शायरी

14 अगस्त 2020   |  AYESHA MEHTA   (421 बार पढ़ा जा चुका है)

धरा से लेकर आसमान तक तेरे खून के ही निशान है

माँ के आँचल पर लिखा अमिट आजादी तेरे वीरता का पैगाम है

नमन करते हैं तुझको ऐ मेरे वतन के सच्चे महबूब

आँखें नम है लेकिन तेरी कुर्बानी का हमें अभिमान है

अगला लेख: रात बेखबर चुपचाप सी है



आलोक सिन्हा
16 अगस्त 2020

बहुत अच्छी पंक्तियाँ है ।

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
मो
16 अगस्त 2020
13 अगस्त 2020
25 अगस्त 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x