हालात और वक़्त

23 सितम्बर 2020   |  Arun choudhary(sir)   (411 बार पढ़ा जा चुका है)

वक़्त बदलना आपके हाथ में नहीं,

लेकिन हालात बदलना आपके हाथ में है।

दूरदृष्टी,पक्का इरादा और कड़ी मेहनत;

अभी ना सही कभी तो पहुंचा देगी मुकाम पर।

आगे बढ़,चुनौती स्वीकार कर;

लक्ष्य स्वयं पहुंचेगा तेरे पास चल कर।

अगला लेख: सीखा दो सबक इन गद्दारों को



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 सितम्बर 2020
मौ
मौन भी एक कला है , जो दर्शाती अपनी भावनाएं भी; मौन एक नाराजगी भी,और साथ ही प्रेम की भाषाएं भी;मौन रहना किसी का आदर भी,और सहन शक्ति की पराकाष्ठा भी।मौन मस्तिष्क में संचित ऊर्जा का रूप,कभी बन जाता सुंदरता का स्वरूप;मौन ऋषि मुनियों की साधना,यह
09 सितम्बर 2020
27 सितम्बर 2020
बू
मेरी महफिल में तूने जो शिरकत की, इसलिए मैं तेरा शुक्र गुजार रहूंगा।मैं धन्य हुआ तेरे कदमों के आगाज से,महफिल जो आबाद हुई,तेरी सुरीली आवाज से।मैं वीरान खंडहर में पनपा अकेला एक पेड़,दिन भर सुनसान मैं खड़ाजिंदगी के रंगों को तलाशता रहता हूं,आज तूने यहां आकरहे कोयल तू ने यहां अपनीकूक से इस वीरान जिंदगी म
27 सितम्बर 2020
03 अक्तूबर 2020
दि
मैंने देखी है गहराई दिल की, अनुमान ना लगा पाया था मैं,घाव इतनी गहराई तक लगा कैसे;दिल तो बडा छोटा सा लेकिन,उसमें चोंट इतनी गहरी क्यों हैं,इतने पर भी दिल से आह तक ना निकली,सब कुछ छिपा कर रखा ,घाव गहरा होने पर भी ,सामने टीस ना उभरने दी इसने;कभी कभी इस दिल ने धोखा भी खाया,उफ़
03 अक्तूबर 2020
19 सितम्बर 2020
मेरी तो तकदीर में यही लिखा है,इसी बहाने अपना दोष तकदीर पे मढ़ता है; तुम्हारी तो तकदीर बहुत ही अच्छी है,कह के अपनी तकदीर को कोसता है;चल छोड़ यार मेरी तकदीर में वह नहीं ,कह के दिल को संतोष दिलाता है;मेरी तो तकदीर साथ ही नहीं देती,कह के अपनी तक
19 सितम्बर 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x