मुलाकात जिंदगी से

24 जुलाई 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (322 बार पढ़ा जा चुका है)

मुलाकात जिंदगी से

💐💐"जिंदगी से मुलाक़ात"💐💐


मुलाकात जिंदगी से पहली बार हुई,
न हुआ अहसास, न वैसा दिमाग था।
दुसरी मुलाकात हुई राह चलते,
दर्दों का न कोई पारावार था।।
मुलाकात होती रही बार-बार,
मिलना हआ बेहद आसान,
कुछ बहाना- करना कॉल था।
अपने - पराये का मन में--
न कभी आया ख्याल था।।
कभी भूख खातीर था हंगामा,
पर प्यारा सा माँ का हाथ था।
कभी खेल-कूद की मस्ती,
नुक्कड़ पर अटका रहता प्राण था।।
दिमागी खुराक मिलती रही,
दुनिया के तिलिस्म का--
हुआ कुछ-कुछ अन्दाज था।
चाँद-तारों से भरा सर पर--
खुला हुआ आसमान था।।
समझ न आया सबक सारा,
मालिक का दिया नेह भरा काम था।
कुछएक लकिरें उकेर डाली,
शरहदों के पार गया नाम था।।
मुलाकात का शिलशिला,
जद्दोज़हद सह खुशगवार गुजर गया।
कुछ पाके बेसक- हुई बहोत खुशी--
कुछ खोके ना हुआ नासाज़ था।।
रक़ीब सारे, अज़ीज हबीब बन गए,
नफ़रत का नामो-निशान न था।
महफ़ील जब भी सजी-सवँरी,
फरिस्तों में लिखा गया नाम था।।
सच कहूँ दोस्तों? साहील ओ'
हर मुक़ाम साथ-साथ था।
कवि अकेला न रहा कभी,
हमदर्द काफ़िले का साथ था।।


डॉ. कवि कुमार निर्मल

अगला लेख: आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 जुलाई 2020
💦 💦💦 💦 💦💦 💦दर्द तेरा सारा, काश मैं पी पाता!अश्कों को तेरे पोछ मैं जी पाता!!ताजिंदगी निभाने का वायदा किया है,जहाँ की सारी खुशियाँ तुझे मैं दे पाता!तेरी हर चाहतों पे दिल कुरवाँ हो जाता!!🐾 🐾🐾 🐾 🐾 🐾🐾 🐾🐾 शराबोर है मेरा मन!छायें हैं मेध सधन!!तिश्नगी बेहिसाब- बेताब हूँ,शराबोर हो पिधल जा
09 जुलाई 2020
20 जुलाई 2020
बाल गीत कान्हा का आज मैं गाऊँ। प्रियतम् गोप उनका बन मैं जाऊँ।।🙏🙏🌸🌸🌹🌸🌸🙏🙏🙏 🙏 "नंद गोपाला" 🙏 🙏हर कवि कृष्ण भक्त होता है'नंद' वही जो आनंद देता हैनंदन तो आनंद पाता - देता है'गोप् सदा हीं आनंद देता हैगोपालक कृष्ण कहलाते हैसूर के कृष्ण ग्वाले कहलाते हैंरागानूगा भक्ति कही गई हैप्रथम चरण रागा
20 जुलाई 2020
23 जुलाई 2020
सावनलद्द-फद्द मदहोश हो-छा गये दिलोदिमाग परखुशियों का सावनलिख दिया बुझते वज़ूद परलुट-लुटा के मुकम्मलजब होश आ झकझोरानासाज़ हुए बेहिसाबकज़ा की बरसात झेलकरडॉ. कवि कुमार निर्मल
23 जुलाई 2020
22 जुलाई 2020
22 जुलाई 2020
21 जुलाई 2020
💐💐💐★गज़ल★💐💐💐🍥🍥🍥🍥🍥🍥🍥🍥गज़लों में हदें पार होती हैंदिलदारों की खातिर--अगाज़ होती हैंआवाम की नहीं,मोहताज होती हैशर्म की आवाज--दुश्वार होती हैअनकही दास्तॉ--चिलमन के पार होती हैशरगोशी को गुनाह--करार जो देते हैवे ताज़िंदगी पल्लू--पकड़ के रोते हैंसरहदों की बात--
21 जुलाई 2020
18 जुलाई 2020
ज़िंदगी भीख में नहीं मिलती, ज़िंदगी बढ़ के छीनी जाती है "रंजन", कायरों का जीना भी कोई जीना है सिर्फ कुछ दिन गिनी जाती !! https://ghazalsofghalib.com https://sahityasangeet.com
18 जुलाई 2020
08 अगस्त 2020
🥀🥀कहानी एक फूल की🥀🥀🌳🌳🌷🌺🌺🌺🌷🌳🌳कहानी फूल की तुझे आज सुनाता हूँमत जाना कहीं-आद्योपांत सुनाता हूँऊँचे दरख़्त झूम- झूम कर ताज़िन्दगी,छाँव-बतास ओ' गुल- फल लुटाते हैं!वख्त की मार कहूँ या तूफानों से धिर,गीर-पड़ उखड़ निर्जीव हो जाते हैं!!डालें टुंग-टुंग कर मानव दो शाम,असंख्य चुल्हें जल-जठराग्नि
08 अगस्त 2020
12 जुलाई 2020
☁🌧️☁🌧️⛈️🌧️☁️⛈️☁️☆☆☆★12/07/202★☆☆☆🌧️सावन आएगा झूम के🌨️🌧️⛈️ सावन झूम के आया ⛈️🌧️⚡⚡⚡⚡⚡⚡⚡⚡⚡⚡भादो भी मन की तिश्नगी मिटाएगा।नयन मटक्का करती चपला बाला काझूला ऊँची-ऊँची पेंगें अब लगाएगा।।युवाओं का चंचल मन यहाँ- वहाँ लखजाल फेंक डोर खींच पास ले आएगा।बरसाने का कान्हा प्यारा हर बार कुँज-गलियन में रास र
12 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x