवरी 2020
वसंत ऋतु और प्रथम कोपलनैसर्गिक बीज एक नील गगन से-पहला जब वसुन्धरा पर टपकामाटी की नमी से सिंचित हो वह-ध्रुतगति से निकसा- चमकाप्रकाश की सुक्ष्म उर्जा- उष्णतामाटी से मिला पोषण संचित कर-प्रथम अंकुरण बड़भागी वह पायाअहोभाग्य, पहली कोपल फुटी!लगा खोजने पादप नियंत्रक को--पर वह नहीं कहीं मिल रे पाया--हर पल महस
06 फरवरी 2020
28 फरवरी 2020
मेरा न्यारा देश है ये भारतदीप जले घर-घर, हर आँगनरंग-बिरंगी सजी रंगोली द्वारों परप्रिये का श्रृंगार देख, इठलाये साजनविजय-ध्वजा फहरे हर चौबारेवीरों का ये देश राष्ट्र की सीमा संवारेपाई हर बच्चे ने आज महारथदेश-प्रेम से बड़ा न कोई स्वारथजग-मग करता मेरा प्यारा भारतस्वरचित ©®★★★★★★★★★★★★★★प्रेरणात्मक सृजन
28 फरवरी 2020
26 फरवरी 2020
💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓 कृष्ण 💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓महाभारत का पार्थ-सारथी नहीं,हमें तो ब्रज का कृष्ण चाहिए।राधा भाव से आह्लादितमित्रों का-साथ,चिर-परिचित लय-धुन-ताल चाहिए।।प्रेम की डोर तन कर,टूटी नहीं है कभी।अंत: युद्ध का,हमें दीर्ध विश्राम चाहिए।।।प्रेम सरिता में आप्लावन,अतिरेक प्या
26 फरवरी 2020
10 फरवरी 2020
भैलेंटाइन परचम्पता नहीं था, आज भैलेंटाइन डे चल कर है आतादिन में याद दिलाते गर तो गिफ्ट-विफ्ट ले आतासाथ बैठ मोटेल में मटर-पनीर-पुलाव खाताउपर से मिष्टी आदतन रस-मलाई चार गटक जाताचल- रात हुई बहुत अब और जगा नहीं जाताभैलेंटाइन की बची-खुची कसर की पूरी कर पाताडॉ. कवि कुमार निर्मल
10 फरवरी 2020
29 फरवरी 2020
💖💖💖पिता💖💖💖एषणाओं के भंवरजाल मेंउलझ व्यर्थ हीं,व्यथित हो इहजगत् कोन बँधु झुठलाओ।तुममें है हुनर एवम्है अदम्य सामर्थ्य,अजपाजप गह'सबका मालिक एककह नित महोत्सव मनाओ।।हर साल "फादर्स डे" मना एक दिन३६४ भूल जाते आखिर क्यों (?) तुम!"पित्रि यज्ञ महामंत्र" नित्य उचर कर,आशीर्वाद भरपूर बटोर करसदगति रे मन पा
29 फरवरी 2020
27 फरवरी 2020
बेटीबेटे से बाप का बटवारायुगों से होता चला आया है!माँ को बाप से विलगा- शपीड़ा तक भी बटवाया है!!उसर कोख का ताना लेकोर्ट का चक्कर मर्द लगता है!कपाल क्रिया कर वहआधे का हक सहज पा जाता है!!बेटी सिंदूर लगवाएक साड़ी में लिपट साथ हो लेती है!माँ-बाप का दु:ख सुनते हींवह दौड़ी चली आती है!!मरने पर वह साथ न हो
27 फरवरी 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
03 मार्च 2020
05 मार्च 2020
12 फरवरी 2020
10 फरवरी 2020
03 मार्च 2020
11 फरवरी 2020
22 फरवरी 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x