मेरी कहानी

04 फरवरी 2021   |  Ashvini Kumar Mishra   (9 बार पढ़ा जा चुका है)

मेरी कहानी

मेरे पास आ कर कभी

मेरी कहानी भी सुनो,

मैं भी दिल के बहलाने को

क्या क्या स्वाँग रचाता हूँ,

आप ही दुख का भेस बदलकर

उन को ढूँडने जाता हूँ,

सायों के झुरमुट में बैठा

सुख की सेज सजाता हूँ......


-अश्विनी कुमार मिश्रा

अगला लेख: ख़्याल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
20 जनवरी 2021
15 फरवरी 2021
31 जनवरी 2021
ख़्
17 फरवरी 2021
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x