अल्फ़ाज़ तेरे कहीं खो ना जाए

14 जुलाई 2020   |  Arun choudhary(sir)   (300 बार पढ़ा जा चुका है)

अल्फ़ाज़ तेरे कहीं खो ना जाए,

जल्दी से समेट ले ,कहीं देर ना हो जाए।

पिरों दे माला में इन्हे,कहीं भटक ना जाए।

वक़्त बहुत है कम,कहीं ये फिसल ना जाए।

इबारत का रास्ता है कठिन,कहीं अटक ना जाए।

मंजिल पे पहुंचा जल्दी इन्हें,कहीं देर ना हो जाए। अल्फ़ाज़ तेरे कहीं खो ना जाए।

अगला लेख: विश्वास की चादर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 जुलाई 2020
खु
खुशियां खरीदना चाहता है पैसों से ,लेकिन जानता नहीं किखुशियां टिकती नहीं,जो खरीदी जाए पैसों से।खुशियां वफ़ा नहीं होती है,पैसों की ।वह तो मुराद होती है,प्रेम की।गर खुशियों की दुकान जो होती,तो शायद खुशियां उधार न मिलती।फिर खुशियां हर किसी
17 जुलाई 2020
21 जुलाई 2020
हमारे शहर में हुआ मंत्री जी का आगमन,
21 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
को
नियति ने रचा यह चक्र है,प्रकृति से छेड़छाड़ करने पर,उसकी दृष्टि हम पे वक्र है ,नियति का रचा यह चक्र है।उसको करने चले थे खामोश, परिणाम उसी का है ये किआज हम भी है खामोश।
17 जुलाई 2020
19 जुलाई 2020
इं
बदल गयी है ,इंसान की अब अपनी फितरत; बदल रहा है,इंसान अब पैमाने ए कुदरत।जीने की परिभाषा,विकास की अभिलाषा;सब कुछ बदल रहा,पूरी करने अपनी लालसा। प्रकृति को छेड़ , छीन पशु पक्षियों का आसरा;स्वार्थ के अतिरेक,जंगल पे
19 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x