ज़िन्दगी

20 जून 2020   |  Arun choudhary(sir)   (328 बार पढ़ा जा चुका है)

जिन्दगी सफल होती है ज़िंदादिली से,

हरदिल अज़ीज़ होती है अपनेपन से।

अपने ही तो बुनते है तानाबाना ज़िन्दगी का,

अपनों से ही बनता है आशियाना जिंदगी का।

कब से मै तलाशता फिर रहा अपनों को,

कोशिश कर रहा रंगों से भरने की,

इस वीरान जिंदगी को।

आज मै बहुत खुश हूं,कोई तो साथी मुझे मिला,

खुश हूं अपनी लेखनी से,

अब ना जिंदगी से कोई शिकवा गिला।

अगला लेख: मेरी पीड़ा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 जून 2020
कैसी विडम्बना है ये, कि भ्रम में पड़ा ये मन है, बहुत सोचा बहुत समझा,पर बांवरा ये मन है।विचार बहुत आये मन में,पर चंचल ये मन है,कोशिश की बहुत रुकने की,पर ठहरता नहीं ये मन है।सोचा बहुत आगे बढ़ने को,पर थम गया ये म
27 जून 2020
21 जून 2020
पा
पापा, जो सायकिल के डंडे पर आगे बैठा कर चढ़ाई पर जोर लगाते थे,बाद में फिर पढ़ाई में आगेबढ़ाने में जोर लगाते थे।मौका आने पर जॉब या बिजनेस के लिए, एक बारऔर जोर लगाते थे।अच्छी सी जीवन संगिनी,तुम्हारे लिए ,समाज केफिर कई फेरे लगाते थे।नए शहर में नया घरबार ,तुम्हे बसाने के ल
21 जून 2020
09 जून 2020
हां मै बहुत खुश था ,जब मै छोटा था । पापा लाए थे हार डाल कर नयी सायकिल, सारे दोस्तो को इकट्ठा कर ,मै बहुत खुश था,सभी को एक एक राउंड का वादा कर ,मैंने नहीं छोड़ी सायकिल दिन भर।हां मैं बहुत खुश था,जब घर पर टी वी आया,वो भी ब्लैक & व्हाइट ,रोब
09 जून 2020
29 जून 2020
मै
छोटे छोटे अरमानों के पुरा होते देख,मैं खुशी ढूंढ़ता हूं।किसी गरीब की थाली में पकवान देख,किसी मजदूर को काम के
29 जून 2020
30 जून 2020
जज़्बात किसी के भी हो,रहते दिल की गहराई में,
30 जून 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x