"गीत" चल री सजनी दीपक लेकर भर दे डगर उजास

15 नवम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (56 बार पढ़ा जा चुका है)

मापनी- 2222 2222 2212 121, मुखडा समान्त- अर, पदांत- आस


"गीत"


चल री सजनी दीपक लेकर भर दे डगर उजास

आगे-आगे दिन चलता है अवनी नजर आकाश

गिन दश दिन तक राम लड़े थे रावण हुआ निढ़ाल

बीस दिनों के बाद अयोध्या दीपक पहर प्रकाश....चल री सजनी दीपक लेकर भर दे डगर उजास


लंका जलती रही धधककर अंगद का बहुमान

बानर सेना विजय पुकारे खूब लड़े हनुमान

पर्वत को कंधे पर लादे उड़ते चले हुमास

बीस दिनों के बाद अयोध्या दीपक पहर प्रकाश....चल री सजनी दीपक लेकर भर दे डगर उजास


जय-जय जय कोशल की जय, राम रतन सियराम

जय दशरथ जय अवध विहारी जय हो जय श्रीराम

त्रेता तारे द्वापर तारे कलियुग करहु सुवास

बीस दिनों के बाद अयोध्या दीपक पहर प्रकाश... चल री सजनी लेकर दीपक भर दे डगर उजास


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "मुक्तक"



रेणु
16 नवम्बर 2018

चल री सजनी दीपक लेकर भर दे डगर उजास!!!!!
आदरणीय भइया -- सजनी से सुंदर आह्वान और निवेदन | राम रावण युद्ध और
श्री राम की विजय श्री को समर्पित इस रचना के लिए हार्दिक बधाई | सुंदर अध्यात्मिक रचना | सादर प्रणाम |

महातम मिश्रा
17 नवम्बर 2018

ॐ जय श्रीराम, ॐ जय बजरंगबली बहन, हर्षित रहें सपरिवार

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 नवम्बर 2018
"
आधार छंद - सरसी (अर्द्ध सम मात्रिक) शिल्प विधान सरसी छंद- चौपाई + दोहे का सम चरण मिलकर बनता है। मात्रिक भार- 16, 11 = 27 चौपाई के आरम्भ में द्विकल+त्रिकल +त्रिकल वर्जित है। अंत में गुरु /वाचिक अनिवार्य। दोहे के सम चरणान्त में 21 अनिवार्य है"गीत" लहराती फसलें खेतों की, झूमें गाँव किसानबरगद पीपल खलिहा
22 नवम्बर 2018
15 नवम्बर 2018
"
"पिरामिड"क्याहुआसहाराबेसहाराभूख का मारालालायित आँखनिकलता पसीना।।-1हाँचोरसिपाहीसहायतापक्ष- विपक्षअपना करमबेरहम मलम।।-2महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
15 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
"
"छंद मुक्त गीतात्मक काव्य"जी करता है जाकर जी लूबोल सखी क्या यह विष पी लूहोठ गुलाबी अपना सी लूताल तलैया झील विहारकिस्मत का है घर परिवारसाजन से रूठा संवादआतंक अत्याचार व्यविचारहंस ढो रहा अपना भारकैसा- कैसा जग व्यवहारजी करता है जाकर जी लूबोल सखी क्या यह विष पी लूहोठ गुलाबी अपना सी लू।।सूखी खेती डूबे बा
22 नवम्बर 2018
03 नवम्बर 2018
"
"मुक्तक"दीपक दीपक से कहे, कैसे हो तुम दीप।माटी तो सबकी सगी, तुम क्यों जुदा प्रदीप।रोज रोज मैं भी जलूँ, आज जले तुम साथ-क्या जानू क्या राज है, क्यों तुम हुए समीप।।-1धूमधाम बाजार में, चमक रहे घरबारचाक लिए कुम्हार है, माटी महक अपारतरह-तरह के दीप हैं, भिन्न-भिन्न लौ रंगबिकता कोई बिन कहे, कहाँ चटक त्यौहार
03 नवम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x