शायरी

17 जुलाई 2020   |  AYESHA MEHTA   (326 बार पढ़ा जा चुका है)

तुम सुनो न सुनो हम तुम्हे आवाज़ दे बुलाते रहेंगे

तुम मुझे भूल जाओ मगर हम तेरा नाम गुनगुनाते रहेंगे

प्यार करके प्यार से मुकर जाओ ये तेरा धरम

हम तुम्हे गीत में ढाल कर तुम्ही को गीत सुनाते रहेंगे

अगला लेख: कल्पना



आलोक सिन्हा
17 जुलाई 2020

अच्छी पंक्तियाँ हैं ।

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
23 जुलाई 2020
09 जुलाई 2020
18 जुलाई 2020
23 जुलाई 2020
22 जुलाई 2020
08 जुलाई 2020
22 जुलाई 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x