खुशियां

17 जुलाई 2020   |  Arun choudhary(sir)   (314 बार पढ़ा जा चुका है)

खुशियां खरीदना चाहता है पैसों से ,

लेकिन जानता नहीं कि

खुशियां टिकती नहीं,

जो खरीदी जाए पैसों से।

खुशियां वफ़ा नहीं होती है,

पैसों की ।

वह तो मुराद होती है,

प्रेम की।

गर खुशियों की दुकान जो होती,

तो शायद खुशियां उधार न मिलती।

फिर खुशियां हर किसी के नसीब में ना होती।

प्रभु की माया अजीब है,

खुशियां हरेक के नसीब है।

अगला लेख: विश्वास की चादर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 जुलाई 2020
पहली पहली बारिश , करती है आप से गुजारिश,जरा भीग के तो देख,पूरी हो जाएगी सारी ख्वाहिश।मै तो तुझे कर दूंगी सरोबार,गर सर्दी खांसी हो गई तो हो जाएगा क्वारेंटाइन,दूर हो जाएगा घर बार।
17 जुलाई 2020
10 जुलाई 2020
मजा तब शुरू होता जब सबसे छोटे बापू मामा गर्मी की छुट्टियों में गांव आते साथ में देवगांव के प्रसिद्ध पेडे जरूर लाते ।उनके आते ही हवेली कि रौनक बढ़ जाती ,क्योंकि मामा भले ही
10 जुलाई 2020
28 जुलाई 2020
सभ्यता की विकास यात्रा जारी है अनवरत अनवरत, पृथ्वी के जन्म से चल रहा है परिवर्तन अब तक।कई प्रजातियां पौधों की और जीवों की बदल रही अविरत,बड़े बड़े पेड़ों में और जानवरों में हो रह
28 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x