पहली बारिश

17 जुलाई 2020   |  Arun choudhary(sir)   (286 बार पढ़ा जा चुका है)

पहली पहली बारिश ,

करती है आप से गुजारिश,

जरा भीग के तो देख,

पूरी हो जाएगी सारी ख्वाहिश।

मै तो तुझे कर दूंगी सरोबार,

गर सर्दी खांसी हो गई तो हो जाएगा क्वारेंटाइन,

दूर हो जाएगा घर बार।

अगला लेख: विश्वास की चादर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 जुलाई 2020
खु
खुशियां खरीदना चाहता है पैसों से ,लेकिन जानता नहीं किखुशियां टिकती नहीं,जो खरीदी जाए पैसों से।खुशियां वफ़ा नहीं होती है,पैसों की ।वह तो मुराद होती है,प्रेम की।गर खुशियों की दुकान जो होती,तो शायद खुशियां उधार न मिलती।फिर खुशियां हर किसी
17 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
शा
ना दिल को सुकून,ना मन को चैन,ना बाहर मिले आराम,ना घर में रहे बिना काम,दोस्तों ये ना तो है प्यार,और ना जॉब या कारोबार,ये तो बस है ,शादी के बाद का हाल ।
17 जुलाई 2020
15 जुलाई 2020
वि
विश्वास की चादर फैला, उस पे ईमानदारी को बैठा, इतिहास बदल दिया उसने भारत का है।वर्षों से विश्वभर में जो स्थिति हमारी थी,आज पूरे विश्व में वो साख देश ने कमाई है।स्वच्छता का संदेश फैला जनमानस में,गांव गांव गली गली आज साफ सुथरी है।भ्रष्टाचा
15 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x