ज़िंदगी के मोड़

14 जुलाई 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (312 बार पढ़ा जा चुका है)

ज़िंदगी के मोड़

ज़िंदगी के मोड़


उचंट खाता बन खोला है सदा

लकीरें उकेरने का सीख रहा हूँ कायदा

💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮

अश्कों के संग

दर्दे दिल बह जाएगा!

सुकून फिर भी क्या?

कभी मिल पाएगा!!

मरहम छुपा उलझा रखा है-

गेसुओं में अपने,

आहें नज़र-अंदाज़ करने की

आदत बना डाली है!

इनकार बनाया जिन्दगी का

'आईन'- सवाली है!!

प्यार का दस्तूर बेहिसाब,

साथ न कभी निभाया है!!!

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

इश्क वख्त का पाबन्द नहीं

खुद-ब-खुद प्यार हो जाता है।

यराना की कोई शर्त होती नहीं

सोहबत न हो- इश्क हो जाता है।।

मुमक़िन है, कई इंतिहां आ गुजरें

किश्ती मझधार में डगमगाती है।

दलदलों का सफ़र, पार कर किश्ती

साहिल से जा टकराती है।।

प्यार जलाता मगर खुद राख न होता है

सोने पर सुहागा तप के निखर पाता है

राहों का प्यार अनुम दफ़न हो जाता है

कभी दिल बाग़-बाग,

हुस्न चमक जाता है।

शीशे की बनी माला का

अंजाम यही होता है।

पत्थर भी सोहबत से

घीस चमक जाता है।।।

जिस्मानी तिश्नगी बुझाये

कभी बुझती नहीं

ख़्वाबों की दुनिया में खो

बिखर जाती है।

हकीक़त का सबब,

वो प्यार हो सही--

जन्नत का नज़ारा-ओ-सुक़ून

यहीं पाता है।।

🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵

ज़ख्म गहरे थे बहुत- रीस गया नासूर,

वख़्त की मार से और गहरा जाता है!

मरहम मिले कारगर गरचे खोजे,

लाइलाज़ नासूर रिसता रहता है।

ज़िन्दगी अज़ीबो-ग़रीब है-

जरा रफ़्तार- लड़खड़ा गई!

कारवाँ गुज़र गया, गुबार देख कर

ज़िंदगी बरबाद हुई!!

साहिल न मिलने का गम,

मिल गई एक-मुश्त सज़ा!

ज़िल्लत-ओ'-बंदिशों की आह,

अभी देख- सिमट पाई न थी!!

शिकस्त के गहरे साद से,

बेघर एक बागवान बन,

प्यार कर के बियावान

बनी ये ज़िंदगी!!

🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺

🌹🌳🌳 मेरा मन 🌳🌳🌹

रूह तो तन को सहलाती है सदा

पीड़ा है मन का फ़ितूर, रुलाती है सदा

रूह खुदा का बेहतरीन आइना है

दिलो-दीमाग का फ़ितूर- एक कील्ह है

कील काँटे से दुरुस्त रखना

खुद की ज़िंदगी को सदा

रूह को खुदा से जोड़के

अलविदा तक रखना सदा

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

राहों में टकराये थे बार-बार

फिसल जाती थे बार-बार

देखा था जब तुम्हें चौबारे में

गलियों में, नदी के किनारों में

काश नज़रें कुछ पल ठहर जातीं

दिल की सुराख़ों में सिमट जातीं!


🍁 डॉ• कवि कुमार निर्मल 🍁

अगला लेख: तुम मिलना मुझे



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 जुलाई 2020
💐💐राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस💐💐भारत का डॉक्टर हार रहा-हुआ हताशकवि अश्रु बहा थकित-हो रहा निराश''कोभिड'' फटेहाल देख डॉक्टर कोआगोश में समेट कहीं छुप जाता हैघर में बने 'मास्क' पहन क्या (?) कोईकोभिड संक्रमण से क्या बच पाता हैपैदल चल कर आखीर कैसे डॉक्टर५लाख पार खाने वाले को-मार भगा पाएगापहुँच रहा आँकड़
01 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
💐💐"जिंदगी से मुलाक़ात"💐💐मुलाकात जिंदगी से पहली बार हुई,न हुआ अहसास, न वैसा दिमाग था।दुसरी मुलाकात हुई राह चलते,दर्दों का न कोई पारावार था।।मुलाकात होती रही बार-बार,मिलना हआ बेहद आसान,कुछ बहाना- करना कॉल था।अपने - पराये का मन में--न कभी आया ख्याल था।।कभी भूख खातीर था हंगामा,पर प्यारा सा माँ का हाथ
24 जुलाई 2020
22 जुलाई 2020
22 जुलाई 2020
09 जुलाई 2020
💦 💦💦 💦 💦💦 💦दर्द तेरा सारा, काश मैं पी पाता!अश्कों को तेरे पोछ मैं जी पाता!!ताजिंदगी निभाने का वायदा किया है,जहाँ की सारी खुशियाँ तुझे मैं दे पाता!तेरी हर चाहतों पे दिल कुरवाँ हो जाता!!🐾 🐾🐾 🐾 🐾 🐾🐾 🐾🐾 शराबोर है मेरा मन!छायें हैं मेध सधन!!तिश्नगी बेहिसाब- बेताब हूँ,शराबोर हो पिधल जा
09 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
शा
तुम सुनो न सुनो हम तुम्हे आवाज़ दे बुलाते रहेंगे तुम मुझे भूल जाओ मगर हम तेरा नाम गुनगुनाते रहेंगे प्यार करके प्यार से मुकर जाओ ये तेरा धरम हम तुम्हे गीत में ढाल कर तुम्ही को गीत सुनाते रहेंगे
17 जुलाई 2020
22 जुलाई 2020
22 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
💐💐"जिंदगी से मुलाक़ात"💐💐मुलाकात जिंदगी से पहली बार हुई,न हुआ अहसास, न वैसा दिमाग था।दुसरी मुलाकात हुई राह चलते,दर्दों का न कोई पारावार था।।मुलाकात होती रही बार-बार,मिलना हआ बेहद आसान,कुछ बहाना- करना कॉल था।अपने - पराये का मन में--न कभी आया ख्याल था।।कभी भूख खातीर था हंगामा,पर प्यारा सा माँ का हाथ
24 जुलाई 2020
23 जुलाई 2020
मेरा तुम्हारा फैसला होगा खुदा के सामने, "रंजन", तुमने भी तैग खींच ली हमने भी सर झुका दिया ! https://ghazalsofghalib.com https://sahityasangeet.com
23 जुलाई 2020
08 जुलाई 2020
💮🌍🌎🌎धरा विचलित🌏🌎🌍💮धरती माँ की पीड़ा- अकथनीय- अतिरेक,दिवनिशि धरती माँ रे! अश्रुपूरित रहती है,मन हुआ क्लांत - म्लान - अतिविक्षिप्त है।व्यथा-वेदना सर्प फणदंश सम- असह्य है।।जागृति की एषणा प्रचण्ड- अति तीव्र है।शंख-प्रत्यंचा सुषुप्त- रणभूमि रिक्त है।।पौरुषत्व व्यस्त स्वप्नलोक में-चिर निंद्रा में
08 जुलाई 2020
23 जुलाई 2020
सावनलद्द-फद्द मदहोश हो-छा गये दिलोदिमाग परखुशियों का सावनलिख दिया बुझते वज़ूद परलुट-लुटा के मुकम्मलजब होश आ झकझोरानासाज़ हुए बेहिसाबकज़ा की बरसात झेलकरडॉ. कवि कुमार निर्मल
23 जुलाई 2020
29 जून 2020
कागज की नाव⛵⛵⛵⛵⛵⛵बाल गीत लिखते लिखतेजागतिक् विचारों में बह चलाबाल सुलभ जीवन मेरासमयान्तर- छिटक दूर हो चला★★★★★★★★★★★★★★🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂जो सोचा था, वह पा न सकाजो खोया था, न वापस ला सकातुम्हारी यादों को समेटे खुद को बहला न सका🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷टच से काम चलता है,श्याही पोतना क्याअँगुली की पोर परउझलती ह
29 जून 2020
11 जुलाई 2020
★☆तुम मिलना मुझे☆★ ★☆★☆★☆★☆★☆★आँखों में जब भी डूबना चाहाझट पलकें झुका ली आपनेछूना लबों को जब भी चाहाहाथ आगे कर दिया आपनेसरगोशी कर रुझाना चाहाअनसुना कर दिया आपनेगुफ़्तगू की ख़्वाहिश जगी पुरजोरतन्हा
11 जुलाई 2020
21 जुलाई 2020
💐💐💐★गज़ल★💐💐💐🍥🍥🍥🍥🍥🍥🍥🍥गज़लों में हदें पार होती हैंदिलदारों की खातिर--अगाज़ होती हैंआवाम की नहीं,मोहताज होती हैशर्म की आवाज--दुश्वार होती हैअनकही दास्तॉ--चिलमन के पार होती हैशरगोशी को गुनाह--करार जो देते हैवे ताज़िंदगी पल्लू--पकड़ के रोते हैंसरहदों की बात--
21 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x