कोरोना का चक्र

17 जुलाई 2020   |  Arun choudhary(sir)   (326 बार पढ़ा जा चुका है)

नियति ने रचा यह चक्र है,

प्रकृति से छेड़छाड़ करने पर,

उसकी दृष्टि हम पे वक्र है ,

नियति का रचा यह चक्र है।

उसको करने चले थे खामोश,

परिणाम उसी का है ये कि

आज हम भी है खामोश।

अगला लेख: विश्वास की चादर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 जुलाई 2020
सभ्यता की विकास यात्रा जारी है अनवरत अनवरत, पृथ्वी के जन्म से चल रहा है परिवर्तन अब तक।कई प्रजातियां पौधों की और जीवों की बदल रही अविरत,बड़े बड़े पेड़ों में और जानवरों में हो रह
28 जुलाई 2020
14 जुलाई 2020
अल्फ़ाज़ तेरे कहीं खो ना जाए, जल्दी से समेट ले ,कहीं देर ना हो जाए।पिरों दे माला में इन्हे,कहीं भटक ना जाए।वक़्त बहुत है कम,कहीं ये फिसल ना जाए।इबारत का रास्ता है कठिन,कहीं अटक ना जाए।मंजिल पे पहुंचा जल्दी इन्हें,कहीं देर ना हो जाए। अल्फ़ाज़ तेरे कहीं खो ना जाए।
14 जुलाई 2020
19 जुलाई 2020
इं
बदल गयी है ,इंसान की अब अपनी फितरत; बदल रहा है,इंसान अब पैमाने ए कुदरत।जीने की परिभाषा,विकास की अभिलाषा;सब कुछ बदल रहा,पूरी करने अपनी लालसा। प्रकृति को छेड़ , छीन पशु पक्षियों का आसरा;स्वार्थ के अतिरेक,जंगल पे
19 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x