"गीत" चल री सजनी दीपक लेकर भर दे डगर उजास

15 नवम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (42 बार पढ़ा जा चुका है)

मापनी- 2222 2222 2212 121, मुखडा समान्त- अर, पदांत- आस


"गीत"


चल री सजनी दीपक लेकर भर दे डगर उजास

आगे-आगे दिन चलता है अवनी नजर आकाश

गिन दश दिन तक राम लड़े थे रावण हुआ निढ़ाल

बीस दिनों के बाद अयोध्या दीपक पहर प्रकाश....चल री सजनी दीपक लेकर भर दे डगर उजास


लंका जलती रही धधककर अंगद का बहुमान

बानर सेना विजय पुकारे खूब लड़े हनुमान

पर्वत को कंधे पर लादे उड़ते चले हुमास

बीस दिनों के बाद अयोध्या दीपक पहर प्रकाश....चल री सजनी दीपक लेकर भर दे डगर उजास


जय-जय जय कोशल की जय, राम रतन सियराम

जय दशरथ जय अवध विहारी जय हो जय श्रीराम

त्रेता तारे द्वापर तारे कलियुग करहु सुवास

बीस दिनों के बाद अयोध्या दीपक पहर प्रकाश... चल री सजनी लेकर दीपक भर दे डगर उजास


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "मुक्तक"



रेणु
16 नवम्बर 2018

चल री सजनी दीपक लेकर भर दे डगर उजास!!!!!
आदरणीय भइया -- सजनी से सुंदर आह्वान और निवेदन | राम रावण युद्ध और
श्री राम की विजय श्री को समर्पित इस रचना के लिए हार्दिक बधाई | सुंदर अध्यात्मिक रचना | सादर प्रणाम |

महातम मिश्रा
17 नवम्बर 2018

ॐ जय श्रीराम, ॐ जय बजरंगबली बहन, हर्षित रहें सपरिवार

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 नवम्बर 2018
"
"पिरामिड"क्याहुआसहाराबेसहाराभूख का मारालालायित आँखनिकलता पसीना।।-1हाँचोरसिपाहीसहायतापक्ष- विपक्षअपना करमबेरहम मलम।।-2महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
15 नवम्बर 2018
03 नवम्बर 2018
"
"पिरामिड"वो रीतिप्रतीतिपरंपराज्ञान अक्षरासकुचाती गईक्यों छोड़कर जाती।।-1वोशुद्धदीवालीप्रतिपालीजीवन शैलीबदलती ऋतुनव फूल खिले हैं।।-2महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
03 नवम्बर 2018
06 नवम्बर 2018
, आधार छंद--विधाता, मापनी- 1222 1222 1222 1222 समांत - आस, पदांत - होता है"गीतिका"उड़ा आकाश कैसे तक चमन अहसास होता हैहवावों से बहुत मिलती मदद आभास होता हैजहाँ भी आँधियाँ आती उड़ा जाती ठिकाने कोबता दौलत हुई किसकी फकत विश्वास होता है।।बहुत चिंघाड़ता है चमकता है औ गरजता घनबिना मौसम बरसता है छलक चौमास होता
06 नवम्बर 2018
10 नवम्बर 2018
छं
शिल्प विधान- ज र ज र ज ग, मापनी- 121 212 121 212 121 2 वाचिक मापनी- 12 12 12 12 12 12 12 12."छंद पंचचामर"सुकोमली सुहागिनी प्रिया पुकारती रही।अनामिका विहारिणी हिया विचारती रही।।सुगंध ले खिली हुई कली निहारती रही।दुलारती रही निशा दिशा सँवारती रही।।-1बहार बाग मोरिनी कुलांच मारती रही।मतंग मंद मालती सुगंध
10 नवम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x