मुलाकात जिंदगी से

24 जुलाई 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (328 बार पढ़ा जा चुका है)

मुलाकात जिंदगी से

💐💐"जिंदगी से मुलाक़ात"💐💐


मुलाकात जिंदगी से पहली बार हुई,
न हुआ अहसास, न वैसा दिमाग था।
दुसरी मुलाकात हुई राह चलते,
दर्दों का न कोई पारावार था।।
मुलाकात होती रही बार-बार,
मिलना हआ बेहद आसान,
कुछ बहाना- करना कॉल था।
अपने - पराये का मन में--
न कभी आया ख्याल था।।
कभी भूख खातीर था हंगामा,
पर प्यारा सा माँ का हाथ था।
कभी खेल-कूद की मस्ती,
नुक्कड़ पर अटका रहता प्राण था।।
दिमागी खुराक मिलती रही,
दुनिया के तिलिस्म का--
हुआ कुछ-कुछ अन्दाज था।
चाँद-तारों से भरा सर पर--
खुला हुआ आसमान था।।
समझ न आया सबक सारा,
मालिक का दिया नेह भरा काम था।
कुछएक लकिरें उकेर डाली,
शरहदों के पार गया नाम था।।
मुलाकात का शिलशिला,
जद्दोज़हद सह खुशगवार गुजर गया।
कुछ पाके बेसक- हुई बहोत खुशी--
कुछ खोके ना हुआ नासाज़ था।।
रक़ीब सारे, अज़ीज हबीब बन गए,
नफ़रत का नामो-निशान न था।
महफ़ील जब भी सजी-सवँरी,
फरिस्तों में लिखा गया नाम था।।
सच कहूँ दोस्तों? साहील ओ'
हर मुक़ाम साथ-साथ था।
कवि अकेला न रहा कभी,
हमदर्द काफ़िले का साथ था।।


डॉ. कवि कुमार निर्मल

अगला लेख: आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 अगस्त 2020
🥀🥀कहानी एक फूल की🥀🥀🌳🌳🌷🌺🌺🌺🌷🌳🌳कहानी फूल की तुझे आज सुनाता हूँमत जाना कहीं-आद्योपांत सुनाता हूँऊँचे दरख़्त झूम- झूम कर ताज़िन्दगी,छाँव-बतास ओ' गुल- फल लुटाते हैं!वख्त की मार कहूँ या तूफानों से धिर,गीर-पड़ उखड़ निर्जीव हो जाते हैं!!डालें टुंग-टुंग कर मानव दो शाम,असंख्य चुल्हें जल-जठराग्नि
08 अगस्त 2020
27 जुलाई 2020
साप्ताहिक प्रतियोगिता में "प्रथम" सर्वोतकृष्ठ चयनित रचनासमुह का नाम:- साहित्यिक मित्र मंडल जबलपुर ( एम. पी.)पटल संख्या: १-२-३-४-५-६-७ एवम् ८संपर्क:- 9708055684 / 7209833141शीर्षक: आँखों के किनारे ठहरा एक आंसू💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧आँखों के किनारे ठहरा एक आंसूभक्तों का सर्वश्रेष्ठ धन है गिरते आंसू🌹🌹🌹
27 जुलाई 2020
02 अगस्त 2020
असली मित्रजिंदगी से मुलाक़ातएक बार गोष्टियों में यह बात हुई।असली मित्र कौन? बहस बेबात हुई।।धमासान चला वर्षों वाक् युद्ध।अंत में निष्कर्ष यही निकला शुद्ध।।मित्रता की सोंचे वो है पगला।हम हैं तो कोई मित्र बने हमारा।।हम न रहे लो श्मशानधाट हमारा।।साँसों के तार का ताना-बाना,जीवन हीं परम मित्र हमारा।।।मुला
02 अगस्त 2020
20 जुलाई 2020
बाल गीत कान्हा का आज मैं गाऊँ। प्रियतम् गोप उनका बन मैं जाऊँ।।🙏🙏🌸🌸🌹🌸🌸🙏🙏🙏 🙏 "नंद गोपाला" 🙏 🙏हर कवि कृष्ण भक्त होता है'नंद' वही जो आनंद देता हैनंदन तो आनंद पाता - देता है'गोप् सदा हीं आनंद देता हैगोपालक कृष्ण कहलाते हैसूर के कृष्ण ग्वाले कहलाते हैंरागानूगा भक्ति कही गई हैप्रथम चरण रागा
20 जुलाई 2020
23 जुलाई 2020
मेरा तुम्हारा फैसला होगा खुदा के सामने, "रंजन", तुमने भी तैग खींच ली हमने भी सर झुका दिया ! https://ghazalsofghalib.com https://sahityasangeet.com
23 जुलाई 2020
22 जुलाई 2020
22 जुलाई 2020
09 जुलाई 2020
💦 💦💦 💦 💦💦 💦दर्द तेरा सारा, काश मैं पी पाता!अश्कों को तेरे पोछ मैं जी पाता!!ताजिंदगी निभाने का वायदा किया है,जहाँ की सारी खुशियाँ तुझे मैं दे पाता!तेरी हर चाहतों पे दिल कुरवाँ हो जाता!!🐾 🐾🐾 🐾 🐾 🐾🐾 🐾🐾 शराबोर है मेरा मन!छायें हैं मेध सधन!!तिश्नगी बेहिसाब- बेताब हूँ,शराबोर हो पिधल जा
09 जुलाई 2020
15 जुलाई 2020
कृ
आरोहण- अवरोहण अति दूभर,जल-थल-नभ है ओत-प्रोत,समय की यह विहंगम,दहकती ज्वाला हैअंध- कूप सेखींचनिकालोहे प्रभु शीध्र,अकिंचन मित्र आया है!कृष्ण! तेरा बालसखा आया हैधटा-टोप अंधेरा, सन्नाटा छाया हैअन्धकार चहुदिस, मन में तम् छाया हैगोधुली बेला की रुन- झुन रुन- झुन,मनोहर रंगोली, दीपों की माला हैदीर्ध रात्रि का
15 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
23 जुलाई 2020
09 जुलाई 2020
14 जुलाई 2020
शा
17 जुलाई 2020
18 जुलाई 2020
22 जुलाई 2020
23 जुलाई 2020
21 जुलाई 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x