सावन

23 जुलाई 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (313 बार पढ़ा जा चुका है)

सावन

सावन


लद्द-फद्द मदहोश हो-

छा गये दिलोदिमाग पर

खुशियों का सावन

लिख दिया बुझते वज़ूद पर

लुट-लुटा के मुकम्मल

जब होश आ झकझोरा

नासाज़ हुए बेहिसाब

कज़ा की बरसात झेलकर


डॉ. कवि कुमार निर्मल

अगला लेख: आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 जुलाई 2020
💦 💦💦 💦 💦💦 💦दर्द तेरा सारा, काश मैं पी पाता!अश्कों को तेरे पोछ मैं जी पाता!!ताजिंदगी निभाने का वायदा किया है,जहाँ की सारी खुशियाँ तुझे मैं दे पाता!तेरी हर चाहतों पे दिल कुरवाँ हो जाता!!🐾 🐾🐾 🐾 🐾 🐾🐾 🐾🐾 शराबोर है मेरा मन!छायें हैं मेध सधन!!तिश्नगी बेहिसाब- बेताब हूँ,शराबोर हो पिधल जा
09 जुलाई 2020
02 अगस्त 2020
असली मित्रजिंदगी से मुलाक़ातएक बार गोष्टियों में यह बात हुई।असली मित्र कौन? बहस बेबात हुई।।धमासान चला वर्षों वाक् युद्ध।अंत में निष्कर्ष यही निकला शुद्ध।।मित्रता की सोंचे वो है पगला।हम हैं तो कोई मित्र बने हमारा।।हम न रहे लो श्मशानधाट हमारा।।साँसों के तार का ताना-बाना,जीवन हीं परम मित्र हमारा।।।मुला
02 अगस्त 2020
23 जुलाई 2020
मेरा तुम्हारा फैसला होगा खुदा के सामने, "रंजन", तुमने भी तैग खींच ली हमने भी सर झुका दिया ! https://ghazalsofghalib.com https://sahityasangeet.com
23 जुलाई 2020
12 जुलाई 2020
☁🌧️☁🌧️⛈️🌧️☁️⛈️☁️☆☆☆★12/07/202★☆☆☆🌧️सावन आएगा झूम के🌨️🌧️⛈️ सावन झूम के आया ⛈️🌧️⚡⚡⚡⚡⚡⚡⚡⚡⚡⚡भादो भी मन की तिश्नगी मिटाएगा।नयन मटक्का करती चपला बाला काझूला ऊँची-ऊँची पेंगें अब लगाएगा।।युवाओं का चंचल मन यहाँ- वहाँ लखजाल फेंक डोर खींच पास ले आएगा।बरसाने का कान्हा प्यारा हर बार कुँज-गलियन में रास र
12 जुलाई 2020
15 जुलाई 2020
कृ
आरोहण- अवरोहण अति दूभर,जल-थल-नभ है ओत-प्रोत,समय की यह विहंगम,दहकती ज्वाला हैअंध- कूप सेखींचनिकालोहे प्रभु शीध्र,अकिंचन मित्र आया है!कृष्ण! तेरा बालसखा आया हैधटा-टोप अंधेरा, सन्नाटा छाया हैअन्धकार चहुदिस, मन में तम् छाया हैगोधुली बेला की रुन- झुन रुन- झुन,मनोहर रंगोली, दीपों की माला हैदीर्ध रात्रि का
15 जुलाई 2020
14 जुलाई 2020
ज़िंदगी के मोड़उचंट खाता बन खोला है सदालकीरें उकेरने का सीख रहा हूँ कायदा💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮💮अश्कों के संग दर्दे दिल बह जाएगा!सुकून फिर भी क्या? कभी मिल पाएगा!!मरहम छुपा उलझा रखा है-गेसुओं में अपने,आहें नज़र-अंदाज़ करने कीआदत बना डाली है!इनकार बनाया जिन्दगी का'आईन'- सवाली है!! प्यार का दस्तूर बेहिसाब,
14 जुलाई 2020
18 जुलाई 2020
ज़िंदगी भीख में नहीं मिलती, ज़िंदगी बढ़ के छीनी जाती है "रंजन", कायरों का जीना भी कोई जीना है सिर्फ कुछ दिन गिनी जाती !! https://ghazalsofghalib.com https://sahityasangeet.com
18 जुलाई 2020
22 जुलाई 2020
22 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x